बीमार बेटे के इलाज के लिए लाचार मां-बाप ने लगाई मुख्यमंत्री योगी से गुहार

बीमार बेटे के इलाज के लिए लाचार मां-बाप ने लगाई मुख्यमंत्री योगी से गुहार

Mukesh Kumar | Publish: Mar, 14 2018 05:12:08 PM (IST) Etah, Uttar Pradesh, India

नौ साल का मोहम्मद अनस जन्म से ही थैलीसीमिया नामक गंभीर बीमारी से ग्रस्त है।

एटा। जिले में आर्थिक तंगी से जूझते लाचार पिता ने अपने बीमार बेटे के इलाज के लिए मुख्यमंत्री से मदद की गुहार लगाई है। थैलेसीमिया नामक गंभीर बीमारी से ग्रस्त मासूम बेटे के इलाज में पिता ने सारी जमा पूंजी लगी दी। यहां तक कि उस पर कर्ज भी हो गया है। अब मेहनत-मजदूरी कर गुजर बसर करने वाला परिवार बेटे का इलाज कराना तो दूर खाने तक के लिए मोहताज है। पीड़ित पिता ने डीएम से मदद की गुहार लगाई। जिस पर उन्होंने 20 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी है। साथ ही शासन से भी आर्थिक मदद दिलाने के लिए पत्र लिखा है।


थैलीसीमिया से ग्रस्त है मासूम
मारहरा थाना क्षेत्र के मोहल्ला चौहट्टा निवासी लाल मोहम्मद मजदूरी कर अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं। उनके तीन बेटों में सबसे बड़ा नौ वर्षीय मोहम्मद अनस थैलीसीमिया से ग्रस्त है। उसे जन्म से ही यह गंभीर बीमारी है। उसके उपचार में हर साल लाखों रुपये खर्च हो जाते हैं। लाल मोहम्मद ने पिछले छह वर्षों में बेटे के इलाज में सारी जमा पूंजी लगा दी। उस पर काफी कर्ज हो गया। अब उसके लिए इलाज कराना तो दूर, दो वक्त की रोटी जुटाना भी मुश्किल हो गया है।

इलाज में खर्च होंगे 20 लाख रुपए
अनस का ब्लड ट्रांसमिशन के लिए अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज में उपचार चल रहा है। जहां इलाज में करीब लाखों रुपये साल में खर्च हो जाते हैं। चिकित्सकों ने बोन मैरो ट्रांसप्लांट के जरिए इस बीमारी को दूर किए जाने की बात कही है। इलाज में करीब 20 लाख रुपये खर्च होंगे। गरीब पिता लाल मोहम्मद की आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है, वो इलाज के खर्च को उठा सके। इसलिए उसने डीएम अमित किशोर के साथ-साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मदद की गुहार लगाई है।


डीएम ने दी 20 हजार की मदद
डीएम अमित किशोर ने बताया कि रेडक्रास सोसाइटी को ओर से पीड़ित परिवार को 20 हजार रुपए की मदद दी गई है। साथ ही आरोग्य निधि के तहत मिलने वाली आर्थिक मदद के लिए पत्र लिखा है। फिलहाल अनस के पिता लाल मोहम्मद और उसकी मां यासमीन की उम्मीद है कि योगी सरकार उनकी गुहार सुनेगी।

Ad Block is Banned