भारत ने दिया चीन को झटका, 6 उत्पादों पर लगाया प्रतिबंध

भारत ने दिया चीन को झटका, 6 उत्पादों पर लगाया प्रतिबंध

Saurabh Sharma | Publish: Jun, 15 2018 11:04:47 AM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

भारत ने चीन से आने वाले दूध और उसके उत्पादों की खराब गुणवत्ता की वजह से उन पर छह माह के लिए और प्रतिबंध लगा दिया है।

नई दिल्ली। भारत आैर चीन के लगातार मुलाकातों की वजह से दोनों देशों के बीच दोस्ती गहरी होने जा रही है। दोनों के दूसरे के साथ व्यापार बढ़ाने को प्रतिबद्घ हैं। आेपेक के मुकाबले में खड़े होेने की तैयारियां कर रहे हैं। मोदी खुद पिछले चार सालों में चार से पांच बार चीन की यात्रर करके आ चुके हैं। एेसे में साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि दोनों देशों के बीच के रिश्तों में लगातार सुधार हो रहा है। लेकिन हाल के दिनों में भारत ने चीन को बड़ा झटका भी दे दिया है। जिससे चीन खफा भी हो सकता है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर भारत ने चीन को कैसा बड़ा झटका दिया है।

उत्पादों पर लगाए प्रतिबंध
भारत ने चीन से आने वाले दूध और उसके उत्पादों की खराब गुणवत्ता की वजह से उन पर छह माह के लिए और प्रतिबंध लगा दिया है। प्रतिबंध की श्रेणी में चॉकलेट व चॉकलेट युक्त अन्य उत्पादों को शामिल किया गया है। जिन पर प्रतिबंध इस वर्ष के 23 दिसंबर तक जारी रहेगा। लेकिन इसकी गुणवत्ता में सुधार न होने पर प्रतिबंध को आगे बढ़ाया जा सकता है। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के विदेश व्यापार निदेशालय की संबंधित समिति के साथ बैठक हुई, जिसमें चीनी दूध और उसके उत्पादों पर एक बार फिर प्रतिबंध लगा दिया। खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण की ओर से मामले में 14 जून को अधिसूचना जारी की गई है।

इन्होंने लिया फैसला
भारत के खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) की भारत सरकार के संबंधित मंत्रालयों के साथ 11 जून की समीक्षा बैठक हुई, जहां चीनी दूध और उसके उत्पादों की खराब गुणवत्ता और मानव स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर डालने वाली एक रिपोर्ट सामने आई। इसके बाद चीनी उत्पाद पर प्रतिबंध का निर्णय लिया गया।

पहले भी लगाए जा चुके हैं प्रतिबंध
चीनी उत्पादों पर सबसे पहले वर्ष 2008 में छह माह का अंतरिम प्रतिबंध लगाया गया था। हालांकि इसके बाद प्रतिबंध आगे बढ़ता रहा। भारत की ओर से आखिरी बार 22 जून 2017 को 23 जून 20018 तक के लिए प्रतिबंध बढ़ाया गया था, जिसे अब 22 दिसंबर 2018 तक कर दिया गया है।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned