अब आया सुपरकम्प्यूटर्स से भी लाखों गुणा तेज कम्प्यूटर, जाने खासियत

अब आया सुपरकम्प्यूटर्स से भी लाखों गुणा तेज कम्प्यूटर, जाने खासियत
Google made Quantum Computer

Sunil Sharma | Updated: 23 Sep 2019, 05:51:37 PM (IST) शिक्षा

Quantum Computer: गूगल के क्वांटम प्रोसेसर साइकामॉर ने अविश्वसनीय रूप से एक गणना को मात्र 3 मिनट और 20 सैकंड में पूरा कर लिया जिसे कोई भी अन्य सुपर कम्प्यूटर 10,000 वर्ष में पूरा कर पाता।

Quantum Computer: कम्प्यूटर की दुनिया में गूगल ने इतिहास रचकर बड़ी सफलता हासिल की है। गूगल के क्वांटम प्रोसेसर साइकामॉर ने अविश्वसनीय रूप से एक गणना को मात्र 3 मिनट और 20 सैकंड में पूरा कर लिया जिसे कोई भी अन्य सुपर कम्प्यूटर 10,000 वर्ष में पूरा कर पाता।

ये भी पढ़ेः दोस्त से सिर्फ 25 रुपए उधार लेकर भागे लड़के ने यूं खड़ा किया अपना साम्राज्य, पढ़े पूरी कहानी

ये भी पढ़ेः रोज एक डॉलर के दान से गांव का सरकारी स्कूल बना हाईटेक, निजी स्कूलों को दी मात

गूगल ने इस रिसर्च पेपर को नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) की वेबसाइट पर पोस्ट किया था लेकिन बाद में हटा लिया। फाइनेंशियल टाइम्स के अनुसार गूगल का रिसर्च पेपर अब पेस्टबिन साइट पर उपलब्ध है।

क्वाटंम कम्प्यूर होड़
आईबीएम, माइक्रोसॉफ्ट, इंटेल आदि कंपनियां क्वांटम कम्प्यूटर विकसित कर रही हैं। गूगल ने क्वांटम कम्प्यूटर प्रोसेसर साइकामॉर पर जानकारी सार्वजनिक नहीं की है।

ये भी पढ़ें : Diploma Courses After 12th - मैथ्स के स्टूडेंट्स 12 वीं के बाद कर सकते हैं ये डिप्लोमा कोर्स

ये भी पढ़ें : Best Courses After 12th : बेहतरीन करियर के लिए बारहवीं के बाद करें ये कोर्सेज

क्या है क्वांटम
क्वांटम कम्प्यूटर ऑन ऑफ दोनों स्टेट में रहता है। क्वांटम मैकेनिक्स एटम (अणु) के पार्टिकल्स (पदार्थ) को सूक्ष्म रूप में तेजी से संचालित करता है। इससे गणना तेज होती है।

कम्प्यूटरों का बदलता स्वरूप
दशकों से आधुनिक कम्प्यूटर बाइनरी कोड पर आधारित होते हैं। इसके बाद क्लासिकल कम्प्यूटरों ने जीरों और वन्स पर आधारित बिट्स टेक्नोलॉजी अपनाई। अब क्वांटम कम्प्यूटर प्रोसेसर में सुपरपोजीशंस से पार्टिकल्स से गणना को बहुत तेज किया जा सकता है।

क्वांटम टेक्नोलॉजी

  • इस टेक्नोलॉजी के जरिए हैल्थकेयर, कम्यूनिकेशन, फाइनेंशियल सर्विसेज, ट्रांसपोर्ट, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के क्षेत्र में बड़े कार्य होंगे।
  • साइबर सुरक्षा को बड़ा खतरा भी है क्योंकि इससे परंपरागत इंटरनेट सिक्योरिटी प्रोग्राम्स को भी ब्रेक किया जा सकता है।
  • क्वांटम प्रोसेसर सुपरकंडक्टिविटी यानी पूर्ण जीरों डिग्री तापमान पर कार्य करते हैं। तापमान में फर्क से क्यूबिट पर असर होता है।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned