स्पोर्ट्स का वेटेज लिया तो लेनी होगी फिजिकल एजुकेशन

स्पोर्ट्स का वेटेज लिया तो लेनी होगी फिजिकल एजुकेशन

Sunil Sharma | Publish: Jun, 11 2019 02:11:00 PM (IST) शिक्षा

स्पोर्ट्स सर्टिफिकेट से एडमिशन के वक्त वेटेज लेने वाले स्टूडेंट्स को अब फिजिकल एजुकेशन सब्जेक्ट लेना कम्पलसरी होगा।

यूनिवर्सिटी के संघटक राजस्थान कॉलेज में स्पोर्ट्स सर्टिफिकेट से एडमिशन के वक्त वेटेज लेने वाले स्टूडेंट्स को अब फिजिकल एजुकेशन सब्जेक्ट लेना कम्पलसरी होगा। कॉलेज के इस फैसले के बाद स्टूडेंट्स पेशोपेश में हैं कि वे एडमिशन में स्पोर्ट्स सर्टिफिकेट का फायदा ले या नहीं। एक्सपट्र्स का कहना है कि कॉलेज या यूनिवर्सिटी किसी स्टूडेंट्स को कोई सब्जेक्ट लेने के लिए बाध्य नहीं कर सकती। ये स्टूडेंट्स तय करेगा कि उसे फिजिकल एजुकेशन पढऩा है या नहीं? स्टूडेंट अपनी चॉइस के सब्जेक्ट्स पढऩे के लिए फ्री है, वो गेम खेलता है, ये उसका एडिशनल टैलेंट है।

स्टूडेंट्स का भी कहना है कि स्पोर्ट्स में पार्टिसिपेट करना और फिजिकल एजुकेशन सब्जेक्ट के रूप में पढऩा दोनों अलग-अलग है। अब हायर एजुकेशन में दूसरे सब्जेक्ट्स पढऩे हैं, लेकिन कॉलेज के इस फैसले ने परेशानी में डाल रखा है। वहीं राजस्थान यूनिवर्सिटी के फिजिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट की बात करे, तो यहां टीचर्स की कमी है। ऐसे में सवाल ये उठता है कि जब टीचर्स ही नहीं हैं, तो स्टूडेंट्स को फिजिकल एजुकेशन सब्जेक्ट पढ़ाएगा कौन?

स्टूडेंट को किसी सब्जेक्ट के चुनाव को लेकर बाध्य नहीं किया जा सकता। सब्जेक्ट का चुनाव स्टूडेंट का ही फैसला होगा। ये कॉलेज स्तर पर लिया गया निर्णय है। अगर शिकायत आती है, तो जांच कराई जाएगी
- प्रो. विजयवीर सिंह, यूजी एडमिशन कन्वीनर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned