निजी संस्थानों में प्रवेश के समय एससी स्टुडेंट्स से नहीं ली जाएगी ट्यूशन फीस

निजी संस्थानों में प्रवेश के समय एससी स्टुडेंट्स से नहीं ली जाएगी ट्यूशन फीस

Jameel Khan | Publish: Jul, 14 2018 11:57:49 AM (IST) शिक्षा

पंजाब के अनुसूचित जाति, पिछड़ी श्रेणी एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री साधु सिंह धर्मसोत ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि पंजाब के निजी शैक्षणिक संस्थानों में.....

पंजाब के अनुसूचित जाति, पिछड़ी श्रेणी एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री साधु सिंह धर्मसोत ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि पंजाब के निजी शैक्षणिक संस्थानों में अनुसूचित जाति (एससी) विद्यार्थियों को प्रवेश से वंचित नहीं रखा जा सकता और प्रवेश के समय निजी संस्थान अनुसूचित जाति (SC) विद्यार्थियों से ट्यूशन फीस नहीं लेंगे क्योंकि इस संबंधी केंद्र सरकार के सामाजिक न्याय और सशक्तीकरण मंत्रालय ने अपने पहले जारी किए पत्र को लेकर स्पष्टीकरण जारी किया है।

यह भी पढ़ें : https://www.patrika.com/education-news/inflation-proving-hurdle-for-preparation-in-competitive-exam-3088833/?ufrm=ssto

धर्मसोत ने बताया कि केंद्र सरकार ने अपने ताजा जारी पत्र में राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को कहा है कि शैक्षणिक संस्थानों में प्रवेश के समय संबंधित अनुसूचित जाति विद्यार्थी की पोस्ट मैट्रिक स्कॉलर शिप हासिल करने संबंधी योग्यता की जांच कर सकती हैं और अगर वह योग्य पाए जाते हैं तो ऐसे विद्यार्थियों की फीस भरने की तारीख वजीफे का भुग तान संबंधित विद्यार्थी के खाते में जमा होने तक बढ़ाई जा सकती है।

यह भी पढ़ें : https://www.patrika.com/education-news/bikaner-technical-university-grants-affiliation-to-42-colleges-1-3089419/?ufrm=ssto

धर्मसोत ने बताया कि अगर जरूरत पड़े तो निजी शैक्षणिक संस्थान प्रवेश लेने वाले अनु सूचित जाति विद्यार्थी से यह भरोसा भी ले सकती है कि वह (विद्यार्थी) वजीफा राशि प्राप्त होने के बाद फीस संबंधित संस्था के पास जमा करवा देगा। धर्मसोत ने बताया कि पोस्ट मैट्रिक स्कॉलर शिप के अंतर्गत अनुसूचित जाति (SC) विद्यार्थियों के विभिन्न शैक्ष णिक संस्थानों में प्रवेश और फीस न लेने संबंधी पंजाब के संबंधित विभागों के प्रमुखों, निदेशक, तक नीकी शिक्षा एवं औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग (पोली टेकनिक और इंजी नियरिंग विंग), निदे शक, तक नीकी शिक्षा और औद्योगिक प्रशि क्षण विभाग (आईटीआई विंग), प्रबंध निदेशक, पंजाब स्वास्थ्य प्रणाली निगम, राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संस्था, डी.पी.आई. (कॉलेजों), डी.पी.आई. (सेकेंडरी शिक्षा), निदेशक, अनुसंधान और चिकित्सा शिक्षा, निदेशक, पशु पालन और निदेशक, एस.सी.ई.आर.टी. आदि को दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें : https://www.patrika.com/education-news/gujarat-this-collapsed-bridge-is-helping-kids-to-reach-school-3088482/?ufrm=ssto

 

Ad Block is Banned