scriptMafia Harishankar Tiwari trouble for BJP in Purvanchal | UP Assembly Elections 2022 : पूर्वांचल में भाजपा-बसपा की चिंता बढ़ाएगा बाहुबली हरिशंकर तिवारी का कुनबा, सपा में शामिल होने की है उम्मीद | Patrika News

UP Assembly Elections 2022 : पूर्वांचल में भाजपा-बसपा की चिंता बढ़ाएगा बाहुबली हरिशंकर तिवारी का कुनबा, सपा में शामिल होने की है उम्मीद

UP Assembly Elections 2022 : उत्तर प्रदेश की वर्तमान सियासत में लंबे अर्से से हरिशंकर तिवारी का परिवार चर्चाओं से दूर रहा है। इस परिवार का पूर्वांचल के जातिगत समीकरणों में तिवारी परिवार की दखल आज भी बरकरार है। वरिष्ठ पत्रकार बृजेश शुक्ला बताते हैं कि करीब 80 के दशक में हरिशंकर तिवारी और वीरेंद्र प्रताप शाही के बीच वर्चस्‍व की जंग ने ब्राह्मण बनाम ठाकुर का रूप ले लिया था। माना जाता है कि इन्‍हीं दो बाहुबलियों के विधायक बनने के बाद यूपी की सियासत में बाहुबलियों की एंट्री शुरू हुई।

लखनऊ

Updated: December 07, 2021 02:13:20 pm

लखनऊ. UP Assembly Elections 2022 : उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सूबे में सियासी हलचलें तेज होती जा रही है। पूर्वांचल के बाहुबली हरिशंकर तिवारी के विधायक बेटे विनय शंकर तिवारी, उनके बड़े भाई व पूर्व सासंद कुशल तिवारी और विधानपरिषद के सभापति गणेश शंकर पांडेय को बीएसपी ने पार्टी से निकाल दिया है। इन तीनों को अनुशासनहीनता के चलते पार्टी से निकाला गया है। विनय शंकर तिवारी के सपा में जाने की अटकलों के बीच यह कार्रवाई की गई है। माना जा रहा है कि यह कुनबा जल्‍द ही समाजवादी पार्टी में शामिल हो सकता है। जानकारों की माने ते बाहुबली हरिशंकर तिवारी का कुनबा बसपा के साथ ही भाजपा के लिए भी चिंता का विषय हो सकता है। लिहाजा दोनों पार्टियों के रणनीतिकार तिवारी परिवार के अगले कदम पर अपनी नजरें गड़ाये हुए हैं। वहीं हरिशंकर तिवारी के परिवार के सपा में जाने से बसपा के सोशल इंजीनियरिंग के फार्मूले को भी बड़ा झटका लगा है।
harishanker.jpg
चिल्लूपार सीट से 6 बार विधायक रहे हैं हरिशंकर तिवारी

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश की वर्तमान सियासत में लंबे अर्से से हरिशंकर तिवारी का परिवार चर्चाओं से दूर रहा है। इस परिवार का पूर्वांचल के जातिगत समीकरणों में तिवारी परिवार की दखल आज भी बरकरार है। वरिष्ठ पत्रकार बृजेश शुक्ला बताते हैं कि करीब 80 के दशक में हरिशंकर तिवारी और वीरेंद्र प्रताप शाही के बीच वर्चस्‍व की जंग ने ब्राह्मण बनाम ठाकुर का रूप ले लिया था। माना जाता है कि इन्‍हीं दो बाहुबलियों के विधायक बनने के बाद यूपी की सियासत में बाहुबलियों की एंट्री शुरू हुई। हरिशंकर तिवारी चिल्‍लूपार विधानसभा क्षेत्र से लगातार छह बार विधायक रहे। कल्‍याण सिंह, राजनाथ सिंह और मुलायम सिंह यादव की सरकारों में कैबिनेट मंत्री रहे।
यूपी की सियासत में तिवारी परिवार का रहा है दबदबा

2007 के चुनाव में बसपा के राजेश त्रिपाठी ने उन्‍हें चुनाव हरा दिया। लेकिन इसके बाद भी यूपी की सियासत में तिवारी परिवार का जलवा कम नहीं हुआ। उनके बड़े बेटे कुशल तिवारी संतकबीरनगर से दो बार सांसद रहे, तो छोटे बेटे विनय शंकर तिवारी चिल्‍लूपार सीट से विधायक हैं। जबकि हरिशंकर तिवारी के भांजे गणेश शंकर पांडेय बसपा सरकार में विधान परिषद सभापति रहे हैं। अब कहा जा रहा है कि ये सभी नेता सपा में शामिल हो सकते हैं।
भाजपा-बसपा के लिए तिवारी परिवार बना चिंता का विषय

राजनीति जानकारों का मानना है कि यदि तिवारी परिवार समाजवादी पार्टी का दामन थामता है, तो यह बसपा के साथ ही भारतीय जनता पार्टी के लिए भी चिंता का विषय हो सकता है। इसे जहां बसपा की सोशल इंजीनियरिंग को झटका माना जा रहा है, वहीं सियासी जानकारों का कहना है कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में ब्राह्मणों की नाराजगी भाजपा के लिए भी कुछ सीटों पर मुश्किल खड़ी कर सकती है। सपा, बसपा और कांग्रेस सहित सभी राजनीतिक दल ब्राह्मणों को लुभाने में जुटे हैं। भाजपा का कोर वोटर माना जाने वाला ब्राह्मण वर्ग यदि उससे दूर जाने के साथ ही किसी एक पार्टी के साथ लामबंद होता है तो यह परेशानी का कारण बन सकता है।
मायावती ने सभी को दिखाया पार्टी से बाहर का रास्ता

बसपा सुप्रीमो मायावती के निर्देश पर चिल्लूपार के विधायक विनय शंकर तिवारी उनके बड़े भाई समेत तीन लोगों को पार्टी से निकाल दिया गया। यह कार्रवाई गोरखपुर मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी सुधीर कुमार भारती द्वारा की गई है। विनय शंकर तिवारी और उनके बड़े भाई कुशल तिवारी और गणेश शंकर पांडे के सपा में जाने की चर्चाएं तेज होने के बाद यह कार्रवाई की गई है। प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है की गोरखपुर जिले की चिल्लूपार विधानसभा सीट के विधायक विनय शंकर तिवारी और इनके बड़े भाई कुशल तिवारी पूर्व सांसद और इनके रिश्तेदार गणेश शंकर पांडे को पार्टी में अनुशासनहीनता करने व वरिष्ठ पदाधिकारियों से सही व्यवहार न रखने के कारण बहुजन समाज पार्टी से तत्काल प्रभाव से निष्कासित किया गया है।
डेढ़ दशक से बसपा में थे कुशल-विनय शंकर तिवारी

बता दें कि पूर्व मंत्री और बाहुबली हरिशंकर तिवारी दोनों बेटे व भांजा पिछले डेढ़ दशक से बसपा में थे। जुलाई 2007 में उन्होंने बसपा ज्वाइन की थी। हालांकि पूर्व मंत्री हरिशंकर तिवारी ने कभी बसपा की सदस्यता ग्रहण नहीं की है। वह निर्दलीय ही चुनाव लड़ते रहे। विनय शंकर तिवारी ने बसपा के टिकट पर बलिया लोकसभा उप चुनाव से राजनीत में कदम रखा। वहां से चुनाव हार गए थे। वहीं 2008 में खलीलाबाद लोकसभा उप चुनाव में उनके बड़े भाई कुशल तिवारी बसपा से मैदान में उतरे और सांसद बने। 2009 में दोनों भाइयों को बसपा ने एक बार फिर प्रत्याशी बनाया। विनय शंकर गोरखपुर लोकसभा से तो वहीं खलीलाबाद से कुशल तथा महराजगंज लोकसभा सीट से गणेश शंकर पांडेय चुनाव मैदान में उतरे। इनमे कुशल अपनी सीट बचाने में कामयाब हुए, वहीं बाकी दोनों लोग चुनाव हार गए थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Coronavirus: स्वास्थ्य मंत्रालय इन 6 राज्यों में कोविड स्थिति पर चिंतित, यहां तेजी से फैल रहा संक्रमणकेरल में तेजी से बढ़ रहा ओमिक्रॉन, 24 घंटे में 20% बढ़ी ऑक्‍सीजन बेड की मांग50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीबीजेपी सांसद ने कहा 'शराब औषधि समान, कम पीने से करती है औषधि का काम'अखिलेश यादव के कई राज सिद्धार्थनाथ सिंह ने खोले, सुन कर चौंक जाएंगेयूपी विधानसभा चुनाव 2022 के दूसरे चरण की 55 विधानसभा सीटों के लिए आज से होगा नामांकनWeather Forecast News Today Live Updates: दिल्ली सहित कई राज्यों में 3 दिन बारिश का अलर्ट, उत्तर भारत में पड़ेगी कड़ाके की ठंडलोकसभा अध्यक्ष बनने के बाद क्या बदला जीवन, जानिए स्पीकर ओम बिरला का रोचक जवाब
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.