हरियाणा में तीसरे सैनिक स्कूल को केंद्र सरकार की मंजूरी

हरियाणा में तीसरे सैनिक स्कूल को केंद्र सरकार की मंजूरी

Jamil Ahmed Khan | Updated: 17 Dec 2018, 05:58:31 PM (IST) शिक्षा

केंद्र सरकार ने हरियाणा के झज्जर जिले के मातनहेल गांव में सैनिक स्कूल स्थापित करने को मंजूरी प्रदान कर दी है।

केंद्र सरकार ने हरियाणा के झज्जर जिले के मातनहेल गांव में सैनिक स्कूल स्थापित करने को मंजूरी प्रदान कर दी है। राज्य में यह तीसरा सैनिक स्कूल होगा तथा जल्द ही इस सम्बंध में केंद्र और राज्य सरकार के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। एक सरकारी प्रवक्ता ने सोमवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि राज्य से बड़ी संख्या में युवाओं के सेना में भर्ती होने के मद्देनजर यहां एक और सैनिक स्कूल की जरूरत महसूस की जा रही थी। राज्य सरकार के प्रयासों की बदौलत जनता की यह लम्बे अर्से से चली आ रही यह मांग भी पूरी हो गई है। सैनिक स्कूल मातनहेल की ग्राम पंचायत द्वारा प्रदान की गई 38 एकड़ भूमि पर स्थापित किया जाएगा जिसके लिए राज्य सरकार 50 करोड़ रुपए मुहैया कराएगी और डीड का डेढ़ करोड़ रुपए वार्षिक प्रदान करेगी।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को पत्र लिखकर मातनहेल गांव में एक सैनिक स्कूल स्थापित करने का अनुरोध किया था ताकि राज्य के युवाओं का रक्षा बलों में भर्ती होकर राष्ट्र की सेवा करने का सपना पूरा हो सके। पत्र में कहा गया कि हरियाणा से बड़ी संख्या यानि लगभग 10 प्रतिशत युवा नियमित रूप से सशस्त्र बलों में भर्ती होते हैं। पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडीस ने सात सितम्बर 2003 को स्कूल का शिलान्यास किया था। हालांकि, पिछली कांग्रेस सरकार द्वारा किए गए प्रयासों के बावजूद यह परियोजना सिरे नहीं चढ़ सकी।

प्रवक्ता ने बताया कि राज्य सरकार सैनिक स्कूल के लिए आवश्यक भूमि, भवन, फर्नीचर, परिवहन और शैक्षणिक उपकरणों पर होने वाले समस्त पूंजीगत खर्च के अलावा बाद के खर्चों का एक बड़ा हिस्सा वहन करेगी। स्कूल के लिए उपलब्ध कराई भूमि को पट्ट पर सैनिक स्कूल सोसाइटी को सौंपा जाएगा और रक्षा मंत्रालय के निर्देशानुसार समय-समय पर उसका नवीनीकरण किया जाएगा। राज्य सरकार समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के राज्य के सभी लड़कों को गवर्नर्स बोर्ड द्वारा समय-समय पर तय दरों और आय स्लैब के आधार पर छात्रवृत्तियां भी प्रदान करेगी।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned