scriptUttar Pradesh Assembly Elections 2022 Big challenge for BJP to retain the seats won in Purvanchal | Uttar Pradesh Assembly Elections 2022: पूर्वांचल में मिली सीटों को कायम रखना भाजपा के लिए बड़ी चुनौती | Patrika News

Uttar Pradesh Assembly Elections 2022: पूर्वांचल में मिली सीटों को कायम रखना भाजपा के लिए बड़ी चुनौती

भाजपा, Uttar Pradesh Assembly Elections 2022 में 2017 के चुनाव परिणाम को दोहराने या उससे भी बेहतर करने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है। चुनावी वर्ष में ताबड़तोड़ शिलान्यास और लोकार्पण हो रहे हैं। इस बीच यूपी की प्रमुख विपक्षी पार्टी समाजवादी पार्टी सहित अन्य ने भी पूरी ताकत झोंक दी है। सभी का फोकस पूर्वांचल पर है। ऐसे में बीजेपी को अतीत की पुनरावृत्ति काफी चुनौतीपूर्ण लग रहा है।

वाराणसी

Published: December 31, 2021 02:20:58 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. यूपी की सत्ता पर काबिज होने के लिए पूर्वांचल को साधना हर दल की जरूरत है। वजह साफ है अब तक के चुनाव परिणाम बताते हैं कि पूर्वांचल का मतदाता लगातार किसी भी दल को बहुमत नहीं देता है। ये यहां की परंपरा है। इसे साबित करते हैं पिछले चुनाव परिणाम। यही वजह है कि इस बार जहां विपक्ष ने पूर्वांचल में अपनी पैठ बनानी शुरू कर दी है वहीं बीजेपी भी अपना पूरा जोर लगा रही है।
BJP
BJP
पूर्वांचल की सियासी परंपरा

सूबे की 33 फीसदी सीटें पूर्वांचल की हैं। हालांकि, पिछले तीन दशक में पूर्वांचल का मतदाता कभी किसी एक पार्टी के साथ नहीं रहा। वह एक चुनाव के बाद दूसरे चुनाव में एक का साथ छोड़कर दूसरे का साथ पकड़ता रहा है। 2007 में बसपा तो 2012 में सपा ने पूर्वांचल में बढ़िया प्रदर्शन करने के बाद भी इस इलाके पर अपनी पकड़ मजबूत बनाए नहीं रख सकी। 2017 में बीजेपी ने इस इलाके में क्लीन स्वीप किया था, लेकिन 2019 में चार लोकसभा सीटें गवां दीं। 2022 के लिए जिस तरह से विपक्ष पूर्वांचल में सक्रिय है, उसे लेकर बीजेपी भी अपने गढ़ को मजबूत करने में जुट गई है।
पीएम-सीएम का है गढ

बता दें कि बीजेपी के पूर्वांचल पर ज्यादा फोकस करने के पीछे एक और बड़ा कारण वाराणसी और गोरखपुर। वाराणसी जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ का क्षेत्र है गोरखपुर। ऐसे में बीजेपी की पूरी कोशिश होगी कि पूर्वांचल में उसका वर्चस्व कायम रहे। पूर्वांचल में बीजेपी की जीत सीधे-सीधे पीएम और सीएम की प्रतिष्ठा से जुड़ी है। इस इलाके में सीटें कम होने का मतलब पीएम व सीएम की साख पर बट्टा लगना होगा। लिहाजा बीजेपी ने पूर्वांचल में पूरी ताकत झोंक दी है।
बीजेपी ने लगाया है एड़ी चोटी का जोर

बता दें कि 2017 के चुनाव में पूर्वांचल ने ही बीजेपी को यूपी की सत्ता तक पहुंचाया था। बीजेपी इस बात को अच्छे से जानती है कि 2022 का विधानसभा चुनाव जीतना है तो पूर्वांचल को साधे रखना होगा। यही वजह है कि सीएम योगी ने पूर्वांचल पर पकड़ बनाए रखने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है। इसी के तहत विकास योजनाओं के लोकार्पण का सिलसिला तेज किया गया है। सीएम योगी के अलावा जेपी नड्डा सहित तमाम बीजेपी नेताओं का काशी में जुटान हो रहा हैं। अभी दो दिन पहले ही बीजेपी के चाणक्य माने जाने वाले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने वाराणसी में एक रात रुक कर पार्टी नेताओं को जीत के मंत्र दिए।
2017 में बीजेपी ने पूर्वांचल में जीती थी 115 सीट

बीजेपी ने 2017 में पूर्वांचल की 28 जिलों की 164 विधानसभा सीट में से 115 सीट जीतकर भले ही रिकॉर्ड बनाया हो, लेकिन कई जिलों में पार्टी सपा से पीछे रह गई थी। आंकड़ों पर नजर डालें तो बीजेपी आजमगढ़ की 10 में से सिर्फ एक सीट, जौनपुर की 9 में से 4, गाजीपुर की 7 में से 3, अंबेडकरनगर की पांच में से 2 और प्रतापगढ़ की 7 में से दो सीटें ही जीत सकी थी। इसीलिए बीजेपी पूर्वांचल पर खास फोकस कर रही है तो विपक्ष भी इसे अपनी सियासी प्रयोगशाला बनाने में जुट गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.