25वीं पुण्यतिथि: जानें,अमजद खान से खलनायकी के बेताज बादशाह 'गब्बर सिंह' बनने की ये कहानी
guest user
| Updated: 27 Jul 2017, 10:59:00 AM (IST)
25वीं पुण्यतिथि: जानें,अमजद खान से खलनायकी के बेताज बादशाह 'गब्बर सिंह' बनने की ये कहानी

'शोले' के कहानीकार सलीम खान की सिफारिश पर रमेश सिप्पी ने अमजद खान को गब्बर सिंह का किरदार निभाने का अवसर दिया। जब फिल्म 'शोले' प्रदर्शित हुई तो अमजद का निभाया किरदार 'गब्बर सिंह' दर्शकों में इस कदर लोकप्रिय हुआ कि लोग उनकी आवाज और चाल ढ़ाल की नकल करने लगे।

बॉलीवुड की ब्लॉक बस्टर फिल्म 'शोले' के किरदार गब्बर सिंह ने अमजद खान को फिल्म इंडस्ट्री में सशक्त पहचान दिलाई लेकिन फिल्म के निर्माण के समय गब्बर की भूमिका के लिये पहले डैनी का नाम प्रस्तावित था। फिल्म 'शोले' के निर्माण के समय गब्बर सिंह वाली भूमिका डैनी को दी गयी थी लेकिन उस समय धर्मात्मा में काम करने की वजह से उन्होंने 'शोले' में काम करने के लिये इंकार कर दिया। 'शोले' के कहानीकार सलीम खान की सिफारिश पर रमेश सिप्पी ने अमजद खान को गब्बर सिंह का किरदार निभाने का अवसर दिया। जब सलीम ने अमजद से फिल्म 'शोले' में गब्बर सिंह का किरदार निभाने को कहा तो पहले तो अमजद खान घबरा गएे लेकिन बाद में उन्होंने इसे एक चुनौती के रूप में लिया और चंबल के डाकुओं पर बनी किताब 'अभिशप्त चंबल' का बारीकी से अध्ययन करना शुरू किया। बाद में जब फिल्म 'शोले' प्रदर्शित हुई तो अमजद का निभाया किरदार 'गब्बर सिंह' दर्शकों में इस कदर लोकप्रिय हुआ कि लोग गाहे बगाहे उनकी आवाज और चाल ढ़ाल की नकल करने लगे। 




12 नवम्बर 1940 को जन्मे अमजद को अभिनय की कला विरासत में मिली। उनके पिता जयंत फिल्म इंडस्ट्री में खलनायक रह चुके थे। अमजद ने बतौर कलाकार अपने अभिनय जीवन की शुरूआत वर्ष 1957 में प्रदर्शित फिल्म 'अब दिल्ली दूर नहीं' से की। इस फिल्म में अमजद ने बाल कलाकार की भूमिका निभाई। वर्ष 1965 में अपनी होम प्रोडक्शन मे बनने वाली फिल्म 'पत्थर के सनम' के जरिये अमजद खान बतौर अभिनेता अपने कैरियर की शुरूआत करने वाले थे लेकिन किसी कारण से फिल्म का निर्माण नही हो सका। 



Trailer: 'लखनऊ सेंट्रल' में कैद हुए फरहान अख्तर,अपने 'सपने' और 'आजादी' में से किसे चुनेंगे फरहान?



सत्तर के दशक में अमजद ने मुंबई से अपनी कॉलेज की पढाई पूरी करने के बाद बतौर अभिनेता काम करने के लिये फिल्म इंडस्ट्री का रूख किया। वर्ष 1973 में बतौर अभिनेता उन्होंने फिल्म 'हिंदुस्तान की कसम' से अपने कैरियर की शुरूआत की लेकिन इस फिल्म से दर्शकों के बीच वह अपनी पहचान नहीं बना सके। इसी दौरान अमजद को थियेटर में अभिनय करते देखकर पटकथा लेखक सलीम खान ने अमजद से शोले में 'गब्बर सिंह' के किरदार को निभाने की पेशकश की जिसे अमजद ने स्वीकार कर लिया। फिल्म 'शोले' की सफलता से अमजद खान के सिने कैरियर में जबरदस्त बदलाव और वह खलनायकी की दुनिया के बेताज बादशाह बन गये। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नही देखा और अपने दमदार अभिनय से दर्शकों की वाहवाही लूटने लगे। 




वर्ष 1977 मे प्रदर्शित फिल्म 'शतरंज के खिलाडी' मे उन्हें महान निर्देशक सत्यजीत रे के साथ काम करने का मौका मिला। इस फिल्म के जरिये भी उन्होंने दर्शकों का मन मोहे रखा। अपने अभिनय मेें आई एकरुपता को बदलने और स्वयं को चरित्र अभिनेता के रूप मे भी स्थापित करने के लिये अमजद ने अपनी भूमिकाओं में परिवर्तन भी किया। इसी क्रम में वर्ष 1980 मे प्रदर्शित फिरोज खान की सुपरहिट फिल्म 'कुर्बानी' में अमजद खान ने हास्य अभिनय कर दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। वर्ष 1981 मे अमजद के अभिनय का नया रूप दर्शकों के सामने आया। प्रकाश मेहरा की सुपरहिट फिल्म 'लावारिस' में वह अमिताभ के पिता की भूमिका निभाने से भी नहीं हिचके। हांलाकि अमजद खान ने फिल्म 'लावारिस' से पहले अमिताभ के साथ कई फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभाई थी पर इस फिल्म के जरिये भी अमजद दर्शकों की वाहवाही लूटने में सफल रहे। 





वर्ष 1981 में प्रदर्शित फिल्म 'याराना' में उन्होंने सुपर स्टार अमिताभ बच्चन के दोस्त की भूमिका निभाई। इस फिल्म में उन पर फिल्माया यह गाना 'बिशन चाचा कुछ गाओ' बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ। इसी फिल्म मे अपने दमदार अभिनय के लिये अमजद खान अपने सिने कैरियर में दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये। इसके पहले भी वर्ष 1979 में भी उन्हें फिल्म 'दादा' के लिये सर्वश्रेष्ठ सह कलाकार के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा वर्ष 1985 में फिल्म 'मां कसम' के लिये अमजद खान सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये । 




वर्ष 1983 में अमजद खान ने फिल्म 'चोर पुलिस' के जरिये निर्देशन के क्षेत्र में भी कदम रखा लेकिन यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से नकार दी गई। इसके बाद वर्ष 1985 में भी अमजद खान ने फिल्म 'अमीर आदमी गरीब आदमी' का निर्देशन किया लेकिन यहां पर भी उन्हें शिकस्त का सामना करना पड़ा। वर्ष 1986 में एक दुर्घटना के दौरान अमजद खान लगभग मौत के मुंह से बाहर निकले थे और इलाज के दौरान दवाइयों के लगातार सेवन करने से उनके स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आती रही। उनका शरीर लगातार भारी होता गया। नब्बे के दशक में स्वास्थ्य खराब रहने के कारण अमजद खान ने फिल्मों मे काम करना कुछ कम कर दिया। अपने फिल्मी जीवन के आखिरी दौर में वह अपने मित्र अमिताभ को लेकर फिल्म 'लंबाई चौड़ाई' नाम से फिल्म बनाना चाहते थे लेकिन उनका यह ख्वाब अधूरा ही रह गया। अपनी अदाकारी से लगभग तीन दशक से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करने वाले अजीम अभिनेता अमजद खान 27 जुलाई 1992 को इस दुनिया से रूखसत हो गये। 

Show More