GK: क्या आप भी जानते हैं विज्ञान से जुड़े इन सवालों के जवाब

General Science Questions: रोजमर्रा के जीवन में हमारे साथ कई वैज्ञानिक घटनाएं घटती हैं, जिन्हें हम नजरअंदाज कर देते हैं या फिर हमें उनका पता ही नहीं चलता। हम ऐसी ही कुछ चीजों के पीछे छिपे विज्ञान के बारे में यहां जानेंगे।

By: सुनील शर्मा

Published: 15 Sep 2020, 03:01 PM IST

General Science Questions: रोजमर्रा के जीवन में हमारे साथ कई वैज्ञानिक घटनाएं घटती हैं, जिन्हें हम नजरअंदाज कर देते हैं या फिर हमें उनका पता ही नहीं चलता। हम ऐसी ही कुछ चीजों के पीछे छिपे विज्ञान के बारे में यहां जानेंगे।

प्रश्न (1) - कीड़े-मकौड़े पानी पर बिना डूबे कैसे चलते हैं?
कीड़ों का वजन इतना कम होता है कि वे पानी के पृष्ठ तनाव या सरफेस टेंशन को तोड़ नहीं पाते। पानी और दूसरे द्रवों का एक गुण है जिसे सरफेस टेंशन कहते हैं। इसी गुण के कारण किसी द्रव की सतह किसी दूसरी सतह की ओर आकर्षित होती है। पानी का पृष्ठ तनाव दूसरे द्रवों के मुकाबले बहुत ज्यादा होता है। इस वजह से बहुत से कीड़े मकोड़े आसानी से इसके ऊपर टिक सकते हैं। इन कीड़ों का वजन पानी के पृष्ठ तनाव को भेद नहीं पाता। सरफेस टेंशन एक काम और करता है। पेन की रिफिल या कोई महीन नली लीजिए और उसे पानी में डुबोएं। आप देखेंगे कि पानी नली में काफी ऊपर तक चढ़ आता है। पेड़ पौधे जमीन से पानी इसी तरीके से हासिल करते हंै। उनकी जड़ों से बहुत पतली-पतली नलियां निकलकर तने से होती हुई पत्तियों तक पहुंच जाती हैं। सन 1995 में गणेश प्रतिमाओं के दूध पीने की खबर फैली थी। वस्तुत: पृष्ठ तनाव के कारण चम्मच का दूध पत्थर की प्रतिमा में ऊपर चढ़ जाता था।

प्रश्न (2) - ओस की बूंदें गोल क्यों होती हैं?
पानी की बूंदों के गोल होने का कारण भी पृष्ठ तनाव है। यूं तो पानी जिस पात्र में रखा जाता है, उसका आकार ले लेता है, पर जब वह स्वतंत्र रूप से गिरता है तो धार जैसा लगता है, क्योंकि गुरुत्वाकर्षण शक्ति के कारण जैसे-जैसे उसकी मात्रा धरती की ओर जाती है उसी क्रम में आकार लेती है। इसके अलावा पानी के मॉलीक्यूल एक-दूसरे को अपनी ओर खींचते हैं और यह क्रिया केन्द्र की ओर होती है, इसलिए पानी टूटता नहीं। जैसे-जैसे पानी की बूंद का आकार छोटा होता है, वह गोल होती जाती है। आपने कुछ बड़ी बूंद को हल्का नीचे लटका हुआ भी पाया होगा।

प्रश्न (3) - स्मार्टफोन क्या है?
स्मार्टफोन जैसा कि नाम से स्पष्ट है सामान्य फोन से ज्यादा गुणों वाला फोन है। शुरू के स्मार्टफोन में पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट (पीडीए) जुड़ा। यानी कि कम्प्यूटर पर उपलब्ध कुछ सुविधाएं जुड़ीं। फिर सामान्य कैमरा, वीडियो कैमरा, मीडिया प्लेयर, वेब ब्राउजिंग, इंटरनेट, जीपीएस, गेमिंग, टच स्क्रीन वगैरह-वगैरह जुड़ते गए। आज एक मामूली स्मार्टफोन में इतने प्रकार की सुविधाएं हैं कि कहना मुश्किल है कि उसे फोन कहें या कुछ और।

प्रश्न (4) - हाई डेफिनिशन क्या है?
हाई डेफिनिशन आमतौर पर तस्वीर के संदर्भ में प्रयुक्त होता है। कम्प्यूटर में वही तस्वीर ज्यादा स्पष्ट होती है जिसके एक फ्रेम का रिजॉल्यूशन और मेगापिक्सेल अधिकतम हों। चित्र के साथ यही बात वीडियो और टीवी पर लागू होती है।

Show More
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned