scriptPeople of Firozabad and Mainpuri are angry due to lack of development | मुद्दे की बात - फिरोजाबाद और मैनपुरी में दबंगई पर लगी लगाम, विकास का अभी इंतजार | Patrika News

मुद्दे की बात - फिरोजाबाद और मैनपुरी में दबंगई पर लगी लगाम, विकास का अभी इंतजार

चूड़ी व्यापारियों की समस्या पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। महंगाई कम करने में सरकार विफल साबित हुई है। हां, कोरोना महामारी के समय बिना भेदभाव के सरकार ने मुफ्त राशन देकर अच्छा काम किया है। दुकान पर चूड़ी खरीदने आई राबिया बेगम भी चर्चा में शामिल हो गई और कहने लगी, 'सरकारी स्कूलों में बच्चियों की पढ़ाई नि:शुल्क है। इसमें मुस्लिम समाज से कोई भेदभाव नहीं किया जाता है। तीन तलाक का सवाल पूछने पर बिना जवाब दिए वह चली गई।

लखनऊ

Published: November 17, 2021 11:53:26 am

शादाब अहमद

आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा से जैसे हम चूड़ी नगर फिरोजाबाद और मैनपुरी की ओर बढऩे लगे वैसे वैसे सियासी समीकरणों के साथ चुनावी मुद्दों का रंग भी बदलता लगा। यहां का मतदाता कानून-व्यवस्था और विकास के मुद्दों पर मुखर नजर आया। कानून-व्यवस्था को लेकर मतदाता अपने-अपने तरीके से बात रख रहे हैं। अधिकांश लोग दबंगई पर लगाम लगने की बात तो करते हैं, लेकिन साथ में विकास में पिछडऩे का दर्द भी बयां करने से नहीं हिचक रहे हैं। इस इलाके में धार्मिक व सामाजिक ध्रुवीकरण भी रंग दिखा रहा है। महंगाई, बेरोजगारी और किसानों की समस्या भी अपनी जगह कायम है। इसके अलावा हर इलाके की स्थानीय समस्याएं अलग हैं।
मुद्दे की बात - फिरोजाबाद और मैनपुरी में दबंगई पर लगी लगाम, विकास का अभी इंतजार
मुद्दे की बात - फिरोजाबाद और मैनपुरी में दबंगई पर लगी लगाम, विकास का अभी इंतजार
चूड़ी नगरी फिरोजाबाद में मतदाता चूड़ी से लेकर किसान और पाकिस्तान के साथ भारत के मैच पर बोलते दिखे। चुनाव को लेकर बात करते ही रानी मार्केट में चूड़ी की दुकान चलाने वाले अब्दुल खालिक खुलकर बोलने लगे। उन्होंने साफ कहा, 'ऐसा कोई खास विकास कार्य नहीं हुआ, जिसे बताया जा सके। चूड़ी व्यापारियों की समस्या पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। महंगाई कम करने में सरकार विफल साबित हुई है। हां, कोरोना महामारी के समय बिना भेदभाव के सरकार ने मुफ्त राशन देकर अच्छा काम किया है। दुकान पर चूड़ी खरीदने आई राबिया बेगम भी चर्चा में शामिल हो गई और कहने लगी, 'सरकारी स्कूलों में बच्चियों की पढ़ाई नि:शुल्क है। इसमें मुस्लिम समाज से कोई भेदभाव नहीं किया जाता है। तीन तलाक का सवाल पूछने पर बिना जवाब दिए वह चली गई।
उधर, दंगों की बात छिड़ी तो युवा नाजिम बेग से रहा नहीं गया और उन्होंने दो साल पहले सीएए के विरोध प्रदर्शन के चलते हुए दंगे का दर्द भी बयां कर पुलिस की निष्पक्षता पर सवाल खड़े कर दिए। उनका कहना था कि अब पाकिस्तान के साथ मैच के बहाने पुलिस युवाओं को पकड़ रही है। इसके कुछ आगे एक बस स्टॉप पर खाद के कट्टे के साथ बस के इंतजार में खड़े सियाराम यादव से चुनावी चर्चा छेड़ी। यादव तपाक से बोले, 'यहां कृषि का मुद्दा हावी रहने वाला है। यह देखो, डीएपी खाद ली है, इसको महंगा कर दिया है। यह भी हमारी जरूरत के हिसाब से नहीं मिल रही है। हमारे इलाके में कोई काम नहीं हुए। हां, पंचायत स्तर के काम जरूर हुए हैं। रशीदपुर गर्म तेल में मैदे से बड़ी पूरी बना रहे बबलू साबरी से महंगाई पर सवाल किया तो उनका जवाब था, 'तेल महंगा हुआ है और आमदनी कम हुई है। महंगाई सभी लोगों के लिए है। वैसे चुनाव आते-आते महंगाई को लोग भूल जाएंगे।
शिकोहबाद कस्बे में आशीष त्रिवेदी सरकार के कामकाज से संतुष्ट दिखे। कानून व्यवस्था पर उन्होंने तीखी टिप्पणी करते हुए कहा कि अब यहां कुछ लोगों की दबंगई बंद हो गई है। मैनपुरी के महाराणा प्रताप की प्रतिमा के पास चाय की दुकान पर चुनाव की चर्चा छेड़ी तो ठेठ स्थानीय भाषा में चार व्यक्ति सरकार के कामकाज को लेकर बहस करने लग गए। श्रीदयाल सिंह ने सड़क और डिवाइडर की ओर इशारा करते हुए कहा कि यह विकास कार्य पिछले साढ़े 4 साल में हुआ है। इस पर भारत सिंह राजपूत बोले, 'यह सभी मुलायम सिंह यादव व अखिलेश यादव ने बनाए हैं। इस सरकार के राज में विकास नहीं हुआ है। उनकी बात काटते हुए राम भील ने कहा कि सबसे अच्छी बात तो यह है कि काम कानून-व्यवस्था में सुधार हुआ है। पुलिस विभाग में पहले एक समाज विशेष के लोगों की सुनवाई होती थी। अब सभी की सुनवाई होती है। पहले खुलेआम हत्या और अपहरण जैसी वारदात होती थी अब दबंगई पर लगाम लगी है।
पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के क्षेत्र मैनपुरी के विकास कार्यों में पिछडऩे का दर्द रेलवे स्टेशन के सामने तेल व्यवसायी मलखान सिंह ने बयां किया। उन्होंने कहा कि इंजीनियरिंग कॉलेज को योगी सरकार पूरा नहीं करा सकी। चीनी मिल नहीं खोल सकी। कानून-व्यवस्था में सुधार होने की बात करते ही रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के इंतजार में खड़े गोविंद सिंह यादव गुस्से में बोल, 'थानों में यादवों की सुनवाई नहीं करने के आदेश हैं।
गौरतलब है कि भाजपा की प्रचंड लहर में भी समाजवादी पार्टी अपने गढ़ मैनपुरी को बचाने में सफल रही थी। फिरोजाबाद में भाजपा ने सपा के गढ़ को भेद कर यहां की 5 में से 4 विधानसभा सीटों पर जीत दर्ज की थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजप्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टEye Donation- बेटी को जन्म दे, चल बसी मां, लेकिन जाते-जाते दो नेत्रहीनों को दे गई रोशनीयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन और ट्रूडो जैसे दिग्गजों को पछाड़ाCorona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरदिल्ली में घटते कोरोना मामलों के बीच वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला, CM अरविन्द केजरीवाल ने उपराज्यपाल को भेजा पत्र50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup: टीम इंडिया का पूरा शेड्यूल, जानें कब और किस टीम से होगा मुकाबलाUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसइंडिया गेट पर लगेगी नेता जी की मूर्ति, पीएम मोदी ने ट्वीट की तस्वीरUP Election 2022: पूर्वांचल में कितना और क्या गुल खिलाएगा अखिलेश का ब्राह्मण कार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.