UGC-NET 2019: ऐसे करें तैयारी तो बढ़िया होगा एग्जाम

यूजीसी-नेट 2019 परीक्षा का आयोजन 20-28 जून, 2019 के बीच होगा।

By: सुनील शर्मा

Published: 12 Jun 2019, 06:07 PM IST

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) की ओर से आयोजित यूजीसी-नेट 2019 परीक्षा का आयोजन 20-28 जून, 2019 के बीच होगा। असिस्टेंट प्रोफेसर और जूनियर रिसर्च फेलोशिप के लिए ली जाने वाली इस कम्प्यूटर बेस्ड परीक्षा में कुल दो पेपर होंगे। जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन की तैयारी के लिए अहम टिप्स अपना सकते है-

  • पहले जिस तरह से एक ही पेपर में पीआर, एडवरटाइजिंग या अन्य से संबंधित प्रश्न को एक ही टॉपिक में पूछ लिया करते थे वैसा अब नहीं है। इस बार इस वर्ष के सिलेबस में हर विषय को अपनी एक अलग जगह दी है। इस बदलाव से अभ्यर्थी को पत्रकारिता विषय के तहत टॉपिक्स में कंफ्यूज होने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
  • दो शिफ्टों में आयोजित होने वाली इस परीक्षा के लिए स्टूडेंट को परेशान होने की जरूरत नहीं। सबसे ज्यादा अंक पेपर-। में लाया जा सकते हैं। इसमें डेटा इंटरप्रिटेशन और पैसेज संबंधी प्रश्नों पर ज्यादा ध्यान देंगे तो अच्छे अंक प्राप्त किए जा सकते हैं। इस बार परीक्षा ऑनलाइन होने से पैसेज को पढऩे में समय ज्यादा लगता है। इसके लिए जरूरी है कि पैसेज को एक बार में ही अच्छे से फोकस करके पढ़ लें ताकि प्रश्नों के उत्तर खोजने के लिए पैसेज बार-बार न पढऩा पड़े।
  • अक्सर स्टूडेंट्स तैयारी के लिए गाइड से पढऩे की कोशिश करते हैं। अच्छा होगा की आप पढ़ाई करने के बाद गाइड को प्रेक्टिस का विकल्प बनाएं।
  • पिछले पांच सालों के पुराने प्रश्न-पत्रों को हल कर तैयारी मजबूत कर सकते हैं। इससे पेपर पैटर्न समझ आएगा और किस टॉपिक को कितना समय दी गई है, इससे पता चल सकेगा।
  • प्रश्न-पत्र में आने वाले कथन-निष्कर्ष वाले प्रश्नों को हल करने से पहले बेहतर होगा कि प्रश्न को पढक़र समझें और फिर व्यावहारिक और सैद्धांतिक अर्थ को समझें।
  • कई बार स्टूडेंट प्रश्न से ज्यादा विकल्प को समझने में ज्यादा समय लगाते हैं। आप कोशिश करें कि सबसे पहले प्रश्न को अच्छे से पढक़र समझें फिर आपको विकल्प को समझने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। साथ ही आप टाइम मैनेजमेंट का ध्यान रखें।
  • समसामयिक घटनाओं की तैयारी के लिए नियमित रूप से अखबार व मैग्जीन को पढ़ सकते हैं। परीक्षा से कुछ दिन पहले से यदि इन घटनाओं के बने नोट्स का एक बार रिवीजन दोबारा कर लिया जाए तो परीक्षा में दिमाग लगाने की ज्यादा जरूरत नहीं पड़ेगी।
  • इस बार सिलेबस में मैथेमेटिक्स के सवाल पिछले वर्ष के पेपर की तुलना में ज्यादा आ सकते हैं। इसलिए अच्छा होगा यदि आप इस विषय की तैयारी अच्छे से ज्यादा समय देकर करें। प्रेक्टिस के लिए गाइड बुक्स के अलावा प्रतियोगी परीक्षाओं में उपयोगी किताबों की मदद ली जा सकती है।
  • कोशिश करें कि मार्केट में उपलब्ध किताबों को आधारभूत तैयारी की बजाय केवल प्रेक्टिस के लिए प्रयोग में लें।
  • पत्रकारिता विषय में यदि आप विभिन्न टॉपिक्स की तैयारी इंटरनेट से भी करते हैं तो अच्छी नॉलेज प्राप्त हो सकती है।
  • पेपर-। में पूछे जाने वाले लैंग्वेज बेस्ड प्रश्नों के लिए ग्रामर या भाषा पर आधारभूत ज्ञान को पढ़ें। इसके लिए आप स्कूली स्तर की भाषा पर आधारित किताबों की मदद ले सकते हैं।
  • भाषा के मामले में यदि आपको सवाल समझ न आए तो द्विभाषीय पेपर में दोनों प्रश्नों को पढ़ सकते हैं।
  • प्रिंट जर्नलिज्म, मीडिया लॉ एंड एथिक्स, एडवरटाइजिंग एंड पब्लिक रिलेशंस, ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म (टीवी/रेडियो ब्रॉडकास्ट), मीडिया मैनेजमेंट, डेवलपमेंट कम्युनिकेशन, न्यू मीडिया एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी और मीडिया रिसर्च टॉपिक की प्रेक्टिस अधिक करें।
  • विषय संबंधी पुस्तकों के अलावा आप यूजीसी की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन स्टडी मैटीरियल को भी एक्सप्लोर कर सकते हैं।
  • जनसंचार के अलावा पत्रकारिता के विभिन्न प्रकार के बारे में जानने के लिए केवल किताबी ज्ञान काफी नहीं होगा। इसके लिए विभिन्न संस्थानों की कार्यप्रणाली को समझने के अलावा उनके बारे में भी जाना जा सकता है।
  • पत्रकारिता के इतिहास से संबंधित कई प्रश्नों को पेपर में पूछा जाता है। इसकी तैयारी के लिए एक विकल्प पुराने प्रश्न पत्रों में सैम्पल प्रेक्टिस हो सकती है। दूसरा तरीका इस टॉपिक पर आधारित पुस्तकों को भी पढ़ा जा सकता है।
  • देश विदेश में मौजूद पत्रकारिता और जनसंचार संबंधी संस्थानों और कार्यालयों के बारे में जानकारी के लिए इंटरनेट पर उनसे संबंधित विस्तृत जानकारी को पढ़ सकते हैं। वहां की कार्यव्यवस्था को समझना भी परीक्षा में सहायक हो सकता है।
  • इस फील्ड से संबंधित व्यक्तियों के बारे में पढ़ें, जैसे कि प्रसार भारती, दूरदर्शन आदि के चेयरपर्सन कौन रहे और कौनसा समाचार पत्र कहां से प्रकाशित होता था जैसे कई सवालों की प्रेक्टिस पुराने प्रश्न पत्रों और गाइड से कर सकते हैं।
Show More
सुनील शर्मा Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned