scriptUP Election 2022 OBC caste politics BJP SP BSP Congress | UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल' | Patrika News

UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'

ओबीसी नेताओं का लगातार पार्टी छोड़ना बीजेपी के लिए मुसीबत बनता जा रहा है। स्वामी प्रसाद मौर्या के मंत्रिपद से इस्तीफा देने और पार्टी छोड़ने से जो सिलसिला शुरू हुआ उसने यूपी का सियासी समीकरण ही बदल कर रख दिया है। पिछले कुछ दिनों सिर्फ जात की बात ही हो रही है, पिछड़ों, अति-पिछड़ों की बात हो रही है।

लखनऊ

Updated: January 15, 2022 07:38:07 am

यूपी में विकास और हिंदुत्व के नाम पर चुनाव लडऩे की भाजपा की योजना पर पानी फिर गया है। पिछले चार दिनों में भाजपा विधायकों के पाला बदल ने न केवल पार्टी को मुसीबत में डाल दिया है, बल्कि सपा ने बड़े ही सुनियोजित तरीके से यूपी के चुनावी समीकरण को तीन दशक बाद एक बार फिर मंडलवाल बनाम कममंडलवाद के मुद्दे पर लाकर पटक दिया है। भाजपा छोडऩे वाले विधायकों ने अति पिछड़ा वर्ग यानी एमबीसी की बदहाली की बात उठाकर भाजपा के 80 बनाम 20 यानी हिंदुत्व बनाम अल्पसंख्क के मुद्दे पर भी पानी फेर दिया है। एकाएक बदले चुनावी समीकरण से भाजपा सकते में है। वह एमबीसी को पुचकारने में जुट गयी है। चर्चा हर तरफ जात की हो रही है और मुद्दा पिछड़ों में अति-पिछड़ों का छिड़ गया है।
UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण
UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण
ध्रुवीकरण को झटका

बीजेपी ने 80 बनाम 20 की लड़ाई यानि 80 फीसदी हिन्दू बनाम 20 फीसदी मुसलमानों की बात कहकर ध्रुवीकरण का माहौल बनाने की कोशिश की थी। लेकिन एमबीसी वोट बैंक ने इस मुददे की हवा निकाल दी है। मुलायम सिंह यादव के हमकदम रहे ओबीसी वोट बैंक में से छिटकर निकला एमबीसी यानी मोस्ट बैकवर्ड क्लास ने सियासत की दिशा बदल दी है। अब हर तरफ जात की बात ही हो रही है। पिछड़ों में अति-पिछड़ों की चर्चा चल पड़ी है।
यह भी पढ़ें

विकास हुआ बेपटरी, दलित जातियों पर डाल रहे सभी दल डोरे

स्वामी ने दी एमबीसी को हवा

शुक्रवार को अपने समर्थक सात विधायकों के साथ समाजवादी पार्टी जॉइन करते समय स्वामी प्रसाद मौर्या ने मंडलवाद को और हवा दे दी। उन्होंने मंच से नारा दिया-वोट दें पिछड़े, मलाई खाएं अगड़े। उन्होंने कहा समाजवाद और अंबेडकरवाद का समागम यूपी की राजनीति में बड़ा कारनामा दिखाएगा। उन्होंने कहा-85 प्रतिशत हमारा, 15 प्रतिशत में बड़ा बंटवारा। इस तरह से उन्होंने नयी बहस को जन्म दे दिया।
मोदी लहर की दीवार तोडऩे की कोशिश

2014 के बाद से यूपी में जिन चुनावों में बीजेपी की जीत मिली उनमें मतदाताओं ने जाति से ऊपर उठकर एक नाम, एक पार्टी और राष्ट्रवाद को तरजीह दी। यानर मोदी लहर ने जातियों की दीवार तोड़ दी थी। इसीलिए सियासी दुश्मनी भूलकर अखिलेश और मायावती बुआ-भतीजा बन बैठे थे।
चार दिन में यूं बदला चुनावी समीकरण

अखिलेश यादव ने चुनाव को नयी दिशा में मोडऩे के लिए चाल चली। पहले सपाकी सहयोगी सुभासपा के ओपी राजभर अति पिछड़ों के पिछड़पन की बात करते रहे। फिर एकाएक एमबीसी में शामिल योगी सरकार से इस्तीफा देने वाले तीनों मंत्री अति पिछड़ों का राग अलापने लगे। और अब चुनावी समीकरण हिंदुत्व और अल्पसंख्यक से हटकर मंडलवाद पर केंद्रित हो गया है।
यह भी पढ़ें

अखिलेश ने सहयोगी पार्टियों को बांटी सीटें, जानें किस दल को कहां से मिला टिकट

भाजपा को कंमडलवाद पर भरोसा

पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की रैलियों में भाजपा विकास की बात करती रही। अब वह इन मुद्दों को भूलकर अयोध्या, काशी और मथुरा पर आकर अटक गयी है। वह हिंदुत्व की बात कर रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कततत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal LoanNew Maruti Alto का इंटीरियर होगा बेहद ख़ास, एडवांस फीचर्स और शानदार माइलेज के साथ होगी लॉन्चVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!प्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टइन 4 राशि की लड़कियां अपने पति की किस्मत जगाने वाली मानी जाती हैंToyoto Innova से लेकर Maruti Brezza तक, CNG अवतार में आ रही है ये 7 मशहूर गाड़ियां, जानिए कब होंगी लॉन्च

बड़ी खबरें

Coronavirus update: 24 घंटे में कोरोना के 3 लाख 37 हजार नए केस, 488 मौतेंUP Election 2022: पूर्वांचल के 12 हजार बूथों पर होगी निर्वाचन आयोग की पैनी नजर, किसी तरह की गड़बड़ी पलक झपकते होगी दूरClub House Chat मामले में दिल्ली पुलिस कर रही 19 वर्षीय छात्र से पूछताछ, हरियाणा से भी हुई तीन गिरफ्तारियांCorona Vaccine: वैक्सीन के लिए नई गाइडलाइंस, कोरोना से ठीक होने के कितने महीने बाद लगेगा टीकाGood News: प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस बने माता-पिता, एक्ट्रेस ने पोस्ट शेयर कर फैंस को बताया- बेबी आया है...PM Kisan: Budget 2022 में किसानों को मिल सकती है बड़ी सौगात,पीएम किसान सम्मान की रकम में हो सकती है बढ़ोतरीUP Election 2022: .. इस प्रदेश में तो आधी आबादी ही तय करती है किसकी बनेगी सरकारUP Election: भाजपा की 25 वर्षीय वह उम्मीदवार जो आ गई सुर्खियों में, पिता हाल ही में हुए थे सपा में शामिल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.