West Bengal Assembly Elections 2021: चौथे चरण की 44 सीटों पर कल होगी वोटिंग, इस बार कई प्रमुख हस्तियों की किस्मत दांव पर

बंगाल में चौथे चरण के लिए 10 अप्रैल यानी शनिवार को वोट डाले जाएंगे। इस बार पांच जिलों की 44 विधानसभा सीटों पर वोटिंग हो रही है। कूचबिहार जिले की सीटें सबसे ज्यादा संवेदनशील हैं, जहां 187 कंपनियां सीएपीएफ की तैनात की गई हैं।

 

By: Ashutosh Pathak

Published: 09 Apr 2021, 08:37 AM IST

नई दिल्ली।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Elections 2021) में चौथे चरण के मतदान के लिए प्रचार अभियान गुरुवार शाम पांच बजे बंद हो गया। इस चरण में राज्य की कई हाई-प्रोफाइल हस्तियां मैदान में हैं, जिनके भविष्य का फैसला 10 अप्रैल को मतदाता करेंगे। बता दें कि बंगाल में इस बार आठ चरणों में मतदान हो रहे हैं और तीन चरणों का मतदान छिटपुट हिंसा के बीच संपन्न हो चुका है।

पांच जिलों में होगी वोटिंग
बंगाल में चौथे चरण में पांच जिलों की 44 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा। जिन जिलों में इस बार मतदान हो रहा है, उनमें दक्षिण बंगाल के हावड़ा (पार्ट-2) दक्षिण 24 परगना (पार्ट-3), हुगली (पार्ट-2), उत्तर बंगाल में अलीपुरद्वार और कूचबिहार जिला शामिल है। इस चरण में एक करोड़ 15 लाख 81 हजार 22 मतदाता विभिन्न राजनीतिक दलों के 373 प्रत्याशियों के भविष्य का फैसला करेंगे।

यह भी पढ़ें:- ममता बनर्जी की वह अपील जिस पर चुनाव आयोग ने लिया संज्ञान, नोटिस भेजकर मांगा जवाब

चौथे चरण में थर्ड जेंडर के 290 सदस्य
बंगाल में अब तक तीन चरणों का मतदान पूरा हो चुका है। इसमें 91 सीटों पर मतदान हुए, जबकि 203 सीटों पर मतदान अगले पांच चरणों में होना है। चौथे चरण में 44 सीटों पर मतदान हो रहे हैं, जिसमें कुल एक करोड़ 15 लाख 81 हजार 22 मतदाताओं में से 58 लाख 82 हजार 514 मतदाता पुरूष और 56 लाख 98 हजार 218 महिला मतदाता शामिल हैं। इसके अलावा 290 थर्ड जेंडर के सदस्य भी हैं।

सुबह सात बजे से पड़ेगे वोट
जिन पांच जिलों की 44 सीटों पर चौथे चरण में मतदान हो रहा है, उनमें हावड़ा की 9, दक्षिण 24 परगना की 11, कूचबिहार की 9, अलीपुरद्वार की 5 और हुगली की 10 सीटें शामिल हैं। इस चरण में 15 हजार 940 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं, जिन सुबह सात बजे से वोट पडऩे शुरू हो जाएंगे।

इस चरण में कृचबिहार सबसे ज्यादा संवेदनशील
जिन पांच जिलों में इस बार वोटिंग हो रही है, उनमें कूचबिहार जिला सबसे ज्यादा संवेदनशील बताया गया है। चुनाव आयोग ने चौथे चरण की 44 विधानसभा सीटों पर होने वाले मतदान प्रक्रिया में सुरक्षा के लिए सीएपीएफ की 789 कंपनियां तैनात की हैं। इनमें कूचबिहार जिले में सबसे अधिक 187 कंपनियां तैनात होंगी।

यह भी पढ़ें:-चुनाव आयोग ने तीन जिलों के निर्वाचन अधिकारियों का ट्रांसफर किया

ये शख्सियतें इस बार मैदान में
चौथे चरण में जो प्रमुख प्रत्याशी मैदान में हैं, उनमें बंगाल रणजी के पूर्व कप्तान मनोज तिवारी (तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर शिबपुर विधानसभा सीट से), बंगाल के शिक्षा मंत्री पाथ चटर्जी (तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर बेहला पश्चिम विधानसभा सीट से), भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो (भाजपा के टिकट पर टॉलीगंज विधानसभा सीट से), बंगाल के खेल मंत्री अरुप बिस्वास (तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर टॉलीगंज विधानसभा सीट से), पायल सरकार (भाजपा के टिकट पर बेहला पूर्व विधानसभा सीट से), बंगाल अग्रिशमन मंत्री और बेहला पूर्व के महापौर रहे शोभन चटर्जी की पत्नी रत्ना (तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर बेहला पूर्व विधानसभा सीट से), बंगाल के पूर्व वन मंत्री राजीव बनर्जी (भाजपा के टिकट पर दोमजुर विधानसभा सीट से), भाजपा सांसद और अभिनेत्री लॉकेट चटर्जी (भाजपा के टिकट पर हुगली के चिन्सुराह विधानसभा सीट से) मैदान में हैं।

पांच चरणों की 203 सीटों पर मतदान बाकी
बता दें कि कोरोना संक्रमण की वजह से राज्य की कुल 294 विधानसभा सीटों पर इस बार 8 चरण में मतदान हो रहे हैं। पहले चरण की वोटिंग 27 मार्च को थी, जबकि दूसरे चरण के लिए 1 अप्रैल और तीसरे चरण के लिए 6 अप्रैल को वोट डाले गए। वहीं, अब चौथे चरण के लिए 10 अप्रैल को, पांचवे चरण के लिए 17 अप्रैल को, छठें चरण के लिए 22 अप्रैल को, सातवें चरण के लिए 26 अप्रैल को और आठवें चरण के लिए 29 अप्रैल को वोटिंग होगी। नतीजे 2 मई को घोषित होंगे।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned