scriptwhy Two Ministers and 9 MLAS quit from BJP before UP Election 2022 | Uttar Pradesh Assembly Election 2022 : आखिर क्यों बागी बन गए भाजपा के दो मंत्री और 9 विधायक, पढि़ए इनसाइड स्टोरी | Patrika News

Uttar Pradesh Assembly Election 2022 : आखिर क्यों बागी बन गए भाजपा के दो मंत्री और 9 विधायक, पढि़ए इनसाइड स्टोरी

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की घोषणा होते ही राजनीतिक दलों में आयाराम गया राम की राजनीति तेज हो गई है। वर्ष 2017 के चुनाव से पहले बसपा समेत विभिन्न दलों से भाजपा में शामिल हुए अधिकांश नेता-विधायक अब समाजवादी पार्टी में शामिल होने जा रहे हैं। दो कैबिनेट मंत्रियों ?वामी प्रसाद मौर्य व दारा सिंह चौहान और 9 विधायकों ने भाजपा को छोड़कर बड़ा झटका दिया है।

लखनऊ

Updated: January 12, 2022 05:16:39 pm

शिव सिंह

लखनऊ.(पत्रिका न्यूज नेटवर्क). लगभग पांच साल तक योगी सरकार के साथ रहे भारतीय जनता पार्टी के विधायक अचानक बागी क्यों होने लगे हैं। वे धुर विरोधी समाजवादी पार्टी में शामिल हो रहे हैं। सीतापुर सदर के विधायक राकेश वर्मा के बागी बनने से शुरु हुआ सिलसिला अभी थमा नहीं है जबकि ११ विधायक पार्टी छोड़ चुके हैं। इनमें स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह चौहान कैबिनेट मंत्री हैं। विधायकों में रोशन लाल वर्मा, विनय शाक्य, भगवती प्रसाद सागर, ब्रजेश प्रजापति, राकेश वर्मा, माधुरी वर्मा, जय चौबे, आरके शर्मा, रवींद्र नाथ त्रिपाठी आदि शामिल हैं। ये सभी भाजपा के सिंबल पर वर्ष २०१७ में विधायक चुने गए थे। इस चुनाव में भाजपा ने बहुमत हासिल किया था।
Uttar Pradesh Assembly Election 2022 : आखिर क्यों बागी बन गए भाजपा के दो मंत्री और 9 विधायक, पढि़ए इनसाइड स्टोरी
Uttar Pradesh Assembly Election 2022 : आखिर क्यों बागी बन गए भाजपा के दो मंत्री और 9 विधायक, पढि़ए इनसाइड स्टोरी
यह भी पढ़ें
UP Election 2022: मुलायम सिंह यादव के समधी हरिओम यादव और कांग्रेस MLA नरेश सैनी ने ज्वाइन की भाजपा

Uttar Pradesh Assembly Election 2022 की घोषणा के बाद से ही दल-बदलने का सिलसिला तेज हो गई है। उत्तर प्रदेश में सात चरणों में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। दल-बदल की इस प्रवृत्ति पर लखनऊ यूनिवर्सिटी के मानवविज्ञान विभाग के प्रोफेसर उदय प्रताप सिंह की नजर मे ंऐसे नेता अवसरवादी हैं। प्रोफे सर सिंह का कहना है कि इन्हें देश-समाज से कोई मतलब नहीं है, बल्कि वे खुद व परिजनों के लिए ही मलाईदार पद चाहते हैं, जब तक ये चीजें मिलती हैं, तब तक उस दल में रहते हैं और जब उन्हें लगता है कहीं और मिलेगा तो वहां चले जाते हैं।
भाजपा से बगावत करने वालों में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य से लेकर कई बार से विधायक तक शामिल हैं। इनमें किसी का टिकट कट रहा था, किसी को भाजपा की विचारधारा पसंद नहीं थे। पढि़ए इन सभी विधायकों के बागी होने की इनसाइड स्टोरी-
1. स्वामी प्रसाद मौर्य
स्वामी प्रसाद मौर्य की करें तो वह भाजपा से पडऱौना से विधायक हैं। स्वामी प्रसाद की दिक्कत अपने बेटे उत्कृष्ट मौर्य को टिकट दिलाने को लेकर थी। भाजपा ने वर्ष 2017 के चुनाव में उत्कृष्ट को ऊंचाहार से टिकट दिया था। लेकिन वे सपा के मनोज पांडेय से हार गए। त्यागपत्र के पीछे चर्चा है कि उत्कृष्ट मौर्य को फिर से टिकट देने की मांग भाजपा को स्वीकार नहीं थी। उनकी नाराजगी की यही सबसे बड़ी वजह थी। इनकी बेटी संघमित्र मौर्य बदायूं से भाजपा की सांसद हैं।
यह भी पढ़ें
Yogi Adityanath सरकार से इस्तीफा देते ही स्वामी प्रसाद मौर्य का गिरफ्तारी वारंट जारी

