पेपर लीक की घटनाअों को रोकने के मकसद से महाराष्ट्र बोर्ड के 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए परीक्षा के नियम कड़े कर दिए गए हैं। नए नियम के अनुसार अगर कोर्इ छात्र परीक्षा केंद्र पर परीक्षा शुरू होने से एक मिनट की भी देरी से पहुंचता है तो उसे परीक्षा में नहीं बैठने दिया जाएगा। इसके साथ ही परीक्षा समाप्त होने के निर्धारित समय से पहले किसी छात्र को परीक्षा केंद्र से बाहर जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

इस नए नियम से पहले छात्रों को परीक्षा भवन में पहुंचने के लिए पेपर शुरू होने के समय से 30 मिनट की मोहलत दी जाती थी। जिसके आधार पर कोर्इ भी छात्र पेपर शुरू होने के बाद 30 मिनट के अंतराल तक परीक्षा केंद्र में उपस्थित होकर परीक्षा दे सकता था।

पेपर लीक की घटना के बाद लिया फैसला- मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल पेपर लीक की घटना के कारण इस साल राज्य बोर्ड को यह कड़ा कदम उठाना पड़ा है। क्योंकि पिछले साल 12वीं क्लास के कई पेपर सोशल मेसेजिंग ऐप्स पर उपलब्ध हो गए थे। जिसका फायदा उठाते हुए कुछ छात्र देर से परीक्षा केंद्र पर पहुंचे।

शिक्षा विभाग से मिली मंजूरी-राज्य के बोर्ड ने आधे घंटे के ग्रेस पीरियड को खत्म करने का प्रस्ताव राज्य शिक्षा विभाग के समक्ष रखा था। इस प्रस्ताव को शिक्षा विभाग की मंजूरी मिलने के बाद बुधवार को बोर्ड की ओर से जारी नोटिस में कहा गया, 'एग्जाम शुरू होने के बाद छात्रों को न तो एग्जाम हॉल में प्रवेश और न ही निर्धारित समय से पहले हॉल से बाहर जाने की अनुमति मिलेगी।'

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned