ईपीएफओ ने कहा- पिछले 17 महीनों में मिली 76.48 लाख लोगों को नौकरी, जनवरी में रहा 8.96 लाख का आंकड़ा

ईपीएफओ ने कहा- पिछले 17 महीनों में मिली 76.48 लाख लोगों को नौकरी, जनवरी में रहा 8.96 लाख का आंकड़ा

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Mar, 22 2019 08:35:42 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • ईपीएफओ ने जारी किया पेरोल डेटा।
  • सिंतबर 2017 से ईपीएफओ जारी करता है पेरोल डेटा।
  • जनवरी 2019 में कुल 8.96 लाख लोगों को मिली नौकरी।

नई दिल्ली। नवरी माह में बीते नेट इंप्लॉयमेंट जेनरेशन बीते 17 महीनों के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। ईपीएफओ पेरोल डेटा के मुताबिक, जनवरी माह में 8.96 लाख लोगों को नौकरी मिली है। अप्रैल 2018 से ईपीएफओ पेरोल डेटा जारी करता है।, जिसमें सितंबर 2017 से डेटा के बारे में जानकारी दी गई है।


फॉर्मल सेक्टर में मिली 76.48 लाख नौकरियां

पिछले साल जनवरी माह की तुलना में इस साल जनवरी माह में इसमें 131 फीसदी की तेजी देखी गई है। पिछले साल जनवरी माह में 3.87 लाख लोगों को नौकरी मिली थी। सितंबर 2017 में, कुल 2,75,609 नौकरियों का सृजन हुआ था। सितंबर 2017 से लेकर जनवरी 2019 तक कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) की सोशल सिक्योरिटी स्कीम के तहत 76.48 लाख लोगों ने इस स्कीम को सब्सक्राइब किया है। इससे यह बात साफ हो जाती है कि फॉर्मल सेक्टर में इन 17 महीनों में 76.48 लाख लोगों को नौकरी मिली है।


जनवरी में कुल 8,96,516 लोगों को मिली नौकरी

जनवरी 2019 में ईपीएफओ में कुल 8,96,516 ने एनरोल किया है, जोकि सितंबर 2017 के बाद सबसे अधिक है। हालांकि, ईपीएफओ के इस पेरोल डेटा से यह बात भी सामने आती है कि दिसंबर माह में 7.03 लाख लोगों को नौकरी मिली है। ईपीएफओ ने सितंबर 2017 से दिसंबर 2018 के बीच के डेटा को रिवाइज भी किया है। इस दौरान 72.32 लाख के कुल आंकड़े में 6.6 फीसदी की गिरावट हुई और यह 67.52 लाख रहा। इस डेटा के मुताबिक, मार्च 2018 में नौकरियों के आंकड़ों में गिरावट दर्ज की गई है। ईपीएफओ ने इसका कारण वित्तीय वर्ष के अंतिम महीना होने की वजह बताया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned