CBSE: प्रेक्टिकल एग्जाम में फुल मार्क्स देने वाले स्कूलों पर होगी कार्रवाई!

CBSE: एरर फ्री रिजल्ट की तैयारी, एग्जामिनर्स और सेंटर्स भी बढ़ाए, इंटरनल असेसमेंट व प्रैक्टिकल में फुल मार्क्स देने वाले स्कूलों की रिपोर्ट बना रहा CBSE बोर्ड

By: सुनील शर्मा

Published: 06 Jan 2020, 01:12 PM IST

CBSE: प्रैक्टिकल एग्जाम और इंटरनल असेसमेंट में गलत तरीके से स्टूडेंट्स को ज्यादा मार्क्स देने वाले स्कूलों पर सीबीएसई कार्रवाई कर सकता है। सीबीएसई के डायरेक्टर (एकेडमिक्स) जोसेफ इमानुएल ने अजमेर रीजन की नोडल एग्जामिनेशन ट्रेनर (एनईटी) की वर्कशॉप में कहा कि बोर्ड देशभर में स्कूल्स की ओर से स्टूडेंट्स को प्रैक्टिकल एग्जाम और इंटरनल असेसमेंट में दिए गए मार्क्स और उनकी थ्योरी पार्ट में स्कोर किए गए मार्क्स की रिपोर्ट तैयार कर रहा है।

ये भी पढ़ेः CBSE Board Exam: नियमों में हुआ बड़ा बदलाव, 33% मार्क्स लाने पर हो जाएंगे पास

ये भी पढ़ेः NCERT Survey: ICSE बोर्ड के छात्र CBSE बोर्ड के छात्रों से ज्यादा होनहार

अधिकांश स्कूल्स बच्चों को प्रैक्टिकल में तो करीब-करीब पूरे मार्क्स दे देते हैं, लेकिन थ्योरी में बहुत से स्टूडेंट्स 50 परसेंट मार्क्स भी नहीं ला पाते हैं। सीबीएसई ने इस संबंध में देशभर के सभी स्कूलों को निर्देशित किया है कि प्रैक्टिकल्स में फेयर मार्क्स ही दिए जाए। उन्होंने कहा कि प्रैक्टिकल में अनफेयर तरीके से ज्यादा मार्क्स देने वाली स्कूलों को शॉर्टलिस्ट कर इनकी मान्यता भी रद्द की जा सकती है।

ये भी पढ़ेः प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछी जाती है English की इन टर्म्स की फुलफॉर्म

ये भी पढ़ेः RPSC का कारनामाः -23 अंक लाने वाला बना टीचर, हाईकोर्ट में की अपील

स्पॉट इवैल्यूएशन को लेकर किया गाइड
जवाहर नगर स्थित एक स्कूल में आयोजित एनईटी वर्कशॉप में सीबीएसई अजमेर रीजन की सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) की हेड अर्चना ठाकुर, बोर्ड के डायरेक्टर (वोकेशनल) विश्वजीत साहा और जोसेफ इमानुएल ने पार्टिसिपेंटस को एग्जाम्स को लेकर गाइड किया। वर्कशॉप में राजस्थान और गुजरात की स्कूलों के प्रिंसिपल्स, वाइस प्रिंसिपल्स और सीनियर टीचर्स ने हिस्सा लिया। इस मौके पर अर्चना ठाकुर ने पावर पॉइंट प्रजेंटेशन से थ्योरी, प्रैक्टिकल एग्जाम और स्पॉट इवैल्यूएशन को लेकर पार्टिसिपेंट्स को गाइड किया।

कॉपी चैकिंग और रिजल्ट में एक्यूरेसी पर फोकस
सीबीएसई के डायरेक्टर (वोकेशनल) विश्वजीत साहा ने 10वीं और 12वीं का रिजल्ट एरर फ्री सिस्टम पर तैयार करने की बात कही। उन्होंने कहा कि जिस तरह बोर्ड स्टूडेंट के केसेज में जीरो टोलरेंस पॉलिसी पर काम करता है, ठीक वैसे ही रिजल्ट में कोई गड़बड़ एक्सेप्ट नहीं की जाएगी। एक्यूरेसी के साथ रिजल्ट जल्दी जारी करने के लिए सीबीएसई ने इस बार एग्जामिनर्स और सेंटर्स की संख्या 10 से 12 प्रतिशत बढ़ाई है। साहा ने सभी पार्टिसिपेंट्स से कहा कि इस बार कॉपी चैक करने को लेकर विशेष सावधानी बरती जानी चाहिए। इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि कॉपी में कोई अनचैक्ड पार्ट नहीं रहे।

ज्यादातर स्कूलों में प्रैक्टिकल आज से
बोर्ड इस बार रिकॉर्ड 20 दिन में रिजल्ट जारी करने की तैयारी में है। इसके लिए जयपुर सहित देशभर में एग्जामिनर्स और सेंटर्स की संख्या में बढ़ोतरी की गई है। जयपुर में पिछले साल तक कॉपी चैकिंग के 25 से 30 सेंटर्स थे, वहीं अब इन सेंटर्स की संख्या 35 तक होगी। गौरतलब है कि 10वीं और 12वीं के प्रैक्टिकल एग्जाम्स देशभर में शुरू हो चुके हैं। ज्यादातर सीबीएसई स्कूलों में प्रैक्टिकल और इंटरनल असेसमेंट सोमवार से शुरू होने जा रहे हैं। वहीं थ्योरी एग्जाम्स 14 फरवरी से शुरू होंगे।

Show More
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned