scriptBahubali Brijesh Singh s wife Annapurna Singh wins UP MLC Election 2022 | UP MLC Election Result 2022: PM मोदी के गढ़ में BJP को झटका, बाहुबली बृजेश सिंह की पत्नी अन्नपूर्णा जीतीं, 24 साल से कायम है परिवार का कब्जा | Patrika News

UP MLC Election Result 2022: PM मोदी के गढ़ में BJP को झटका, बाहुबली बृजेश सिंह की पत्नी अन्नपूर्णा जीतीं, 24 साल से कायम है परिवार का कब्जा

UP MLC Election Result 2022: एमएलसी चुनाव में वाराणसी क्षेत्र से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र से बीजेपी को बड़ा झटका लगा है। यहां से पहले चक्र की गणना के बाद ही बाहुबली बृजेश सिंह की पत्नी अन्नपूर्णा सिंह ने बड़े अंतर से जीत हासिल कर ली है। इसके साथ ही इस सीट पर बाहुबली बृजेश सिंह परिवार का वर्चस्व 24 साल से चला आ रहा वर्चस्व भी कायम है।

वाराणसी

Published: April 12, 2022 12:18:23 pm

वाराणसी. UP MLC Election Result 2022: वाराणसी स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्र से विधान परिषद सदस्य चुनाव में इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र से बीजेपी को करारी हार का सामना करना पड़ा है। इस सीट से बाहुबली बृजेश सिंह की पत्नी अन्नपूर्णा सिंह ने पहले चक्र की गणना के बाद ही भारी अंतर से चुनाव जीत गई हैं। इसके साथ ही अन्नपूर्णा ने इस सीट पर 24 साल से चले आ रहे वर्चस्व को कायम रखा है।
बाहुबली बृजेश सिंह और अन्नपूर्णा सिंह
बाहुबली बृजेश सिंह और अन्नपूर्णा सिंह
बाहुबली बृजेश सिंह की पत्नी अन्नपूर्णा सिंहपहले चक्र में अन्नपूर्णा को मिले 2058 मत

वाराणसी स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्र से विधान परिषद सदस्य चुनाव के लिए वोटों की गिनती मंगलवार की सुबह आठ बजे शुरू हुई। वाराणसी सीट से निर्दल प्रत्याशी बाहुबली अन्नपूर्णा सिंह ने जीत हासिल की है। बता दें कि वाराणसी, भदोही और चंदौली में बनाए गए 26 बूथों पर शनिवार को 98.525 मतदान दर्ज किया गया था। पहले चक्र की गणना यानी प्रथम वरीयता के मतों की गणना के बाद निर्दलीय अन्नपूर्णा सिंह को 2058 मत, समाजवादी पार्टी के उमेश यादव को 171 मत और बीजेपी प्रत्याशी सुदामा पटेल को 103 मत हासिल हुए हैं।
अंतिम चक्र की मत गणना के उपरांत परिणाम
उमेश यादव (सपा) - 345 मत
डॉ सुदामा पटेल (भाजपा) - 170 मत
अन्नपूर्णा सिंह (निर्दलीय)- 4234 मत
निरस्त मतपत्र - 127
कुल - 4876
निरस्त मत को हटाते हुए कुल वैद्य मत = 4749
जीत को आवश्यक कोटा = (4749/2) + 1 = 2375
अन्नपूर्णा सिंह निर्धारित कोटा से ज्यादा मत प्राप्त कर विजयी हुई। मतगणना समाप्त।
बाहुबली बृजेश सिंह के बड़े भाई चुलबुल सिंहअंतिम समय में बीजेपी ने उतारा था प्रत्याशी

पिछले ढाई दशक से वाराणसी एमएलसी सीट पर बाहुबली बृजेश सिंह के परिवार का कब्जा है। 2016 के एमएलसी चुनाव में निर्दलीय बृजेश सिंह खुद मैदान में उतरे थे, जिन्हें बीजेपी का समर्थन मिला था जिसकी बदौलत उन्होंने जीत हासिल की। इस बार बीजेपी ने सुदामा पटेल पर दांव लगाया, लेकिन वाराणसी की जेल में बंद बृजेश सिंह ने अपनी पत्नी को निर्दलीय उतारकर बीजेपी को मात दे दी।
ढाई दशक से है बृजेश सिंह परिवार का कब्जा

वाराणसी की एमएलसी सीट पर दो बार बृजेश सिंह के भाई उदयनाथ सिंह उर्फ चुलबुल सिंह बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीत चुके हैं। चुलबुल सिंह के बाद बृजेश सिंह की पत्नी अन्नपूर्णा सिंह ने 2010 में बसपा के टिकट पर जीत हासिल की थी। फिर पिछले चुनाव में खुद बृजेश सिंह ने बतौर निर्दलीय प्रत्याशी जीत हासिल की थी। इस तरह से पिछले 24 साल से इसी परिवार का इस सीट पर कब्जा है। बाहुबली बृजेश सिंह ने जेल के भीतर से ही पत्नी के चुनाव जीतने की पूरी रणनीति तय की और उसमें वो सफल भी रहे। इस तरह बाहुबली बृजेश ने अपनी ताकत का एहसास भी करा दिया है।
बाहुबली बृजेश सिंह के भतीजे बीजेपी विधायक सुशील सिंहबृजेश-अन्नपूर्णा के भतीजे हैं बीजेपी से एमएलए

बता दें कि बाहुबली बृजेश सिंह के भतीजे और स्व चुलबुल सिंह के बड़े बेटे सुशील सिंह बीजेपी से विधायक हैं। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव 2022 में सुशील सिंह ने चंदौली की सैयदराजा सीट पर दोबारा जीत हासिल की है। इस तरह उन्होंनेलगातार चार बार विधानसभा चुनाव जीतकर इतिहास रचा है। सुशील ने अपने राजनीतिक जीवन में पांच विधानसभा चुनाव लड़ा है जिसमें केवल पहला चुनाव हारे बाकि चारों में उन्होंने जीत मिली।
बृजेश के बड़े भाई चुलबुल ने 1995 में राजनीति में कदम रखा और सफल रहे

वाराणसी के चौबेपुर क्षेत्र के धौरहरा गांव के मूल निवासी बृजेश सिंह के परिवार से राजनीति में सबसे पहले उनके बड़े भाई उदयनाथ सिंह उर्फ चुलबुल सिंह आए। वो 1995 में सेवापुरी क्षेत्र से जिला पंचायत सदस्य चुने गए। इसके बाद वो जिला पंचायत अध्यक्ष रहे। फिर वाराणसी सीट से दो बार MLC चुने गए। भाजपा से जुड़े चुलबुल सिंह ने त्रि-स्तरीय पंचायत चुनावों पर अपनी ऐसी पकड़ बनाई कि उन्हें इसका चाणक्य कहा जाता था। उनका घर यानी कपसेठी हाउस का अब दबदबा है। वर्ष 2018 में चुलबुल सिंह का निधन हो गया। चुलबुल सिंह की पत्नी गुलाबी देवी भी 3 बार क्षेत्र पंचायत सदस्य चुनी जा चुकी हैं।
बृजेश के परिवार का राजनीति में दखल रसोइया तक को मिल चुकी है जीत

बता दें कि सुशील की पत्नी किरन सिंह 2000 से 2005 तक वाराणसी जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुकी हैं। सुशील सिंह के छोटे भाई सुजीत सिंह उर्फ डॉक्टर भी वाराणसी जिला पंचायत के अध्यक्ष रह चुके हैं। सुजीत की पत्नी इंदू सिंह तीन बार सेवापुरी ब्लाक की प्रमुख रही हैं। यही नहीं त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव में बृजेश सिंह के परिवार के दबदबे का आलम ये कि पिछले साल ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में इस परिवार की रसोइया तक ब्लाक प्रमुख चुन ली गईं। सेवापुरी ब्लॉक से बृजेश सिंह के छोटे भतीजे सुजीत सिंह की पत्नी इंदू सिंह तीन बार प्रमुख चुनी गईं थीं। वर्ष 2021 में हुए त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव में सेवापुरी ब्लॉक प्रमुख का पद आरक्षित हो गया। ऐसे में कपसेठी हाउस (बृजेश सिंह के बड़े भाई चुलबुल सिंह का घर) में रसोइया का काम देखने वाली रीना कुमारी को भाजपा ने अपना प्रत्याशी घोषित किया और वह ब्लॉक प्रमुख चुन ली गई।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

पंजाब CM भगवंत मान ने स्वास्थ्य मंत्री को भ्रष्टाचार के आरोप में किया बर्खास्तकांग्रेस की Task Force-2024 और पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी का ऐलान, जानिए सोनिया गांधी ने किन को दिया मौकापाकिस्तान ने भेजी है विषकन्या: राजस्थान इंटेलिजेंस ने सेना को तस्वीरें भेज कर किया अलर्टकुतुब मीनार केसः साकेत कोर्ट में दोनों पक्षों की दलीलें पूरी, 9 जून को अदालत सुनाएगी फैसलाPooja Singhal Case: झारखंड की 6 और बिहार के मुजफ्फरपुर में ED की एक साथ छापेमारी, अहम सुराग मिलने की उम्मीदश्रीलंका में फिर बढ़ी पेट्रोल-डीजल की कीमत, पेट्रोल 420 तो डीजल 400 रुपए प्रति लीटरकर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धारमैया का विवादित बयान, 'मैं हिंदू हूं, चाहूं तो बीफ खा सकता हूं..'सबसे आगे मोदी, पीछे से बाइडेन सहित अन्य नेता, QUAD Summit से आई PM मोदी की ये तस्वीर वायरल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.