इस बार पांच सितम्बर को केवल 45 शिक्षकों को ही राष्ट्रीय पुरस्कार मिलेंगे

इस बार पांच सितम्बर को केवल 45 शिक्षकों को ही राष्ट्रीय पुरस्कार मिलेंगे

Jameel Khan | Publish: Sep, 04 2018 12:42:50 PM (IST) शिक्षा

हर साल पांच सितम्बर को शिक्षक दिवस के अवसर पर देश के तीन सौ से अधिक शिक्षकों को राजधानी में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जाता था, लेकिन इस बार...

हर साल पांच सितम्बर को शिक्षक दिवस के अवसर पर देश के तीन सौ से अधिक शिक्षकों को राजधानी में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जाता था, लेकिन इस बार केवल 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार दिया जाएगा। राजधानी में बुधवार को यह पुरस्कार उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू देंगे और शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर ये शिक्षक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर अपने अनुभव उन्हें साझा करेंगे।

यह भी पढ़ें : एक्चुरियल कॉमन एंट्रेस टेस्ट के लिए करें आवेदन, 15 दिसंबर को होगी परीक्षा

इस बार शिक्षकों के पुरस्कार के नियमों में काफी परिवर्तन किया गया है और अब कोई शिक्षक पुरस्कार के लिए अपने नाम को भी प्रस्तावित कर सकता है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की सोमवार को जारी विज्ञप्ति के अनुसार, इस वर्ष 6692 शिक्षकों से आवेदन प्राप्त हुए थे, लेकिन इस बार केवल 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार दिया जा रहा है, जबकि हर साल तीन सौ से अधिक लोगों को यह पुरस्कार दिया जाता था। पुरस्कारों की गरिमा एवं गुणवत्ता बनाने के लिए इसकी संख्या कम की गई है।

यह भी पढ़ें : Rajasthan University : स्कूल के शिक्षक पढ़ा रहे यूरोपियन लैंग्वेज !

विज्ञप्ति के अनुसार हर जिले से तीन शिक्षकों के नाम प्रस्तावित होने के बाद उनका चयन एक समिति ने किया और इस तरह सभी राज्यों एवं केंद्र शासित क्षेत्रों से कुल 152 नाम प्रस्तावित किए गए। अब तक पहले कोई शिक्षक अपना नाम खुद प्रस्तावित नहीं करता था। इस बार शिक्षकों को अपना नाम खुद प्रस्तावित करने का प्रावधान किया गया था ताकि नए शिक्षक भी इस पुरस्कार के हकदार हो सकें। पहले कम से कम 15 साल अध्यापन करनेवाले शिक्षकों को ही पुरस्कार दिया जाता था।

यह भी पढ़ें : दीक्षांत समारोह में बोले उपराष्ट्रपति, किसानों के साथ नियमित संवाद करें वैज्ञानिक और अनुसंधानकर्ता

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में स्कूल, कॉलेज बंद
जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों के साथ झड़प में एक युवक की मौत के बाद मंगलवार को एहतियात के तौर पर कॉलेजों और माध्यमिक विद्यालयों को बंद रखा गया है। गुसू गांव में सोमवार को सुरक्षाबलों की प्रदर्शनकारियों और पथराव कर रहे लोगों के साथ झड़प हुई। इस दौरान गोलीबारी में 26 वर्षीय फयाज अहमद वानी की मौत हो गई थी।

युवक की मौत होने की खबर फैलने के साथ ही दक्षिण कश्मीर के इलाकों में तनावपूर्ण स्थिति हो गई। प्रशासन ने श्रीनगर और पुलवामा जिले के बीच रेल सेवाओं को रद्द करने के भी आदेश दिए हैं। घाटी में अन्य जगहों पर विश्वविद्यालय, कॉलेज और स्कूल सामान्य रूप से संचालित हो रहे हैं।

Ad Block is Banned