आखिर बजट में वित्त मंत्री ने सोने पर क्यों बढ़ाया शुल्क, सरकार ने किया खुलासा

आखिर बजट में वित्त मंत्री ने सोने पर क्यों बढ़ाया शुल्क, सरकार ने किया खुलासा

Shivani Sharma | Publish: Jul, 08 2019 02:54:41 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

Budget 2019-20 : बजट में सरकार ने सोने पर आयात शुल्क को बढ़ा दिया है, जिसके बारे में सोमवार को सरकार ने खुलासा किया है कि यह कदम क्यों उठाया गया है।

नई दिल्ली। मोदी सरकार ( Modi govt ) ने शुक्रवार को आम बजट ( union budget 2019 ) पेश किया था, जिसमें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ( Nirmala Sitharaman ) ने सोने पर आयात शुल्क ( import duty ) 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.50 फीसदी करने की घोषणा की थी। सरकार के द्वारा उठाए गए इस कदम के बारे में आज खुलासा हुआ है। यह खुलासा खुद वित्त मंत्रालय के एक आला अफसर ने किया है।


घरेलू बाजार में सोना होगा महंगा

सरकार के इस कदम से घरेलू बाजार में सोना और आभूषण महंगे होगें। सरकार ने यह प्रस्ताव ऐसे समय में लिया है जब घरेलू आभूषण उद्योग आयात शुल्क में कटौती की मांग कर रहा था। पूर्व में वाणिज्य मंत्रालय भी आयात शुल्क में कटौती की सिफारिश कर चुका है। वित्त वर्ष 2018-19 में मूल्य के हिसाब से सोने का आयात तीन फीसदी घटकर 32.8 अरब डॉलर रह गया। सोने के आयात में गिरावट से चालू खाते के घाटे (कैड) पर अंकुश रखने में मदद मिलती है।


ये भी पढ़ें: बजट में अमीरों पर टैक्स बढ़ाने से, FY-2019-20 में 30 हजार करोड़ रुपए तक बढ़ सकती है सरकार की आय


रेवेन्यू सेक्रेटरी ने दी जानकारी

रेवेन्यू सेक्रेटरी अजय भूषण पांडे का कहना है कि आर्थिक फैसले अर्थव्यवस्था की हकीकत को लेकर लिए जाते हैं न कि इस आधार पर कि कुछ लोग इसका दुरुपयोग करेंगे। आयात शुल्क बढ़ने पर सोने की तस्करी बढ़ने की आशंका लेकर सवालों के जवाब में पांडे ने यह बात कही।


गैर जरूरी चीजों के आयात को रोकने के लिए उटाया ये कदम

पांडे ने कहा है कि सरकार की यह स्पष्ट नीति है कि गैर जरूरी चीजों का आयात कम किया जाए, क्योंकि हमें गैर जरूरी आयात के लिए अपनी विदेशी मुद्रा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। निश्चित रूप से सोना उनमें से एक वस्तु हैं। देश के हित की बात करें तो सरकार के फैसले से इसका आयात थोड़ा कम होगा, यह कोई चिंताजनक नहीं है. इसलिए सरकार का यह फैसला नीतियों के अनुरूप है।


ये भी पढ़ें: गैस सिलिंडर ब्लास्ट होने पर आपको मिल सकता है 50 लाख तक का मुआवजा, जानिए कैसे


सोने पर बढ़ाया शुल्क

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने केवल इसलिए सोने पर शुल्क बढ़ाया है क्योंकि सरकार को लगता है कि कुल दिक्कतें आ सकती है और हमें गैर जरूरी चीजों का आयात नहीं घटाना चाहिए। यह कोई बहुत मजबूत आर्थिक नीति नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि कोई यह तर्क देता है कि सोने पर 12.5 फीसदी आयात शुल्क से इसकी तस्करी बढ़ेगी, तो इससे पहले 10 फीसदी का शुल्क और अन्य टैक्स नहीं तर्कसंगत नहीं थे। सवाल यह है कि इस तरह के तर्क कितने समय चलेंगे।


भारत में सबसे ज्यादा होता है सोने का आयात

वित्त वर्ष 2017-18 में बहुमूल्य धातुओं का कुल आया 33.7 अरब डॉलर रहा था। 2016-17 मं यह 27.5 अरब डॉलर और 2015-16 में 31.8 अरब डॉलर था। मात्रा के लिहाज से देखा जाए तो देश ने बीते वित्त वर्ष में 982 टन सोने का आयात किया। वित्त वर्ष 2017-18, 2016-17 और 2015-16 में सोने का आयात क्रमश: 955 टन, 778 टन और 968 टन रहा था। भारत दुनिया में सोने के सबसे बड़े आयातकों में से है। आयात से मुख्य रूप से घरेलू आभूषण उद्योग की जरूरत को पूरा किया जाता है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned