scriptUP Election 2022 Muslim Vote Bank Importance in UP Politics | UP Election 2022: सियासी दलों की धुकधुकी बढ़ा रही है मुस्लिमों की चुप्पी, किसे करेगा वोट? | Patrika News

UP Election 2022: सियासी दलों की धुकधुकी बढ़ा रही है मुस्लिमों की चुप्पी, किसे करेगा वोट?

यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर जहां बीजेपी, सपा, बसपा और कांग्रेस के साथ छोटे दल भी अपनी तैयारी कर चुके हैं। वहीं मतदाता भी वोट के लिए तैयार है। मगर सियासी दलों को मुस्लिम मतदाताओं की चुप्पी खटक रही है। 20 फीसदी वोट बैंक वाली मुस्लिम आबादी किसे वोट करेगी ये कोई नहीं समझ पा रहा।

लखनऊ

Published: January 12, 2022 08:30:19 pm

यूपी के मुसलमान इस बार के विधानसभा चुनाव में खामोश हैं। हालांकि, 20 फीसदी मुसलमान जिस भी पार्टी पर मेहरबान हो गये उसका जीत पक्की हो जाती है। यह भी आम धारणा है कि मुसलमान थोक रूप से एक तरफा मतदान करते हैं। लेकिन ऐसा पहली बार है जब न तो चुनावों के लिए कोई अभी तक कोई फतवा जारी हुआ न ही कोई दल यह थाह लगा पा रहा है कि मुस्लिम वोट किधर जाएगा। मुस्लिमों की चुप्पी ने राजनीतिक दलों की धुकधुकी बढ़ा दी है। अब तक के चुनावों का विश्लेषण करें तो पता चलता है कि मुस्लिम बहुल सीटों के मतदाता सामान्य सीटों के वोटरों से कुछ भी अलग रुख अख्तियार नहीं करते। वे भी बाकी की तरह स्थानीय मुद्दों, गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, भ्रष्टाचार, कानून-व्यवस्था और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को लेकर वोट करते हैं। वे कभी किसी धार्मिक अपील पर वोट नहीं करते नहीं दिखे।
Muslim Vote Bank Importance in UP Politics
Muslim Vote Bank Importance in UP Politics
कांग्रेस से छिटक गए वोटर

कभी कांग्रेस का परंपरागत वोट बैंक रहें मुस्लिम फिलहाल कांग्रेस से छिटक कर पिछले कुछ चुनावों से सपा और बसपा को वोट करते रहे हैं। इस बार सपा, बसपा, कांग्रेस के साथ ही असदुद्दीन ओवैसी भी मुस्लिमों पर डोरे डाल रहे हैं। पूर्वांचल में डॉ अय्यूब अंसारी की पीस पार्टी भी खुद को मुसलमानों का सबसे बड़ा हितैषी बताती रही है। 2012 में पीस पार्टी तीन सीट जीत चुकी है। लेकिन इस चुनाव में उसका असर गायब है।
यह भी पढ़ें

योगी मथुरा से नहीं लड़ेगे चुनाव, आखिरी फैसला सीईसी की बैठक में लेंगे पीएम मोदी

24 सीटों पर मुस्लिम हावी

यूपी की करीब 24 से ज्यादा सीटें ऐसी हैं जहां मुस्लिम उम्मीदवार हावी हैं। जबकि करीब 100 सीटें ऐसी हैं जिन पर मुस्लिम मतदाता हार-जीत को प्रभावित करते हैं।
मुस्लिम मतदाताओं का सियासी गणित

  • यूपी की 145 सीटों पर प्रभाव
  • करीब 70 सीटों में 20 से 60 फीसदी के बीच आबादी
  • रामपुर, फर्रुखाबाद और बिजनौर में करीब 40 प्रतिशत मुस्लिम आबादी
यह भी पढ़ें

सत्ता बदलने का दम रखने वाली महिलाएं, इस बार किसे डालेंगी वोट?

2017 में मुस्लिम प्रतिनिधित्व

  • बसपा ने सबसे ज्यादा 102 मुस्लिम उम्मीदवार उतारे, जीते 05
  • सपा-कांग्रेस गठबंधन ने 89 मुस्लिम उम्मीदवार उतारे 19 विधायक जीते (सपा -17, कांग्रेस -2)
  • 2012 के विधानसभा चुनाव में 64 यानि 17.1 फीसदी मुस्लिम विधायक जीते (सपा-41, बसपा-15, कांग्रेस-2, अन्य-6)
  • 2017 के विधानसभा चुनाव में 5.9 फीसदी ही जीत सके

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.