सरकार चाहती है कि FTII विवाद सुलझेः राज्यवर्धन सिंह

सरकार फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के विवाद को सुलझाना चाहती है। सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि इस मामले में कोई भी निर्णय पुणे गई तीन सदस्यीय टीम के लौटने के बाद ही लिया जाएगा।

सरकार फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के विवाद को सुलझाना चाहती है। सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि इस मामले में कोई भी निर्णय पुणे गई तीन सदस्यीय टीम के लौटने के बाद ही लिया जाएगा।
ftii3ftii3
उत्तर-पूर्व फिल्म उत्सव का उद्घाटन करने आए राठौड़ ने पत्रकारों से कहा, ‘सरकार जल्द से जल्द मामले के सुलझने की उम्मीद कर रही है। हम चाहते हैं कि एफटीआईआई को मजबूत बनाया जाए।’ गजेंद्र चौहान की नियुक्ति के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे आंदोलनकारी छात्रों की मांग पर सवाल पूछने पर राठौड़ ने कहा कि हाल की यह घटना केवल 2008 बैच के आकलन से संबंधित है।
ftii2
राठौड़ ने कहा ‘दो दिन पहले हुई घटना जिसमें वहां पुलिस पहुंची और उन्हें गिरफ्तार किया गया। उन आठ घंटों में गजेंद्र चौहान का जिक्र भी नहीं हुआ। उन आठ घंटों में केवल 2008-2009 के बैच के आंकलन पर रोक लगाने की ही बात कही गई।’ उन्होंने कहा कि वह पाठ्यक्रम जिसे तीन वर्ष में पूरा होना था वह आठ वर्ष में भी पूरा नहीं हुआ जिसकी वजह से परेशानी उत्पन्न हुई। इसके चलते ही तीन सदस्यीय दल पुणे में है। उन्होंने कहा, ‘जब वे वापस लौट आएंगे तो छात्रों, संकाय और निदेशकों से उनकी हुई बातचीत का आंकलन करने के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा।’
ftii1
राठौड़ ने कहा कि मूल्यांकन की प्रक्रिया न तो इस सरकार द्वारा शुरू की गई और न ही हड़ताल के बाद। इसकी शुरुआत अप्रैल 2013 में हुई थी और इस बैच के छात्रों को कई चेतावनियां भी दी गई थीं।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned