CBSE बोर्ड की नई पहल, 10वीं कक्षा में स्किल सब्जेक्ट जुड़ा, ये होगा फायदा

CBSE बोर्ड की नई पहल, 10वीं कक्षा में स्किल सब्जेक्ट जुड़ा, ये होगा फायदा

Sunil Sharma | Publish: Apr, 19 2019 12:13:53 PM (IST) | Updated: Apr, 19 2019 12:13:54 PM (IST) शिक्षा

नए सत्र में से सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने एक खास फैसला लिया है।

देशभर में स्किल को बढ़ावा देने के प्रयास किया जा रहा है। भावी पीढ़ी शुरुआत से ही अपने स्किल्स पर फोकस्ड रहे, इसे ध्यान में रखते हुए अब सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) नई पहल कर रहा है। दरअसल, नए सत्र में से बोर्ड ने एक खास फैसला लिया है। इसके अनुसार, आगामी दिनों में टेंथ के स्टूडेंट्स नए सब्जेक्ट के तौर पर स्किल सब्जेक्ट्स से जुड़ेंगे। खास बात यह है कि पिछले कुछ सालों से जहां क्लास टेंथ के स्टूडेंट्स का पहले पांच सब्जेक्ट्स से रिजल्ट डिसाइड होता था, वहीं अब नए सत्र में वे मुख्य रूप से छह सब्जेक्ट्स को पढ़ेंगे। साथ ही उनका रिजल्ट भी छह सब्जेक्ट्स से ही डिसाइड होगा।

16 सब्जेक्ट हैं शामिल
बोर्ड से मिली जानकारी के अनुसार, क्लास टेंथ के स्टूडेंट्स के लिए एक स्किल सब्जेक्ट को चुनना अनिवार्य होगा। सीबीएसई की असिस्टेंट सेक्रेटरी मौसमी सरकार ने बताया कि क्लास टेंथ के एग्जाम में इसका अलग से पेपर होगा, वहीं इसके माक्र्स भी रिजल्ट में जुड़ेंगे। इसमें फाइनेंशियल मार्केट मैनेजमेंट, आइटी, एग्रीकल्चर, बैकिंग, इंश्योरेंस सहित 16 सब्जेक्ट्स शामिल किए गए हैं।

जानकारों का कहना है कि नए सब्जेक्ट को जोडऩे से स्टूडेंट को स्कोरिंग में फायदा होगा। दरअसल स्टूडेंट्स अब मेन सब्जेक्ट्स साइंस, मैथ्स और सोशल साइंस में से यदि किसी भी एक सब्जेक्ट में फेल हो जाते हैं और स्किल सब्जेक्ट में पास होते हैं तो स्किल में हासिल किए गए मार्क्स फेल होने वाले सब्जेक्ट को रिप्लेस कर देंगे।

बोर्ड की ओर से अच्छा इनिशिएटिव लिया गया है, क्योंकि ऐसा जरूरी नहीं कि क्लास टेंथ के बाद बच्चे आगे साइंस और मैथ्स सब्जेक्ट को ऑप्ट करें, लेकिन बहुत से बच्चों का इंटरेस्ट आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस जैसे सब्जेक्ट्स पर होता है। इससे काफी स्टूडेंट्स को फायदा होगा।
- दिलीप श्रीवास्तव, साइंस टीचर, सेंट जेवियर्स स्कूल

क्लास टेंथ में पढऩे वाली आध्या बंसल के पिता प्रवीण बंसल का कहना है कि हम जब कॅरियर की बात करते हैं, तो स्किल्स की बात की जाती है। दुनियाभर में स्किल्स की बदौलत ही हमें जॉब अपॉच्युनिटी मिलती है। ऐसे में बोर्ड की यह अच्छी पहल है।
- प्रवीण बंसल, पैरेन्ट

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned