scriptUP Assembly Elections 2022 : There will be one socialist clan on Deep | UP Assembly Elections 2022 : दीपावली पर एक होगा समाजवादी कुनबा ! | Patrika News

UP Assembly Elections 2022 : दीपावली पर एक होगा समाजवादी कुनबा !

UP Assembly Elections 2022 : करीब पांच साल पूर्व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहते अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) बीच अहम को लेकर दूरियां उत्पन्न हो गई थी। उस समय शिवपाल सिंह कैबिनेट मंत्री थे। दोनों के बीच इतनी खटास बढ़ गई चाचा शिवपाल ने प्रगतिशील समाज पार्टी लोहिया के नाम से अपना अलग दल भी बना लिया।

 

 

लखनऊ

Updated: November 02, 2021 06:08:26 pm

UP Assembly Elections 2022 : लखनऊ. इस बार दीपावली (Diwali 2021) के दिन समाजवादी परिवार के बीच तल्खियां खत्म होने के आसार नजर आ रहे हैं। हाल ही में चाचा और भतीजे द्वारा दिए गए बयानों से कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही शिवपाल सिंह (Shivpal Singh Yadav) और अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के बीच आई दूरियां समाप्त हो सकती है। अगर ऐसा हुआ तो इसका असर 2022 में होने वाले विधानसभा के चुनाव में साफ नजर आएगा।
akhilesh-shivpal.jpg
चाचा और भतीजे ने अपने बयानों से दिए संकेत

करीब पांच साल पूर्व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहते अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव बीच अहम को लेकर दूरियां उत्पन्न हो गई थी। उस समय शिवपाल सिंह कैबिनेट मंत्री थे। धीरे-धीरे दोनों के बीच इतनी खटास बढ़ गई चाचा शिवपाल सिंह यादव ने प्रगतिशील समाज पार्टी लोहिया के नाम से अपना अलग दल भी बना लिया। इस दौरान सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव, पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने चाचा और भतीजे के बीच आई दूरियों को खत्म करने के प्रयास किए, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। दोनों के बीच आई दूरियों के बाद से शिवपाल और अखिलेश एक-दूसरे पर हमलावर भी रहे थे। लेकिन अब जब यूपी में विधानसभा चुनाव नजदीक है, तब दोनों के बीच एक बार फिर नरमी दिखाई दे रही है। माना जा रहा है कि इस दीपावली में सैफई में चाचा-भतीजे के बीच जो खटास चल रही है, वह पूरी तरह खत्म हो सकती है।
अब नेताजी ही गठबंधन कराएंगे

प्रसपा के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने 31 अक्टूबर को अलीगढ़ में पटेल जयंती पर बयान देकर सपा से मिलने के संकेत दिए थे। शिवपाल ने अपने बयान में कहा था कि यदि सपा में उनके कार्यकर्ताओं को सम्मान मिलता है, तो उन्हें सपा से विलय करने में कोई हिचक नहीं है। इससे पहले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी कहा था कि इस बार वह विधानसभा के चुनाव छोटे दलों के साथ मिलकर लड़ेंगे। उन्होंने कहा था कि यदि चाचा ( शिवपाल सिंह यादव ) साथ आने चाहते हैं, तो पार्टी में उनका पूरा सम्मान हैं। अब देखना है कि 4 नवंबर को दीपावली के दिन पैतृक गांव सैफई में मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के सामने दोनों के आई सभी दूरियां खत्म हो पाएगी या नहीं या फिर दोनों दल अलग-अलग विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे। हालांकि शिवपाल ने कहा था कि अब नेताजी ही गठबंधन कराएंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: आज होगी वीरता पुरस्कारों की घोषणा, गणतंत्र दिवस से पूर्व राजधानी बनी छावनीशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातभाजपा की नई लिस्ट में हो सकती है छंटनी की तैयारी, कट सकते हैं 80 विधायकों के टिकटDelhi: सीएम केजरीवाल का ऐलान, अब सरकारी दफ्तरों में नेताओं की जगह लगेंगी अंबेडकर और भगत सिंह की तस्वीरेंछत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 19 मरीजों की मौत, जनवरी में ये आंकड़ा सबसे ज्यादा, इधर तेजी से बढ़ रही एक्टिव मरीजों की संख्याUttar Pradesh Assembly Elections 2022: शह और मात के खेल में डिजिटल घमासान, कौन कितने पानी मेंRepublic Day 2022: जानिए इसका इतिहास, महत्व और रोचक तथ्यकई टेस्ट में भी पकड़ में नहीं आता BA 2 स्ट्रेन, जानिए क्यों खतरनाक है ओमिक्रान का ये सब वेरिएंट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.