2. दारा सिंह चौहान
योगी सरकार में मंत्री रहे दारा सिंह चौहान ने मंत्रिमंडल से त्यागपत्र देते हुए भाजपा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा पूरे पांच साल अपमानजनक स्थिति का सामना करना पड़ा। दारा सिंह चौहान भी बसपा के कद्दावर नेता रहे हैं और पिछले चुनाव में ही भाजपा में आए थे।
3.विनय शाक्य
इटावा की विधूना सीट से भाजपा विधायक विनय शाक्य भी बागी हो गए हैं। उनकी बेटी रिया ने अपने पिता के अपहरण की आशंका जताई जबकि पुलिस ने इससे इनकार किया। विधायक शाक्य भी मौर्य के समर्थकों में गिने जाते हैं। वे बसपा के सिंबल पर वर्ष 2022 में विधूना से विधायक भी रह चुके हैं।
4.ब्रजेश प्रजापति
बांदा की तिंदवारी सीट से विधायक ब्रजेश कुमार प्रजापति स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ भाजपा में आए थे। बांदा के एक भाजपा नेता का कहना है कि टिकट कटने के डर से ब्रजेश प्रजापति ने त्यागपत्र दिया है।
5.भगवती प्रसाद सागर
बिल्हौर से भाजपा विधायक भगवती प्रसाद सागर 2017 के चुनाव से पहले स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ भाजपा ज्वाइन की थी। अब मौर्य के साथ भाजपा छोड़ चुके हैं। इनकी पार्टी छोडऩे की वजह स्वामी प्रसाद मौर्य का समर्थक होना है।
6.रोशन लाल वर्मा
शाहजहांपुर की तिलहर विधानसभा सीट से विधायक रोशन लाल वर्मा को स्वामी प्रसाद मौर्य का बेहद खास माना जाता है। मौर्य का राजभवन तक त्यागपत्र ले जाने वाले रोशन लाल वर्मा की ही थे। 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार जितिन प्रसाद को हराया था। लेकिन पार्टी रोशन लाल वर्मा को तवज्जो नहीं दे रही थी। संभव था कि इस बार तिलहर से टिकट भी न मिलता। ऐसे में स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ ही उन्होंने आगे का रास्ता चुनने का फैसला किया।
7.माधुरी वर्मा
बहराइच जिले की नानपारा सीट से विधायक माधुरी वर्मा ने भाजपा से बगावत करते हुए समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर ली है। इनके पति दिलीप वर्मा सपा से विधायक रह चुके हैं। इनके रिश्ते भाजपा नेताओं ने काफी बिगड़ गए थे। माधुरी वर्मा को खुद सपा मुखिया अखिलेश यादव ने पार्टी की सदस्यता दिलाई थी।
8.राकेश वर्मा
सीतापुर सदर से विधायक राकेश वर्मा वर्ष २०१७ के चुनाव से ऐन पहले भाजपा में शामिल हुए थे लेकिन जीतने के बाद से ही वर्मा के पार्टी से रिश्ते बिगडऩे लगे। वे बड़े नेताओं के खिलाफ बयानबाजी भी करने लगे। आखिरकार उन्होंने भाजपा को अलविदा कहते हुए समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए।
9.जय चौबे
खलीलाबाद के भाजपा विधायक दिग्विजय नारायण चौबे (जय चौबे) पार्टी से बगावत कर सपा का दामन थाम चुके हैं। वे वर्ष २०१२ में इसी सीट से भाजपा से ही चुनाव लड़े थे लेकिन हार गए थे।
10.राधाकृष्ण शर्मा
बदायूं जिले की बिल्सी विधानसभा सीट के विधायक पंडित राधाकृष्ण शर्मा भी भाजपा से बगावत कर समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं। बड़े कारोबारी शर्मा को सपा के पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव के जरिए सपा में लाया गया। माना जा रहा कि भाजपा से टिकट न मिलता देख शर्मा लंबे समय से भाजपा की संगठनात्मक गतिविधियों से दूर थे।
11.रवींद्र नाथ त्रिपाठी
भदोही से भाजपा विधायक रवींद्र नाथ त्रिपाठी भी बागी हो चुके हैं। उन्होंने अपनी उपेक्षा का आरोप लगाया है। इनका कहना है कि उनकी बात सरकार में कभी सुनी नहीं गई है।
सात चरणों में होंगे चुनाव
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव सात चरणों में होंगे। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी। चुनाव की घोषणा के बाद से ही दल बदल तेज हो गया है और टिकट को लेकर मारीमारी भी होने लगी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Update in Delhi: दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेSSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाHowrah Superfast- हावड़ा सुपरफास्ट से यात्रा करने वाले यात्रियों को परिवर्तित मार्ग से करना पड़ेगा सफर, इन स्टेशनों पर नहीं जाएगी ट्रेनपूर्व केंद्रीय मंत्री की भाजपा में वापसी की चर्चाएं, सोशल मीडिया पर फोटो से गरमाई सियासतTrain Reservation- अब रेल यात्रियों के पांच वर्ष से छोटे बच्चों के लिए भी होगी सीट रिजर्व, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.