इस बॉलीवुड ​सिंगर ने शादी के लिए माधुरी दीक्षित को कर दिया था रिजेक्ट, यह थी वजह

By: Mahendra Yadav
| Updated: 07 Aug 2020, 07:35 PM IST
इस बॉलीवुड ​सिंगर ने शादी के लिए माधुरी दीक्षित को कर दिया था रिजेक्ट, यह थी वजह
madhuri dixit

एक समय म्यूजिक इंडस्ट्री में सुरेश वाडेकर की धाक थी। जब सुरेश वाडेकर की शादी के लिए लड़की देखी जा रही थी तो माधुरी के एक पारिवारिक मित्र ने माधुरी के परिजनों को इस रिश्ते के लिए बताया।

बॉलीवुड के पॉपुलर सिंगर सुरेश वाडेकर आज अपना बर्थडे सेलिब्रेेट कर रहे हैं। उनका जन्म 7 अगस्त, 1955 को महाराष्ट्र के कोल्हापुर में हुआ था। सिंगिंग का शौक उन्हें बचपन से ही था। उनके पिता भी चाहते थे कि उनका बेटा बड़ा सिंगर बने। सुरेश वाडेकर ने पिता का सपना पूरा किया। सुरेश वाडेकर जब मात्र 10 साल के थे तो उन्होंने संगीत की शिक्षा लेना शुरू कर दिया था। उन्होंने हिंदी और मराठी के अलावा कई भाषाओं में गाने गाए हैं।

सुरेश वाडेकर ने कई प्रसिद्ध भजन भी कई गाए हैंं। उनका पहला फिल्मी सॉन्ग 'वृष्टि पड़े टाकुर टुकुर' है। यह गाना उनसे रवीन्द्र जैन ने राजश्री प्रोडक्शन की फिल्म पहेली में गवाया था। इसके बाद जयदेव ने उन्हें फिल्म 'गमन' में 'सीने में जलन' सॉन्ग गाने का मौका दिया। उन्होंने बॉलीवुड फिल्मों में कई सुपरहिट सॉन्ग गाए हैं।

इस बॉलीवुड ​सिंगर ने शादी के लिए माधुरी दीक्षित को कर दिया था रिजेक्ट, यह थी वजह

एक समय म्यूजिक इंडस्ट्री में सुरेश वाडेकर की धाक थी। जब सुरेश वाडेकर की शादी के लिए लड़की देखी जा रही थी तो माधुरी के एक पारिवारिक मित्र ने माधुरी के परिजनों को इस रिश्ते के लिए बताया। माधुरी की रुचि भी संगीत और नृत्य में थी। माधुरी के परिजन रिश्ते की बात करने सुरेश वाडेकर के घर पहुंचे। इस पर सिंगर ने कहा कि वह एक बार माधुरी से मिलना चाहते हैं। इसके बाद जब वाडेकर ने माधुरी को देखा तो उन्होंने रिश्ते के लिए मना कर दिया। बताया जाता है कि उन्होंने कहा कि लड़की बहुत दुबली है।

सुरेश वाडेकर मुंबई और न्यूयॉर्क में अपने म्यूजिक स्कूल भी चलाते हैं। यहां पर संगीत के विद्यार्थियों को म्यूजिक सिखाया जाता है। साथ ही उन्होंने एक आॅनलाइन म्यूजिक स्कूल भी खोला है। उन्हें गायकी के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिल चुका है। उन्हें यह पुरस्कार मराठी फिल्म के लिए 2011 में मिला था। इसके अलावा उन्हें महाराष्ट्र सरकार ने वर्ष 2007 में 'महाराष्ट्र प्राइड अवार्ड' से सम्मानित किया था। वहीं मध्य प्रदेश में उन्हें प्रतिष्ठित 'लता मंगेशकर अवार्ड' से भी सम्मानित किया गया था। सुरेश वाडेकर को इसी साल ‘पद्मश्री' से भी नवाजा गया।