scriptAkhilesh Yadav Brahmin card against Yogi Adityanath in UP Election 2022 | UP Election 2022: पूर्वांचल में कितना और क्या गुल खिलाएगा अखिलेश का ब्राह्मण कार्ड | Patrika News

UP Election 2022: पूर्वांचल में कितना और क्या गुल खिलाएगा अखिलेश का ब्राह्मण कार्ड

दलित, पिछड़ों के बाद अखिलेश यादव ने योगी आदित्यनाथ के खिलाफ ब्राह्मण कार्ड खेला है। इसे पू्वांचल के हिसाब से बड़ा दांव माना जा रहा है। वैसे भी पूर्वांचल के ब्राह्मण नेता के रूप में स्थापित हरिशंकर तिवारी का कुनबा पहले ही सपा का दामन थाम चुका है। हरिशंकर तिवारी का गोरखपुर ही नहीं बल्कि पूर्वांचल के ब्राह्मणों के बीच अच्छा खासा प्रभाव माना जाता है। ऐसे में एक ब्राह्मण महिला को योगी के विरुद्ध मैदान में उतारने का दांव भाजपा खेमे के लिए चिंता का कारण तो बन ही गया है।

 

वाराणसी

Published: January 21, 2022 01:22:19 pm

वाराणसी. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 का मैदान कौन मारेगा ये तो भविष्य के गर्भ में है। इसका खुलासा 10 मार्च को ही होगा जब परिणाम सामने आएंगे। लेकिन इस बीच समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव, भाजपा को कदम-कदम पर बड़ा झटका जरूर देते जा रहे हैं। अगर ये कहें कि भाजपा की हर उस रणनीति का उन्हीं की भाषा में जवाब देकर अखिलेश फिलहाल जो संदेश दे रहे हैं उससे भाजपा का थिंक टैंक के पेशानी पर भी बल तो आ ही रहे हैं। इसी कड़ी में अब योगी आदित्यनाथ के गढ गोरखपुर से भाजपा में सेंधमारी और वो भी एक ब्राह्मण परिवार में अखिलेश का अब तक का सबसे बड़ा दांव माना जा रहा है। कहा जा रहा है कि अगर स्व. उपेंद्र शुक्ल की पत्नी सुभावती शुक्ला, योगी आदित्यनाथ के विरुद्ध चुनाव लड़ती हैं तो ये रोचक मुकाबला होगा।
अखिलेश, सुभावती और योगी आदित्यनाथ
अखिलेश, सुभावती और योगी आदित्यनाथ
भाजपा के कद्धावर नेता रहे स्व उपेंद्र शुक्ला
स्व उपेंद्र शुक्ला भाजपा संगठन के कद्दावर नेताओं में गिने जाते रहे। गोरखपुर ही नहीं बल्कि बस्ती और आजमगढ़ मंडल तक में वो पार्टी का ब्राह्मण चेहरा थे। पार्टी में लंबे समय तक संगठन की सेवा करने वाले उपेंद्र दत्त शुक्ला विभिन्न पदों पर भी रहे। उपेंद्र शुक्ल भले ही गोरखपुर, बस्ती और आजमगढ़ मंडल तक में भाजपा के ब्राह्मण चेहरा रहे पर उन्हें राजनाथ सिंह खेमे का माना जाता रहा है। ब्राह्मण बिरादी में पैठ की बात करें तो वह पूर्व केंद्रीय मंत्री शिवप्रताप शुक्‍ल के करीबी माने जाते थे। उपेंद्र शुक्‍ल 2013 से 2018 तक भाजपा के क्षेत्रीय अध्‍यक्ष रहे थे, जिसमें यह 64 विधानसभा और 12 लोकसभा क्षेत्र शामिल है। वह आरएसएस और भाजपा के पुराने कैडर के कार्यकर्ता रहे। वह जनसंघ के जमाने से भाजपा से जुड़े थे। छात्र जीवन में विद्यार्थी परिषद की राजनीति में भी उन्होंने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था। साधारण सदस्‍य के रूप में पार्टी ज्‍वाइन की और अपनी कर्मठता से जिलाध्‍यक्ष, क्षेत्रीय अध्‍यक्ष जैसे महत्‍वपूर्ण पदों पर लम्‍बे समय तक सफलतापूर्वक काम किया।
विधानसभा और लोकसभा चुनाव लड़े पर हार गए
भाजपा ने उपेंद्र को पहले कौड़ीराम विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया, लेकिन वह चुनाव हार गए। उस वक्त भी यही कहा गया कि योगी खेमे ने उनका साथ नहीं दिया जिसके चलते उन्हें हार का मुख देखना पड़ा। फिर योगी आदित्यनाथ के यूपी का मुख्यमंत्री बनने के बाद 2018 में हुए उपचुनाव में पार्टी ने एक बार फिर से उपेंद्र पर भरोसा जताया लेकिन इस बार भी वो सपा के प्रवीण निषाद से चुनाव हार गए। हालांकि इस हार के बाद के बाद भी परोक्ष रूप से योगी आदित्यनाथ खेमे पर ही ठीकरा फोड़ा गया। हालांकि इस हार के बाद उपेंद्र शुक्ला सक्रिय राजनीति से दूर होते गए। इस बीच डेढ़ साल पहले उपेंद्र शुक्ला दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया।
उपेंद्र की बीमारी और उनके निधन के बाद योगी को लेकर होती रहीं चर्चाएं
उपेंद्र शुक्ल की बीमारी और उनके निधन को लेकर गोरखपुर और पूर्वांचल में तरह-तरह की चर्चाएं होती रहीं। उनके निधन के बाद योगी का उनके घर न जाना भी परिवार के लोगों व समर्थकों के बीच चर्चा का विषय बना। क्षेत्रीय राजनातिक पंडितों की मानें तो उपेंद्र शुक्ल का परिवार तभी से योगी से नाखुश चल रहा था। अब उनकी पत्नी ने गुरुवार को अखिलेश से मिल कर सपा ज्वाइन कर ली है। कयास ये लगाए जा रहे हैं कि सुभवती को योगी आदित्यनाथ के विरुद्ध सपा मैदान में उतार सकती है।
सुभावती के परिवार पर अब भी जताई जा रही आशंका
वैसे क्षेत्रीय लोगों की मानें तो उपेंद्र शुक्ल का परिवार सपा से जुड़ भले गया हो पर सवाल ये बड़ा है कि क्या सुभावती शुक्ला योगी आदित्यनाथ के विरुद्ध चुनाव लड़ेंगी। लोगों का कहना है कि सपा में शामिल होने से पूर्व ये परिवार कांग्रेस के भी संपर्क में रहा। लेकिन खुलकर कभी योगी की मुखालफत नहीं की। यहां तक कि उपेंद्र शुक्ल के निधन के बाद यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू जब शोक संवेदना जताने उनके घर जाना चाहते थे तब भी उन्हें मना कर दिया गया। ऐसे में ये बड़ा सवाल है कि क्या अब उसी परिवार ने योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ने का मन बना लिया है। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि अगर ऐसा होता है तो योगी बनाम सुभावती शुक्ला का मुकाबला रोचक होगा।
हरिशंकर तिवारी गुट का मिलेगा समर्थन

अगर सुभावती या उनका परिवार योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सपा के टिकट पर चुनाव लड़ने को तैयार होते हैं तो उन्हें हरिशंक तिवारी खेमे का पूरा समर्थन मिलना तय है। वैसे तिवारी परिवार पहले से ही सपा में शामिल हो चुका है। इस परिवार से दो लोग अलग-अलग क्षेत्रों से विधानसभा चुनाव की तैयारी में भी जुट गए है। बावजूद इसके तिवारी परिवार और उनके समर्थकों का समर्थन सुभावती शुक्ला को मिलना तय माना जा रहा है।
योगी विरोधी शिवप्रताप शुक्‍ल का भी मिलेगा समर्थन
सुभवती शुक्ला को योगी आदित्यनाथ के धुर विरोधी रहे शिवप्रताप शुक्ल गुट का भी अंदरूनी समर्थन मिल सकता है। कारण उपेंद्र शुक्ल और शिवप्रताप शुक्ल का एक खेमा होना है और दोनों ही योगी के विरोधी रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर अहम बहस, जानें किन मुद्दों पर हो सकता है फैसलादिल्ली में आज एक बार फिर चलेगा बुलडोजर! सुरक्षा के लिए 400 पुलिसकर्मियों की मांगकांग्रेस नेता कार्ति चिंदबरम के करीबी को CBI ने किया गिरफ्तार, कल कई ठिकानों पर हुई थी छापेमारीभारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगामुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...योगी की राह पर दक्षिण के बोम्मई, इस कानून को लागू करने वाला नौवां राज्य बना कर्नाटकSri Lanka Crisis: राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे की बची कुर्सी, अविश्वास प्रस्ताव हुआ खारिज900 छक्के, IPL 2022 में रचा गया इतिहास, बल्लेबाजों ने 15वें सीजन में बनाया ऐतिहासिक रिकॉर्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.