हरियाणा के हर घर में बनेगा गोबर गैस से खाना, सरकार ने शुरू की योजना

  • Deputy Chief Minister Dushyant Chautala ने Hisar के नया गांव में सामुदायिक Biogas Plant की दूसरी Unit शुरू
  • Haryana के सभी 138 खंडों के एक-एक गांव में इसी तर्ज पर Biogas Plant लगवाए जाने की बात कही

By: Saurabh Sharma

Updated: 06 Jul 2020, 05:11 PM IST

नई दिल्ली। आने वाले समय में हरियाणा ( Haryana ) के प्रत्येक घर में बायोगैस ( Biogas ) की मदद से बनता हुआ दिखाई देगा। वास्तव में प्रदेश के डिप्टी सीएम दुष्यंत चोटाला ( Deputy Chief Minister Dushyant Chautala ) ने हिसार स्थित नया गांव में सामुदायिक बायोगैस प्लांट ( Biogas Plant ) की दूसरी यूनिट की शुरुआत की है। दुष्यंत चौटाला ने प्रदेश के सभी 138 खंडों के एक-एक गांव में इसी तर्ज पर बायोगैस प्लांट लगाए जाने की घोषणा की है।

चौथी तिमाही में Governmet Banks को Capital की जरुरत की पड़ताल करेगा Finance Ministry

पाइप लाइन से घरों में पहुंचाई जाएगी गैस
जानकारी के अनुसार हिसार का नया गांव में सामुदायिक बायोगैस प्लांट से गोबर गैस को पाइप लाइन से हर घर तक पहुंचाया जा रहा है। इसकी कामयाबी को देखते हुए सरकार ने राज्य के सभी 138 खंडों के एक-एक गांव में बायोगैस प्लांट लगाने का ऐलान किया है। आपको बता दें डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने उकलाना हलके के नया गांव में सामुदायिक बायोगैस प्लांट, सामुदायिक केंद्र व पशु अस्पताल की शुरुआत की है।

इस कीमत उपलब्ध होगी गैस
दुष्यंत चौटाला के अनुसार इस गोबर गैस प्लांट से गांव के लोगों को सभी तरह के खर्च शामिल करके एक सिलेंडर जितनी गैस 300 रुपए से भी कम कीमत पर मिलेगी। इस योजना से आम लोगों को एलपीजी गैस पर होने वाले खर्च में काफी कमी देखने को मिलेगी। वहीं बायोगैस प्लांट से गांव में रोज निकलने वाले गोबर का उचित उपयोग होगा। बायोगैस प्लांट योजना के लिए सरकार अनुदान भी देती है। प्रत्येक राज्य में इस अनुदान का प्रोसेस अलग-अलग है। हरियाणा में गोबर गैस प्लांट के लिए हरियाणा रिन्यूवल एनर्जी डवलपमेंट एजेंसी में आवेदन करना होता है।

200 फीसदी तक बढ़ गए Vegetables Price, जानिए जून से जुलाई के बीच किस सब्जी में कितना आया फर्क

केंद्र सरकार कर रही है इस योजना पर काम
वहीं दूसरी ओर केंद्र सरकार बॉयोगैस बनाने की तकनीक के नए प्रोजेक्ट को लागू करने पर काम कर रही है। सरकार के अनुसार तेल और गैस का आयात कम करने के लिए देश को बायोगैस सेक्टर में आत्मनिर्भर बनाने पर काम करना जरूरी है। केंद्रीय पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस एवं इस्पात मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान के अनुसार केंद्र सरकार उत्तर प्रदेश में बायोगैस बनाने के 5,000 प्रोजेक्ट स्थापित करना चाहती है। प्रदेश की महिलाएं छोटी कंपनी बनाकर घरों व खेतों के कचरे और पराली से बायोगैस उत्पादन कर सकती हैं।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned