UP Assembly Elections 2022: जितिन प्रसाद, संजय निषाद और बेबी रानी मौर्य बनाए जा सकते हैं एमएलसी

UP Assembly elections 2022. निषाद पार्टी (Nishad Party) और भाजपा (BJP) के बीच हुआ गठबंधन, सीटों का बंटवारा तय समय पर. संजय निषाद ने कहा, अपने सिंबल पर लड़ेंगे विधानसभा चुनाव.

By: Abhishek Gupta

Updated: 24 Sep 2021, 06:18 PM IST

लखनऊ. UP Assembly elections 2022. 2022 चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) जातीय समीकरण के संतुलन को बनाए रखने व गठबंधन में मजबूत करने में लग गई है। इसी सिलसिले में हाल में हुई कोर समिति की बैठक में रिक्त पड़ीं चार एमएलसी की सीटों को भरने पर चर्चा हुई और तीन नामों पर मुहर लगाई गई। इनमें कांग्रेस से आए जितिन प्रसाद (Jitin Prasad), गठबंधन दल निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद (Sanjay Nishad) व भाजपा की उपाध्यक्ष बेबी रानी वर्मा (Beni Rani Verma) को एमएलसी बनाना तय हुआ है। शुक्रवार को निषाद पार्टी और भाजपा के बीच गठबंधन का ऐलान भी हुआ। हालांकि सीटों का गणित अभी तय नहीं हुआ है, लेकिन संजय निषाद का कहना है कि वह गठबंधन में भी अपनी पार्टी के सिंबल पर ही चुनाव लड़ेगे। भाजपा की ओर से चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि निषाद पार्टी के साथ सीटों के बंटवारे पर सही समय पर निर्णय होगा। अन्य कई दलों से बात चल रही हैं।

ये भी पढ़ें- बॉलीवुड कलाकार की भविष्यवाणी, कहा भाजपा को मिलेगी करारी शिकस्त, इनकी बनेगी सरकार

जातीय समीकरण पर दे रही भाजपा ध्यान-

एमएलसी सीटों के लिए नेताओं का चुनाव करते समय भाजपा ने जातीय समीकरण का खूब ध्यान रखा है। जितिन प्रसाद के जरिए भाजपा अपने ब्राह्मण वोट बैंक को और मजबूत करने में लगी है, तो संजय निषाद के जरिए भाजपा निषादों को साधने की कोशिश करेगी। उत्तराखंड की पूर्व राज्यपाल व नवनियुक्त राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बेबी रानी मौर्य के जरिए भाजपा बसपा सुप्रीमो मायावती के जाटव वोट बैंक में सेंध लगाने की तैयारी में हैं। भाजपा ने बेबीरानी को पूरी ताकत से चुनावी मैदान में उतारने की रणनीति भी बनाई है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned