Success Mantra: गांठ बांध लें, सफलता आपके कदम चूमेगी

सफलता को ये मूल मंत्र है- नकारात्मकता को त्यागें और आगे बढ़ें...आगे बढ़ते रहें...

By: dilip chaturvedi

Published: 16 May 2018, 06:24 PM IST

सफलता, जीवन का एक ऐसा बीज है, जिसे हर कोई बोना चाहता है और सफल रूपी फसल काटना चाहता है। लेकिन, सफलता उसी को मिलती है, जो वाकई सफल होना चाहता है। सफलता की चाह रखना और सफल होना...दो अलग बाते हैं। असल में जीवन के सफर में आगे बढऩे के लिए, सफलता पाने के लिए इंसान तरह-तरह के कदम उठाता है, चाहे नौकरी करने वाला हो या बिजनेस करने वाला...सफलता के लिए पूरी मेहनत करता है। चूंकि, कई बार मेहनत का पूरा फल नहीं मिल पाता। ऐसे में विफलता के बारे में सोचने की बजाय आगे बढ़कर सफलता के बारे में सोचना चाहिए। यहां हम सफलता पाने व सफल होने की कुछ बातें शेयर कर रहे हैं, जिन्हें गांठ की तरह जीवन में बांध लें...यकीनन, आप कभी विफल नहीं होंगे।

वक्त के साथ बदलें...
इस दुनिया में आज जो सफलता के शिखर में हैं, वो सभी वक्त के साथ खुद को बदला है। हर किसी को यह समझने की जरूरत है कि बदलाव संसार का नियम है। बदलाव आते रहते हैं और जो इन बदलावों के साथ आगे बढ़ता है, वहीं अपने जीवन को भी बदल पाता है। ऐसा कतई नहीं सोचें कि बदलाव आपको बदलेगा...बल्कि इसके लिए आपको खुद आगे बढऩा होगा।

अनुभवों से सीखें सफलता की सीढ़ी चढऩा...
बेशक, जीवन लंबा है, लेकिन कुछ पाने व सफल होने का समय ज्यादा लंबा नहीं है। ऐसे में वक्त के साथ जो बदलावों को अपना लिया, वह नए-नए अनुभवों के साथ सफलता की सीढ़ी दर सीढ़ी चलता चला जाता है।

सफलता से दूर करती हैं निराशावादी सोच...
जीवन के सफर में जो निराशाजनक बातें घटित होती हैं, उन्हें अतीत बन जानें दें। अतीत कभी वर्तमान को नहीं बनाता, बल्कि वर्तमान की सफलता भविष्य के कंधों पर होती। यदि वाकई आपको कुछ पाने की चाहत है, तो सबसे पुरानी बातों से तौबा करना होगा, क्योंकि निराशावादी सोच सफलता से दूर कर देती है।

हमेशा नया सीखें...
सीखने की कोई उम्र नहीं होती...इसे ताउम्र किसी से भी सीखा जा सकता है। सफलता पाने के लिए इंसान को सीखने से कभी पीछे नहीं हटना चाहिए। अगर किसी के पास सिखाने की कला है, तो ये मानकर चलिए कि सीखने की कला भी होनी चाहिए। यही कला आपका भविष्य संवार सकती है। दरअसल, नया सीखने से सफलता मिलने के चांसेज अधिक हो जाते हैं।

नकारात्मकता को त्यागें...
सफलता को ये मूल मंत्र है- नकारात्मकता को त्यागें और आगे बढ़ें...आगे बढ़ते रहें। सफल होने के लिए सकारात्मक सोच का होना बहुत जरूरी है। मन में किसी भी तरह का डर...दुविधा न पालें...। ये कभी न सोचें कि ऐसा करने से कहीं कुछ गलत न हो जाए। अपने काम को लेकर सकारात्मक रहेंगे तो सकीनन सफलता आपके कदम चूमेगी।

 

 

dilip chaturvedi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned