scriptAfter Amarinder, BJP in strong position with Sirsa's entry | Punjab Election 2022: अमरिंदर के बाद सिरसा, कैसे पंजाब में भाजपा अपनी जड़ें मजबूत कर रही है | Patrika News

Punjab Election 2022: अमरिंदर के बाद सिरसा, कैसे पंजाब में भाजपा अपनी जड़ें मजबूत कर रही है

वर्ष 2017 में बीजेपी अकाली दल के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ी थी, और केवल तीन सीट ही जीत पायी थी। अगले वर्ष 2022 के विधानसभा चुनावों में अब पंजाब की जनता भाजपा को एक बड़े विकल्प के तौर पर देख सकती है।

नई दिल्ली

Published: December 02, 2021 01:28:42 pm

पंजाब चुनावों से पहले अकाली दल के नेता मंजिन्दर सिंह सिरसा ने भाजपा का दामन थाम लिया है। इससे अकाली दल को बड़ा झटका तो लगा ही है साथ ही अमरिंदर के बाद सिरसा का साथ मिलने से भाजपा को मजबूती मिली है। कैसे अमरिंदर और सिरसा भाजपा के लिए पंजाब के आगामी विधानसभा चुनावों में फायदेमंद साबित हो सकते हैं इसे समझते हैं।
sirsa_amarinder_bjp_punjab.jpg
जट सिखों को साधना होगा आसान

पंजाब के ज़्यादातर जाट सिख है, जिन्हें पंजाबी में जट सिख भी कहते हैं। ये पंजाब की आबादी का 30-40 फीसदी हैं। सिखों के बीच मजबूत प्रभाव रखने वाले मंजिन्दर सिंह सिरसा की एंट्री से भाजपा के लिए जट सिखों को साधना आसान हो जाएगा।
sirsa_bjp.jpgपंजाब में जाट मूल रूप से किसान हैं और ये मुख्य रूप से खेती करते हैं। किसान आंदोलन में भी सिरसा ने जमकर भाग लिया था। अब भाजपा को इस समुदाय को साधने के लिए एक बड़ा चेहरा मिल गया है।
वोट बैंक किया मजबूत

भाजपा का फोकस पहले प्रदेश की उन सीटों पर थी जहां हिंदु वॉटर्स की संख्या अधिक है और किसान आंदोलन का प्रभाव भी कम था। कृषि कानून वापस लेकर भाजपा ने अन्य सीटों पर भी फोकस करना शुरू कर दिया। पंजाब में पहले ही अमरिंदर सिंह ने गठबंधन की घोषणा कर भाजपा के वोट बेस को मजबूत करने का काम किया है।
amarinder_singh.jpgअमरिंदर, जो खुद जट सिख हैं, पंजाब में जट और दलित दोनों सिखों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। पंजाब में जट सिखों के बाद दलित सिखों की आबादी सबसे अधिक है। इसके साथ ही अपनी राष्ट्रवादी छवि के कारण उन्हें पंजाबी हिंदुओं का समर्थन भी प्राप्त है।
पहले ही पंजाब के राज्य में भाजपा को नॉन जाट सिख समेत हिन्दू और पूर्वांचल के प्रवासी लोगों का समर्थन प्राप्त है। अब अमरिंदर सिंह और सिरसा के साथ आने से भाजपा का जनाधार राज्य में बढ़ेगा और हो सकता है कई सीटों पर इसका प्रभाव भी दिखाई दे।
कांग्रेस, AAP और अकाली दल कमजोर स्थिति में

भाजपा राज्य में अन्य दलों की कमजोर स्थिति का फायदा भी उठाया सकती है। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस राज्य में आंतरिक मतभेद से जूझ रहे हैं। वहीं अकाली दल आज भी पंजाब की जनता की नाराजगी का शिकार है। कांग्रेस ने जिस तरह से अमरिंदर सिंह के साथ व्यवहार किया और पाकिस्तान समर्थक नवजोत सिंह सिद्धू को बढ़ावा दिया, उससे पंजाब की जनता में नाराजगी है।
इसके साथ ही दलित सिखों को लेकर कांग्रेस अपनी मंशा के कारण घेरे में हैं। वहीं अकाली दल अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है।

ये मंजिन्दर सिरसा ही थे जो वर्ष 2012 में जब गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमिटी के महासचिव बने तो अकाली दल को विधानसभा चुनावों में जीत मिल थी। अब सिरसा के जाने से अकाली दल और कमजोर हो गई है। अब भाजपा ने कांग्रेस और अन्य दलों से किसान का मुद्दा भी छीन लिया है।
Narendra Modi Amit Shahभाजपा एक मजबूत विकल्प बनकर उभर रही

पंजाब की जनता को अकाली दल और कांग्रेस के अलावा कभी एक मजबूत विकल्प नहीं रहा है। हाँ, आम आदमी पार्टी ने जरूर ये कोशिश की थी और कुछ हद तक सफल भी रही। अब आंतरिक कलह के कारण पार्टी पिछड़ती दिखाई दे रही है।
वहीं, अकाली दल को लेकर आम जनता में नाराजगी कम नहीं हुई है और न ही भाजपा से अलग होने पर पार्टी को कोई खास फायदा हुआ। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी आंतरिक कलह और सीएम चेहरे को लेकर परेशान हैं। इन सभी के बीच भाजपा ने दो बड़े चेहरों को अपने साथ कर अपनी जड़ें राज्य में मजबूत की हैं।
वर्ष 2017 में बीजेपी अकाली दल के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ी थी, और केवल तीन सीट ही जीत पायी थी। अगले वर्ष 2022 के विधानसभा चुनावों में अब पंजाब की जनता भाजपा को एक बड़े विकल्प के तौर पर देख सकती है। ऐसे में ये देखना दिलचस्प होगा कि पंजाब के चुनावों में आम जनता किसे अपना नेता चुनती है और किसे बाहर का रास्ता दिखाती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

भाजपा की दर्जनभर सीटें पुत्र मोह-पत्नी मोह में फंसीं, पार्टी के बड़े नेताओं को सूझ नहीं रह कोई रास्ताविराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, भावुक मन से बोली ये बातAssembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारभारतीय कार बाजार में इन फीचर के बिना नहीं बिकेगी कोई भी नई गाड़ी, सरकार ने लागू किए नए नियमUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावमौसम विभाग का इन 16 जिलों में घने कोहरे और 23 जिलों में शीतलहर का अलर्ट, जबरदस्त गलन से ठिठुरा यूपीBank Holidays in January: जनवरी में आने वाले 15 दिनों में 7 दिन बंद रहेंगे बैंक, देखिए पूरी लिस्टUP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्य
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.