1 लाख करोड़ के पार पहुंचा GST कलेक्शन, 6 फीसदी की आया उछाल

  • सरकार को राहत, तीन महीने बाद 1 लाख करोड़ के पार पहुंचा GST कलेक्शन
  • नवंबर में घरेलू लेन-देन पर जीएसटी संग्रह में 12 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई

नई दिल्ली। वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह नवंबर महीने में बढ़ गया है। तीन महीने के बाद नवंबर में यह एक लाख करोड़ रुपये के स्तर को पार कर गया। नवंबर में जीएसटी संग्रह एक साल पहले इसी माह की तुलना में छह फीसद बढ़कर 1.03 लाख करोड़ रुपये रहा। इससे पहले अक्टूबर में जीएसटी संग्रह 95,380 करोड़ रुपये था। बता दें कि पिछले साल नवंबर महीने में 97,637 करोड़ रुपये जीएसटी से आए थे। इस बार नवंबर में केंद्रीय जीएसटी से वसूली 19,592 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी से 27,144 करोड़ रुपये, एकीकृत जीएसटी से 49,028 करोड़ रुपये और जीएसटी उपकर से वसूली 7,727 करोड़ रुपये रही।

ये भी पढ़ें: इतने रुपए महंगा हो गया LPG सिलेंडर, घरेलू और कमर्शियल दोनों के लिए चुकाने होंगे ज्यादा पैसे

आयात से वसूल हुए 20,948 करोड़ रुपये

आयात से वसूल हुए जीएसटी की बात करें तो एकीकृत जीएसटी में से 20,948 करोड़ रुपये आयात से वसूल हुए। इसी तरह उपकर की वसूली में 869 करोड़ रुपये आयातित माल पर उपकर से प्राप्त हुए। इससे पहले सितंबर और अक्टूबर महीने में जीएसटी संग्रह में सालाना आधार पर गिरावट देखी गई थी। नवंबर में घरेलू लेन-देन पर जीएसटी संग्रह में 12 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। आपको बता दें कि जीएसटी राजस्व के लिहाज से यह इस साल में सबसे अच्छी मासिक वृद्धि है।

ये भी पढ़ें: Tata Altroz से 3 दिसंबर को पर्दा उठाएगी कंपनी, धाकड़ लुक के साथ मिलेंगे जबरदस्त फीचर्स

सरकार को बड़ी राहत

जीएसटी कलेक्शन का एक लाख करोड़ रुपए के पार पहुंचना सरकार के लिए राहत की बात मानी जा रही है। कई तरह की कटौतियों के बावजूद लगातार तीन महीने से जीएसटी कलेक्शन एक लाख करोड़ रुपए से नीचे ही चल रहा था। अगस्त में यह 98,202 करोड़ रुपए, अक्टूबर में 95,380 करोड़ रुपए और सितंबर में 91,916 करोड़ रुपए रहा था।

GST
manish ranjan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned