scriptCentral Govt said, Punjab, Haryana directed to pay MSP online | केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान, देश के लाखों किसानों के खातों में ऑनलाइन जाएगी रकम | Patrika News

केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान, देश के लाखों किसानों के खातों में ऑनलाइन जाएगी रकम

  • पंजाब और हरियाणा को एमएसपी का ऑनलाइन भुगतान अगले सीजन से सुनिश्चित करने का निर्देश
  • किसानों को ऑनलाइन होने से खरीद में होने वाली धांधली में लगेगा विराम, होगा बड़ा फायदा

नई दिल्ली

Updated: February 19, 2021 05:12:31 pm

नई दिल्ली। फसलों की सरकारी खरीद में पारदर्शिता लाने और किसानों को बिचैलियों के चंगुल से मुक्त कराने के मकसद से केंद्र सरकार पूरे देश में एमएसपी का भुगतान सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक मोड से लागू करने जा रही है। केंद्र सरकार ने पंजाब और हरियाणा को भी अगले सीजन से किसानों को ऑनलाइन भुगतान सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर करीब तीन महीने से डेरा डाले किसानों में बहुसंख्यक पंजाब और हरियाणा के हैं और सूत्र बताते हैं कि दोनों प्रदेशों में किसान आंदोलन को मंडियों के आढ़तियों का समर्थन प्राप्त है। जाहिर है कि पंजाब और हरियाणा में गेहूं और धान की सरकारी खरीद में मंडियों के आढ़तियों का काफी दबदबा रहता है।

Central Govt said, Punjab, Haryana directed to pay MSP online
Central Govt said, Punjab, Haryana directed to pay MSP online

सरकारी एजेंसियां दोनों प्रदेशों में आढ़तियों के जरिए ही किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर फसल खरीदती हैं। हालांकि इसके लिए उन्हें अलग से कमीशन मिलता है फिर भी आढ़ती चाहते हैं कि किसानों को जो भुगतान होता है वह उन्हीं के जरिए हो। मगर सरकार अब यह सुनिश्चित करने जा रही है कि एमएसपी पर होने वाली खरीद के लिए किसानों को सीधे उनके खाते में ही भुगतान हो। इसलिए, केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने पंजाब और हरियाणा को एमएसपी का ऑनलाइन भुगतान अगले सीजन से सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है।

यह भी पढ़ेंः- गूगल, फेसबुक और ट्विटर ने गलत जानकारी फैलाई, अब होगी अमरीकी संसद में सुनवाई

उत्तर प्रदेश के एक आढ़ती ने बताया कि पंजाब और हरियाणा में एमएसपी का भुगतान अगर, सभी किसानों को ऑनलाइन होने लगेगा तो वहां खरीद में जो धांधली होती है वह रूक जाएगी। किस तरह की धांधली होती है। इस सवाल पर उन्होंने कहा कि दूसरे प्रदेशों का अनाज हरियाणा और पंजाब में बिकता है। मगर, जब किसानों का रजिस्ट्रेशन होगा तो सिर्फ उसी प्रदेश के किसानों का अनाज बिकेगा। इससे आढ़तियों का दबदबा भी कम होगा।

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण, रेल और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने एक दिन पहले गुरुवार को एक प्रेसवार्ता के दौरान आईएएनएस के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि फसलों की खरीद से लेकर पीडीएस के लाभार्थियों को सस्ता अनाज वितरण करने तक हर स्तर पर डिजिटलीकरण करके पारदर्शिता लाने की कोशिश की जा रही है। वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित इस प्रेसवार्ता में केंद्रीय मंत्री गोयल ने यह भी स्पष्ट किया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत पीडीएस के लाभार्थियों को किफायती दरों पर दिए जा रहे अनाजों के दाम में बढ़ोतरी का फिलहाल कोई प्रस्ताव नहीं है।

यह भी पढ़ेंः- अमेजन को भारत में बैन करने की मांग, लग गया है सबसे बड़ा आरोप

मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में फसलों की सरकारी खरीद में किसानों की बायोमेट्रिक पहचान शुरू की गई है जिससे पारदर्शिता सुनिश्चित होगी। मंत्रालय ने बताया कि भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) और सेंट्रल वेयरहाउसिंग कॉरपोरेशन (सीडब्ल्यूसी) के एसेट्स के मॉनिटाइजेशन से वेयरहाउसिंग और भंडारण के इन्फ्रास्ट्रक्चर के आधुनिकीकरण में काफी निवेश होगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

राजस्थान में इंटरनेट कर्फ्यू खत्म, 12 जिलों में नेट चालू, पांच जिलों में सुबह खत्म होगी नेटबंदीनूपुर शर्मा पर डबल बेंच की टिप्पणियों को वापस लिया जाए, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के समक्ष दाखिल की गई Letter PettitionENG vs IND Edgbaston Test Day 1 Live: ऋषभ पंत के शतक की बदौलत भारतीय टीम मजबूत स्थिति मेंMaharashtra Politics: महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने देवेंद्र फडणवीस के डिप्टी सीएम बनने की बताई असली वजह, कही यह बातजंगल में सर्चिंग कर रहे जवानों पर नक्सलियों ने की फायरिंगपंचायत चुनाव: दो पुलिस थानों ने की कार्रवाई, प्रत्याशी का चुनाव चिन्ह छाता तो उसने ट्राली भर छाता बंटवाने भेजे, पुलिस ने किए जब्तMonsoon/ शहर में साढ़े आठ इंच बारिश से सडक़ों पर सैलाब जैसा नजारा, जन जीवन प्रभावित2 जुलाई को छ.ग. बंद: उदयपुर की घटना का असर छत्तीसगढ़ में, कई दलों ने खोला मोर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.