General Knowledge - कॉम्पीटिशन एग्जाम में पूछे जाते हैं ये सवाल, जानिए इनके उत्तर

General Knowledge - कॉम्पीटिशन एग्जाम में पूछे जाते हैं ये सवाल, जानिए इनके उत्तर

Sunil Sharma | Publish: Feb, 15 2019 04:25:10 PM (IST) शिक्षा

आम तौर पर कुछ प्रश्न ऐसे होते हैं जो लगभग सभी कॉम्पीटिशन एग्जाम्स में पूछे जाते हैं। ये सवाल हमारे आम जीवन से तो सीधे जुड़े नहीं होते परन्तु राष्ट्रीय तथा अन्तरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में बहुत ज्यादा महत्व रखते हैं।

आम तौर पर कुछ प्रश्न ऐसे होते हैं जो लगभग सभी कॉम्पीटिशन एग्जाम्स में पूछे जाते हैं। ये सवाल हमारे आम जीवन से तो सीधे जुड़े नहीं होते परन्तु राष्ट्रीय तथा अन्तरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में बहुत ज्यादा महत्व रखते हैं। जानिए ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब-

प्रश्न (1) कश्मीर में क्या अलग संविधान है?
हालांकि जम्मू-कश्मीर देश के दूसरे राज्यों की तरह एक राज्य है, पर हमारे संविधान ने इसे विशेष राज्य का दर्जा दिया है। इस वजह से यहां की प्रशासनिक व्यवस्था शेष राज्यों से अलग है। देश का यह अकेला राज्य है, जिसका अपना अलग संविधान भी है। संविधान के अनुच्छेद 370 के अनुसार देश की संसद और संघ शासन का जम्मू-कश्मीर पर सीमित क्षेत्राधिकार है। जो मामले संघ सरकार के क्षेत्राधिकार में नहीं हैं, वे राज्य की विधायिका के अधीन हैं। देश के शेष राज्यों की तुलना में जम्मू-कश्मीर में एक बड़ा अंतर 30 मार्च, 1965 तक और था।

जहां अन्य राज्यों में राज्यपाल का पद होता था, वहां जम्मू-कश्मीर में सदर-ए-रियासत और मुख्यमंत्री के स्थान पर वजीर-ए-आजम (प्रधानमंत्री) का पद होता था। जम्मू-कश्मीर के संविधान के अनुच्छेद 27 के अनुसार सदर-ए-रियासत का चुनाव राज्य की विधायिका के मार्फत जनता करती थी। सन 1965 में जम्मू-कश्मीर के संविधान में हुए छठे संशोधन के बाद सदर-ए-रियासत के पद को राज्यपाल का नाम दे दिया गया और उसकी नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति करते हैं।

प्रश्न (2) राज्यपाल या राष्ट्रपति शासन में क्या फर्क है?
गत वर्ष जून में मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के इस्तीफे के बाद जम्मू-कश्मीर में जब राज्यपाल शासन लागू किया गया, तब यह सवाल उठा था कि क्या यह अन्य राज्यों में लागू होने वाले राष्ट्रपति शासन से अलग है? वास्तव में यह अलग है। जहां अन्य राज्यों में राष्ट्रपति शासन भारतीय संविधान के अनुच्छेद 356 के अंतर्गत लागू किया जाता है, वहीं जम्मू-कश्मीर के संविधान के अनुच्छेद 92 के तहत राज्यपाल शासन लागू किया जाता है। यह राज्यपाल शासन छह महीने के लिए लागू होता है। इन छह महीनों के दौरान विधान सभा स्थगित रहती है या राज्यपाल चाहें तो भंग भी की जा सकती है।

छह महीने के राज्यपाल शासन के बाद या तो नई विधानसभा चुनकर आ सकती है, अन्यथा वहां अनुच्छेद 356 के तहत राष्ट्रपति शासन लागू किया जा सकता है। दोनों परिस्थितियों में राज्यपाल केन्द्र सरकार के निर्देश पर प्रशासन चलाते हैं। पर जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन फौरन नहीं लगता। पहले राज्यपाल शासन लगता है। यदि राज्यपाल इस दौरान विधानसभा भंग करते हैं, तो उसके छह महीने के भीतर चुनाव होने चाहिए। छह महीने के भीतर चुनाव नहीं होते हैं, तो कारण स्पष्ट करने होते हैं।

राज्य में राज्यपाल शासन के छह महीने की अवधि 20 दिसम्बर को पूरी हो गई है और अब वहां राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया है, जोकि छह महीने तक लागू रह सकता है। सन 1990 में लागू हुआ राष्ट्रपति शासन छह साल तक चला था। इस दौरान राज्य सूची के 61 विषयों पर कानून देश की संसद बना सकेगी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned