अगले साल से 12 वीं के बाद चार वर्षीय होगा बीएड कोर्स, 12वीं पास भी बन सकेंगे टीचर

अगले साल से 12 वीं के बाद चार वर्षीय होगा बीएड कोर्स, 12वीं पास भी बन सकेंगे टीचर

Sunil Sharma | Publish: Sep, 05 2018 09:03:33 AM (IST) शिक्षा

केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि अगले साल से देश में चार वर्षीय एकीकृत बीएड कोर्स शुरू होगा। इससे 12 वीं उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थी सीधे शिक्षक बनने की राह पकड़ सकेंगे।

केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि अगले साल से देश में चार वर्षीय एकीकृत बीएड कोर्स शुरू होगा। इससे 12 वीं उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थी सीधे शिक्षक बनने की राह पकड़ सकेंगे। इसके साथ ही उन्होंने साफ कर दिया कि तय अनुपात में शिक्षकों की तैनाती नहीं की गई तो केन्द्र ऐसे राज्यों को ग्रांट देना बंद कर सकता है। वहीं उन्होंने दावा किया कि 2014 में केन्द्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद शिक्षा के क्षेत्र में कई बडे बदलाव किए गए हैं। सरकार का उद्देश्य है कि सबको अच्छी शिक्षा मिले और गरीब की शिक्षा नहीं छूटे। जावड़ेकर ने यह बात शिक्षक दिवस के अवसर पर पत्रिका से खास बातचीत में कहीं। प्रस्तुत है पत्रिका से बातचीत के कुछ खास अंश-

सवाल- शिक्षक दिवस मनाने में आपके बचपन और अब में क्या अंतर आया?
जावड़ेकर-मेरी मां जिला परिषद की शिक्षक थीं, जिसकी वजह से मुझे इस दिन का महत्व पता है। वैसे भी गुरु बिना ज्ञान नहीं मिलता है। हमारी सरकार बनने के बाद इस दिन शिक्षकों को सम्मानित करने की प्रक्रिया में बदलाव किया। स्कूलों में नवाचार तथा शिक्षा के क्षेत्र में अलग करने वालों को सम्मानित करना शुरू किया।

सवाल- शिक्षक को रोल मॉडल माना जाता है, लेकिन केन्द्र सरकार ने शिक्षा के बजट में कमी कर दी।
जावड़ेकर-यह गलत आरोप है, 2013-14 में एचआरडी का बजट 63 हजार करोड़ था, जो अब 85 हजार करोड़ रुपए हो गया। जबकि उच्च शिक्षा के लिए हीफा योजना शुरू की गई है। इसमें इस साल 25 हजार करोड़ रुपए दिए जा रहे हैं। हम शिक्षा का महत्व समझते हैं और इसलिए शिक्षक, प्रशासन, अभिभावक और छात्र हर जने की जवाबदेही तय कर रहे हैं। शोध-अनुंसधान बढ़ाने के लिए 1500 स्कूलों में अटल टिंकिंग लैब खोली गई है। जहां रोबोटिक्स, 3 डी प्रिंटिंग समेत अन्य तरह के शोध हो सकेंगे।

सवाल- 15 लाख स्कूल, 50 हजार कॉलेज और 900 विश्वविद्यालय हैं? इसके बावजूद शिक्षा की जीडीपी 1.2 फीसदी, एक लाख स्कूल एकल शिक्षक के भरोसे हैं, ऐसा क्यों?
जावड़ेकर-सरकार ने 25 साल तक सर्व शिक्षा अभियान चलाया, जिसका अच्छे परिणाम आए। हमने अब समग्र शिक्षा अभियान शुरू किया है।

राजनीति में खराब लोग आएंगे तो नीति भी खराब बनेगी
जावड़ेकर ने पत्रिका के चेंजमेकर अभियान की तारीफ की। उन्होंने कहा कि राजनीति और राजनेताओं को गाली देने से काम नहीं चलेगा। देश की नीतियां सरकार और नेता बनाते हैं। यदि राजनीति में खराब लोग आएंगे तो नीतियां भी खराब बनेंगी। ऐसे में समाज को बदलाव लाने वाले अच्छे लोगों को राजनीति का हिस्सा बनना चाहिए। भाजपा हमेशा से अच्छे लोगों को टिकट देती रही है।

Ad Block is Banned