scriptup assembly elections 2022 politics of the princely states is now endi | यूपी में रजवाड़ों से सियासी दलों का मोहभंग, इस बार नहीं मिल रही तवज्जो | Patrika News

यूपी में रजवाड़ों से सियासी दलों का मोहभंग, इस बार नहीं मिल रही तवज्जो

यूपी की राजनीति में ऐसा पहली बार है जब राजपरिवारों की पूछ परख कम हुई है। भाजपा हो या फिर सपा दोनों प्रमुख दलों ने राजाओं और राजकुमारियों से दूरी बना रखी है। ऐसे में जैसे-जैसे चुनावी गतिविधियां बढ़ रही हैं सूबे के करीब 20 राजपरिवारों की धड़कनें भी तेज होती जा रही हैं। सबसे ज्यादा बेचैनी रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया में है।

लखनऊ

Published: December 22, 2021 08:00:54 pm

लखनऊ. यूपी में राजे-रजवाड़ों और सियासत की जुगलबंदी का अपना ही इतिहास है। भले ही रियासतें खत्म हो गयीं लेकिन, राजाओं की सियासत कायम है। अब जबकि, 18वीं विधानसभा का चुनाव नजदीक है, एक बार फिर कई राजपरिवार चुनावी मैदान में उतरने की तैयारी में हैं। लेकिन, यूपी की राजनीति में ऐसा पहली बार है जब राजपरिवारों की पूछ परख कम हुई है। भाजपा हो या फिर सपा दोनों प्रमुख दलों ने राजाओं और राजकुमारियों से दूरी बना रखी है। ऐसे में जैसे-जैसे चुनावी गतिविधियां बढ़ रही हैं सूबे के करीब 20 राजपरिवारों की धड़कनें भी तेज होती जा रही हैं। सबसे ज्यादा बेचैनी रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया में है। यह अब तक निर्दलीय जीतते आए हैं, लेकिन इस बार सपा और भाजपा दोनों ने इनके खिलाफ प्रत्याशी उतारने की तैयारी कर ली है।
up_ki_raiyasat.jpg
17वीं विधानसभा में जीते थे आधा दर्जन राजा-रानी

17वीं विधानसभा में करीब आधा दर्जन विधायक ऐसे हैं जो विभिन्न राजपरिवारों से जुड़े हैं। इनमें सपा, भाजपा और बसपा तीनों दल शामिल हैं। अमेठी राजघराने की रानी गरिमा सिंह भाजपा के टिकट पर अमेठी विधानसभा सीट से विधायक हैं।
यह भी पढ़ें

टूटता तिलिस्म – पार्ट 3, राजघरानों की रियासत तो गयी पर यूपी में सियासत तो है

टिकट के लिए परिक्रमा

गोंडा के मनकापुर राजघराने के राजा कुंवर आनन्द सिंह कभी पूर्वांचल में कांग्रेस का टिकट बांटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते थे। 1967 तक इसी घराने के पास विधानसभा की सीट रहा करती थी। लेकिन, बाद में अजा के लिए सीट आरक्षित हो जाने के बाद यह राजघराना सीधे तौर पर चुनावी मैदान से दूर हो गया है। इस बार भी इन्हें कहीं से टिकट मिलने की संभावना नहीं दिख रही। वहीं आगरा के भदावर रियासत की रानी पक्षलिका सिंह जो बीहड़ की रानी के नाम से भी प्रसिद्ध हैं वे अभी बीजेपी विधायक हैं। इस बार पार्टी उन्हें टिकट देगी या नहीं अभी तय नहीं है।
राजाभैया की राह इस बार आसान नहीं

प्रतापगढ़ के रघुराज प्रताप सिंह की बात करें तो वो ज्यादातर निर्दलीय ही चुनाव लड़ते हैं। जीतने के बाद किसी न किसी पार्टी से जुड़ जाते हैं। हालांकि, इस बार सपा या भाजपा उन्हें अपनी पार्टी से जोडऩे के इच्छुक नहीं हैं। सपा ने कुंडा में उनके खिलाफ प्रत्याशी उतारने की घोषणा कर दी है। जबकि, योगी सरकार ने तो उनके खिलाफ एक पुराने मामले में सीबीआइ जांच फिर शुरू करवा दी है।
यह भी पढ़ें

टूटता तिलिस्म – पार्ट 2, यूपी के रजवाड़ों को तवज्जो नहीं दे रहे सियासी दल

टिकट बंटवारे के बाद साफ होगी स्थिति

इस तरह रियासत और सियासत के इस मेल में अब इस बार कितनी रियासत अपनी सियासत बचा सकते हैं टिकट बंटवारे के बाद ही साफ हो सकेगा। मगर इतना तो तय की सियासी दलों का इन रजवाड़ों से पूरी तरह तो नहीं मगर थोड़ा बहुत ही मोह भंग होना शुरू हो गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.