Tamil Nadu Assembly Election 2021 : एमडीएमके ने जारी किया घोषणा पत्र, इन वादों पर दिया जोर

तमिलनाडु में एमडीएमके ने भी आज घोषणा पत्र जारी कर दिया। पार्टी प्रमुख ने जनता से नौकरियों में आरक्षण देने के साथ हिंदी और संस्कृति का विरोध पहले की तरह जारी रखने का वादा किया है।

By: Dhirendra

Updated: 17 Mar 2021, 04:41 PM IST

नई दिल्ली। तमिलनाडु विधानसभा चुनाव 2021 ( Tamil Nadu Assembly Election 2021 ) में एआईएडीएमके, डीएमके और कांग्रेस के बाद एमडीएमके ने भी बुधवार को चुनाव घोषणा पत्र जारी कर दिया। एमडीएमके प्रमुख और सांसद वाइको ने बुधवार को चेन्नई में पार्टी का चुनाव घोषणा पत्र जारी किया। पार्टी ने प्रदेश के लोगों को नौकरियों में आरक्षण देने के साथ कई बड़े दावे किए हैं।

हिंदी और संस्कृति नहीं थोपने देंगे

एमडीएमके प्रमुख वाइको ने घोषणा पत्र जारी करते हुए प्रदेश के लोगों से नौकरियों में आरक्षण देने का वादा किया है। इसके साथ पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में साफ कर दिया है कि वो हिंदी और संस्कृति तमिलनाडु के लोगों पर थोपने का पहले की तरह मुखर विरोध जारी रखेंगे। उन्होंने मीडिया को बताया कि हम एआईएडीएमके को हिंदुत्ववादी ताकतों से साथ मिलकर पेरियार की भूमि पर संस्कृति और हिंदी थोपने नहीं देंगे। इसलिए हमारा मकसद ऐसी ताकतों को सत्ता से दूर रखने के लिए एआईएडीएमके को हराना है।

बीजेपी से तमिल संस्कृति को खतरा

इसके अलावा उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी धर्मनिरपेक्षता और सामाजिक न्याय के सिद्धांतों में विश्वास करती हैं। जबकि बीजेपी से तमिलनाडु की संस्कृति को बड़ा खतरा है। बीजेपी यहां की सामाजिक बुनावट को तोड़ना चाहती है। लेकिन हम बीजेपी को इस मंसूबे में कामयाब नहीं होने देंगे। साथ ही केंद्र को तमिलनाडु में नीट का एग्जाम बंद करने के लिए मजबूर करेंगे।

इस मुद्दे पर जारी है राजनीति

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के दोषियों को रिहा करने को लेकर पार्टी का संघर्ष जारी रहेगा। राज्यपाल, प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार की ओर से इस मामले में राजनीति का खेल जारी है। सभी एक दूसरे पर मसले को टालने में लगे हैं। जबकि राजीव गांधी के हत्या के दोषियों को छोड़ने के लिए केंद्र सरकार से पूछने की जरूरत नहीं है। राज्यपाल चाहें तो अपने अधिकार का प्रयोग कर उन्हें छोड़ सकते हैं।

पार्टी तमिल ईलम स्टेट की मांग पर अडिग

एमडीएमके प्रमुख ने कहा कि श्रीलंका में अलग से तमिल ईलम राज्य की मांग को लेकर हम अपना हमारी लड़ाई जारी रहेगी। अंतरराष्ट्रीय मंचों के जरिए श्रीलंका में अलग से तमिल राज्य की स्थापना हमारा मकसद है।

एक से बढ़कर एक वादे

बता दें कि तमिलनाडु की जनता को अपने पक्ष में करने के लिए डीएमके और एआईएडीएमके ने कई मुफ्त स्कीम की घोषणा की थी। पहले डीएमके ने जहां जनता के लिए दर्जनों वादे किए हैं, वहीं राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी एआईएडीएमके लोगों को फ्रीबीज और तोहफे से नवाजने की घोषणा की है। कांग्रेस ने भी प्रदेश में शराब बंदी का कार्ड खेला है।

गौरतलब है कि तमिलनाडु की 234 विधानसभा सीटों में से कांग्रेस 25 सीट पर चुनाव लड़ रही है। इसके साथ ही पार्टी ने एक लोकसभा सीट पर उपचुनाव भी लड़ने का फैसला किया है। तमिलनाडु में कांग्रेस और डीएमके गठबंधन के तहत विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव 2021
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned