scriptModi govt may give bailout package of rs 1.5 lakh crore for economy | क्या मोदी सरकार कोरोना से बेहाल अर्थव्यवस्था के लिए  लाएगी 1.5 लाख करोड़ रुपए का Bailout पैकेज ? | Patrika News

क्या मोदी सरकार कोरोना से बेहाल अर्थव्यवस्था के लिए  लाएगी 1.5 लाख करोड़ रुपए का Bailout पैकेज ?

  • कोरोना के खिलाफ आर्थिक पैकेज की तैयारी
  • सरकार और RBI के बीच मीटिंग का दौर जारी
  • CII कर चुका है 2 लाख करोड़ के पैकेज की मांग
  • 21 दिनों के लिए लॉकडाउन है देश

नई दिल्ली

Updated: March 25, 2020 09:53:30 pm

नई दिल्ली: कोरोना से जूझते देश को बचाने के लिए मोदी सरकार हर तरह के कदम उठा रही है। मंगलवार को 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा के बाद अब सरकार सालों पीछे जा चुकी अर्थव्यवस्था को बचाने की तैयारी कर रही है। सूत्रों के मुताबिक सरकार अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए 1.5 लाख करोड़ का पैकेज देने की तैयारी कर रही है।

modi govt bailout package
modi govt bailout package

नाम न बताने की शर्त पर इन अधिकारियों ने बताया कि सरकार, वित्त मंत्रालय और Reserve Bank of India ( rbi ) से लगातार इस बेलआउट पैकेज के मीटिंग्स कर रही है । और आर्थिक पैकेज ( BAILOUT ) की राशि 2.3 लाख करोड़ रुपए तक हो सकती है लेकिन चूंकि मामला अभी भी डिस्कशन लेवल पर है इसीलिए राशि के बारे में कुछ कंफर्म नहीं कहा जा सकता है।

bailout.jpg

CII कर चुका है 2 लाख करोड़ के पैकेज की मांग-

Confederation of Indian Industry (CII) ने भारत सरकार से 2 लाख करोड़ रुपए के पैकेज की मांग कर चुका है। फेडरेशन का कहना है कि क्रूड ऑयल पर 10 डॉलर की कटौती से सरकार को इंपोर्ट बिल पर 15 बिलियन डॉलर की बचत होगी। इसीलिए CII के मुताबिक अगर सरकार आधार बेस्ड डायरेक्ट बेनेफिट स्कीम के तहत एक 18 या इससे अधिक उम्र के नागरिक को 5000 और 60 साल से अधिका आयु के लोगों को 10000 रुपए देना चाहेगी तो कम से कम 2 लाख करोड़ रुपए की जरूरत होगी। ऐसे में राहत पैकेज की राशि पर सभी की निगाहें होना लाजमी है।

आज हो सकती है बेलआउट पैकेज की घोषणा, कुछ ही देर में वित्त मंत्री निर्मला सीतरमण करेंगी प्रेस कांफ्रेंस

कोरोना अलर्ट: सोशल डिस्टेसिंग बनाने दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक खुले रहेंगे बाजार

डायरेक्ट पेमेंट का लिया जा सकता है सहारा-

कहा तो यहां तक जा रहा है कि अमेरिका की तर्ज पर भारत भी अपने देश के नागरिकों को डायरेक्ट पेमेंट सिस्टम से राहत देने का काम कर सकता है। इसके अलावा सरकार वित्तीय वर्ष 2020-21 में लोन अमाउंट को बढ़ा सकती है ।साथ ही सरकार अर्थव्यवस्था में कैश बढ़ाने के लिए रिजर्व बैंक से सरकार प्रतिभूतियों को खरीदने की बात कर रही है। यहां ध्यान देने वाली बात है कि महंगाई बढ़ने की वजह से आरबीआई ने कई दशकों से सिक्योरिटीज को खरीदने का काम नहीं किया है।

वहीं कोविड-19 की बात करें तो देश में अब तक 562 लोग कोरोना के शिकार हो चुके हैं इसीलिए इस महामारी को काबू में करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को पूरे देश में 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित कर दिया है।

p.jpg

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

ओमिक्रोन वायरस के इलाज में कौन सी दवा है सही, जानिए WHO की गाइडलाइनIND vs SA: साउथ अफ्रीका ने 31 रनों से जीता पहला वनडे, ये है भारत की हार का सबसे बड़ा कारण‘बुल्ली बाई’ ऐप के बाद अब ‘क्लब हाउस’ चैट में मुस्लिम महिलाओं को बनाया निशाना, महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को भेजा नोटिसटोक्यो पैरालंपिक में Gold Medal लाने वाली अवनी लेखारा तक पहुंची खास XUV700, आनंद महिंद्रा ने कहा 'Thank You'पापा के खजानें को 25 साल बाद लेकर आए घर, जानें चोरी की गई Royal Enfield Bullet को खोजने की अद्भुत कहानीसेना में भर्ती की तैयारी के दौरान लिया संकल्प, जम्मूकश्मीर से कन्याकुमारी तक करेगा पैदल यात्राक्या है IREDA, मोदी सरकार क्यों इसमें करने जा रही 1500 करोड़ रुपए का निवेश, जानिए सब कुछUP PCS Main 2021 Postponed: यूपी पीसीएस की मुख्य परीक्षा स्थगित, ये हैं नयी तारीख
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.