टोल प्लाजा पर जाने वालों के लिए आई बड़ी खुशखबरी, 1 दिसंबर से लागू होगा 'वन नेशन वन फास्टैग' नियम

  • एक दिसंबर से देश के सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर लागू होगी सुविधा
  • 'वन नेशन वन फास्टैग' योजना को लागू करेगी सरकार

नई दिल्ली। टोल प्लाजा पर लंबी-लंबी लाइनों से परेशान लोगों के लिए मोदी सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। हाईवे पर गाड़ी चलाने वाले लोगों के लिए सरकार नया नियम लाने जा रही है। इश नियम के बाद आपको टोल देने के लिए किसी भी टोल प्लाजा पर रुकने की जरुरत नहीं पड़ेगी। 1 दिसंबर से केंद्र सरकार 'वन नेशन वन फास्टैग' की योजना को लागू करने जा रही है।


1 दिसंबर से होगी लागू

इस स्कीम के लागू होने के बाद आपको अपना टोल कैश में नहीं चुकाना होगा और न ही आपको टोल पर रुक कर अपने नंबर आने का इंतजार करना होगा। सरकार के 'वन नेशन वन फास्टैग' योजना में सभी कुछ डिजिटल हो जाएगा। बता दें कि सरकार लंबे समय से लगातार कैशलेस सिस्टम को बढ़ावा दे रही है। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए मोदी सरकार ने वन नेशन वन फास्टैग को लागू करने का ऐलान किया है।

सभी टोल प्लाजा होंगे फास्टैग

'एक देश एक फास्टैग' विषय पर यहां आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गडकरी ने बताया कि अभी देश में राष्ट्रीय राजमार्गों पर कुल 527 टोल प्लाजा हैं, जिनमें से 380 टोल प्जाला के सभी लेन फास्टैग से लैस हो गए हैं। बाकी लेनों को भी फास्टैग से लैस कर रहे हैं। एक दिसंबर से देश के सभी टोल प्लाजा पर ऐसी व्यवस्था हो जाएगी।


नहीं करना होगा इंतजार

आपको बता दें कि इस समय टोल चुकाने के लिए लोगों को लंबी-लंबी लाइन में लगकर घंटो इंतजार करना पड़ता है। जिससे वाहन समय पर अपनी यात्रा को पूरा नहीं कर पाते हैं। उन्होंने बताया कि फास्टैग एक पारदर्शी व्यवस्था है जिससे टोल प्लाजा पर जाम नहीं लगेगा और यह भी पता चल जाएगा कि किस वाहन में कौन बैठा है।


क्या है FASTag

आपको बता दें कि FASTag फास्टेग एक डिवाइस है जिसे गाड़ियों में लगाया जाता है। इसके लिए सभी टोल प्लाजा पर एक अलग लेन बनी हुई है। यह रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) तकनीक पर आधारित है। अगर आफकी गाड़ी में ये टेक्नोलॉजी लगी है तो टोल बूथ से गुजरने पर अपने आप ही रिकॉर्ड दर्ज हो जाएगा। टोल का किराया सीधे बैंक खाते से काट लिया जाता है जो कि FASTag से जुड़ा हुआ है। इसके चलते ड्राइवर को टोल प्लाजा पर रुकना नहीं पड़ता है।

Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned