scriptShivpur assembly constituency Dhab area becomes an island in rainy season | Uttar Pradesh Assembly Elections 2022:शिवपुर विधानसभा क्षेत्र, जहां का ढाब इलाका भर बरसात बना रहता है टापू | Patrika News

Uttar Pradesh Assembly Elections 2022:शिवपुर विधानसभा क्षेत्र, जहां का ढाब इलाका भर बरसात बना रहता है टापू

तीन बार बदल चुका है जिस विधानसभा क्षेत्र का नाम वो है शिवपुर। वो विधानसभा जहां का ढाब इलाका मानसूनी सत्र में बन जाता है टापू। आवागमन के सारे संपर्क टूट जाते हैं। यहां तक कि बारिश भर बिजली संकट भी गहराता है। खाने-पीने की भी दिक्कतें होती है। दो-दो विधायक बने मंत्री पर नहीं सुधरी दशा। सब्जी व फल-फूल की खेती के लिए है मशहूर।

वाराणसी

Published: January 15, 2022 02:08:28 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022, बनारस के आठ विधानसभा क्षेत्रों में एक है शिवपुर विधानसभा क्षेत्र जो चंदौली संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है। इस विधानसभा का नाम दो बार बदल चुका है। आजादी के बाद 1952 में इस विधानसभा नाम रहा कटेहर जो वाराणसी के चिरईगांव और चोलापुर विकास खंड को मिला कर बनाया गया था। फिर 1962 के परिसीमन के बाद इसका नाम बदलकर चिरईगांव कर दिया गया। चिरईगांव विधानसभा क्षेत्र में वाराणसी के शहर उत्तरी विधानसभा क्षेत्र का बड़ा हिस्सा भी शामिल रहा। फिर 2012 के परिसीमन के बाद इसका नाम एक बार पुनः बदला गया और नया नाम हो गया शिवपुर। यहां से विधायक हैं भाजपा के अनिल राजभर।
शिवपुर विधानसभा क्षेत्र
शिवपुर विधानसभा क्षेत्र
विधानसभा क्षेत्र के दो विधायक रह चुके मंत्री, नहीं बदली तस्वीर

विधानसभा क्षेत्र का हाल बरसात के दिनों में बदतर हो जाताह है। इसी विधानसभा क्षेत्र का ढाब इलाका जो बरसात में टापू बन जाता है। संचार ही नहीं यातायात के साधन भी खत्म हो जाते हैं। विधानसभा का बड़ा इलाका बुनकर बहुल भी है। मगर वो भी बेहाल हैं। ये हाल तब है जब विधानसभा क्षेत्र से वीरेंद्र सिंह और अनिल राजभर मंत्री रह चुके हैं। क्षेत्र में सीवर, पेयजल समस्या की समस्या भी विकराल है।
विधानसभा के विजयी विधायक
वर्ष- नाम-पार्टी

1952-बलदेव सिंह यादव-कांग्रेस
1957-रघुनाथ यादव-संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी
1962-हिम्मत बहादुर-कांग्रेस
1967-हिम्मत बहादुर-कांग्रेस
1969-उदयनाथ- बीकेडी
1974-उदयनाथ-लोकदल
1977-उदयनाथ-लोकदल
1980-श्रीनाथ सिंह-कांग्रेस ई
1985-श्रीनाथ सिंह-कांग्रेस
1989-चंद्रशेखर-जनता पार्टी
1991-माया शंकर पाठक-भाजपा
1993- माया शंकर पाठक-भाजपा
1996-वीरेंद्र सिंह-कांग्रेस
2002-रामजीत राजभर-सपा
2007-उदयलाल मौर्या-बसपा
2012-उदयलाल मौर्या-बसपा
2017-अनिल राजभर

मतदाता
कुल मतदाता-368374
पुरुष-201315
महिला-167048
थर्ड जेंडर-11


मुद्दे
सब्जी फल-फूल की खेती को मार्केट नहीं, लघु उद्योग, कल कारखाना नहीं, छोटे उद्यमी बेगार
ढाब इलाका जो टापू बन जाता है।

बाढ ग्रस्त इलाके में जीवन दुरूह

प्रमुख दावेदार

कांग्रेस- मिठाई लाल, राहुल कुमार सिंह, राम सुधार मिश्रा, विनोद कुमार सिंह, गिरीश चंद्र पांडेय, ओमप्रकाश सिंह, शैलेंद्र कुमार सिंह, अशोक कुमार पांडेय, स्वाति सिंह
सपा- उदय लाल मौर्या दो बार के विधायक, संजय मिश्रा (जिला पंचायत सदस्य), आनंद मोहन गुड्डू, उमेश यादव, प्रदीप मौर्या, संजय यादव

भाजपा- अनिल राजभर, राम प्रकाश दुबे, दुर्गा सिंह, उमेश दत्त पाठक, विनोद राजभर
बसपा- रवी मौर्या

जातीय समीकरण

यादव 65 हजार, दलित 50,000, राजभर 35 000, मुस्लिम 30000, ब्राह्मण 22 हजार, मौर्या 21 हजार, पटेल 28 हजार, निषाद 10 हजार, चौहान 8,000, राजपूत 15 हजार, बनिया 6-8 हजार, भूमिहार 4000

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावCorona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूअलवर दुष्कर्म मामलाः प्रियंका गांधी ने की पीड़िता के पिता से बात, हर संभव मदद का भरोसाArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यभीम आर्मी प्रमुख चन्द्र शेखर ने अखिलेश यादव पर बोला हमला, मुलाकात के बाद आजाद निराशछत्तीसगढ़ में तेजी से बढ़ रहे कोरोना से मौत के आंकड़े, 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत, 6153 नए संक्रमित मिले, सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट दुर्ग मेंयूपी विधानसभा चुनाव 2022 पहले चरण का नामांकन शुरू कैराना से खुला खाता, भाजपा के लिए सीटें बचाना है चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.