मौद्रिक नीति समिति के सदस्य ने आर्थिक रफ्तार पर उठाए सवाल, 8.2 फीसदी थी पहली तिमाही में जीडीपी

मौद्रिक नीति समिति के सदस्य ने आर्थिक रफ्तार पर उठाए सवाल, 8.2 फीसदी थी पहली तिमाही में जीडीपी

Ashutosh Kumar Verma | Publish: Sep, 05 2018 06:43:36 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

रविंद्र ढोलकिया के एक लेख के अनुसार, नई सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) श्रृंखला ने विनिर्माण मूल्य के अनुमान के लिए कॉर्पोरेट वित्तीय डेटा के साथ वार्षिक सर्वेक्षण उद्योग को बदल दिया है।

नर्इ दिल्ली। अभी हाल ही में सांख्यिकी मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों से पता चला था की चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में भारत का आर्थिक विकास 8.2 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रही है। लेकिन इस जीडीपी के इस रफ्तार पर मौद्रिक नीति समिति के सदस्य रविंद्र ढोलकिया ने ही सवाल खड़े कर दिए हैं। आर नागराज और मनीष पांड्या के सह-लेखक मौद्रिक नीति समिति के एक सदस्य रविंद्र ढोलकिया के एक लेख के अनुसार, नई सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) श्रृंखला ने विनिर्माण मूल्य के अनुमान के लिए कॉर्पोरेट वित्तीय डेटा के साथ वार्षिक सर्वेक्षण उद्योग को बदल दिया है। जो कि आर्थिक और राजनीतिक साप्ताहिक का नवीनतम संस्करण। है। इसके परिणामस्वरूप जीडीपी में इसकी उच्च हिस्सेदारी और पुरानी श्रृंखला की तुलना में तेज वृद्धि दर हुई है।


सभी प्रमुख अर्थव्यवस्थाआें में सबसे तेज है भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार
सांख्यिकी मंत्रालय के आंकड़ों ने शुक्रवार को दिखाया कि विनिर्माण क्षेत्र जून में तीन महीने में 13.5 प्रतिशत बढ़ गया है, जिससे व्यापक आर्थिक विकास 8.2 प्रतिशत तक पहुंच गया है जो कि किसी भी प्रमुख अर्थव्यवस्था के लिए सबसे तेज़ गति है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अमरीका आैर चीन के बीच व्यापार युद्ध (ट्रेड वाॅर) की वजह से अनिश्चितता के बीच सरकार के सुधारों और राजकोषीय समझदारी के लिए अर्थव्यवस्था के प्रदर्शन को जिम्मेदार ठहराया था।लेखकों ने लिखा, "क्या नई श्रृंखला विनिर्माण मूल्य के एक पूर्ण विवरण का प्रतिनिधित्व करती है, या यह एक अतिवृद्धि है?"


केंद्रीय बैंक ने दो बार की है पाॅलिसी दरों में वृद्धि
मौद्रिक नीति समिति और प्रबंधन प्रोफेसर के बाहरी सदस्य ढोलकिया ने लिखा, उच्च विनिर्माण वृद्धि दर "नए अनुमानों की सत्यता के बारे में गंभीर संदेहों को जन्म देती है" और "अन्य समष्टि आर्थिक सहसंबंधों के साथ भिन्नता" पर आधारित है। भारतीय रिज़र्व बैंक ने अपने पूरे साल के विकास पूर्वानुमान को 7.4 प्रतिशत पर बनाए रखा है, जबकि उच्च तेल की कीमतों और व्यापार तनाव से जोखिमों का झुकाव अब धीरे-धीरे करेंसी वाॅर यानी मुद्रा युद्ध में बदल रहा है। मुद्रास्फीति की दबाव को रोकने के लिए केंद्रीय बैंक ने जून से दो बार पॉलिसी दरों में वृद्धि की।

 

Ad Block is Banned