बीजेपी विधायक के भाई ने पहले की मारपीट, फिर सत्ता की हनक में पीड़ितों पर दर्ज कराई रिपोर्ट !

विकलांग युवक का आरोप है कि बीजेपी विधायक के पहले पीटा, फिर रिपोर्ट दर्ज कराई, जिसमें सीमा पर तैनात उसके भाई का नाम भी शामिल हैं।

By: मुकेश कुमार

Published: 22 Aug 2017, 03:21 PM IST

एटा। मिरहची थाना क्षेत्र में बीजेपी विधायक वीरेंद्र सिंह लोधी के भाई पर हमले के मामले में नया मोड़ आ गया है। इस मामले में जिन लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई, वे खुद को निर्दोष बता रहे हैं। मंगलवार को इन लोगों सपा जिलाध्यक्ष अशरफ हुसैन व पूर्व सपा विधायक अमित यादव उर्फ टीटू के नेतृत्व में एसएसपी ऑफिस का घेराव किया। पीड़ितों का कहना है कि बीजेपी विधायक के भाई रविंद्र लोधी ने सत्ता की हनक में उनके खिलाफ झूठी रिपोर्ट दर्ज कराई है, जबकि सच्चाई यह है कि रविंद्र लोधी ने अपने समर्थकों के साथ उन लोगों के साथ मारपीट की थी।

विकलांग युवक ने लगाया गंभीर आरोप
इस मामले में आरोपी सन्नी नाम के विकलांग युवक ने बताया कि वो रविवार को अपनी ट्राई साइकिल से जा रहा था। तभी वहां से गुजरे बीजेपी विधायक के भाई रविंद्र लोधी की गाड़ी ने टक्कर मार दी। जिससे ट्राई साइकिल गड्ढे में जा गिरी और टूट गयी। विकलांग सन्नी को भी चोटें आईं। घटना के बाद दोनों पक्षों में कहासुनी होने लगी। सन्नी का आरोप है कि रविंद्र लोधी व उनके समर्थक उसको पीटा। जब उसकी बुआ अनार देवी बचाने आईं तो उनके साथ भी अभद्रता की गई।

पुलिस ने पीड़ित की नहीं सुनी
गांव नियाज नगर के रहने वाले विकलांग सन्नी ने बताया कि जब वे लोग थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे तो बीजेपी विधायक के भाई भी अपने समर्थकों के साथ पहुंच गये। पुलिस ने रविंद्र लोधी की तहरीर पर 11 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट लिख ली, जबकि उसकी एक न सुनी। सन्नी ने बताया कि रिपोर्ट में उसके भाई का नाम भी शामिल है, जबकि वो सेना में नौकरी करता है और असम में तैनात है। बता दें कि रविंद्र लोधी ने सपा कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप लगाया था।

सत्ता की हनक में कार्रवाई
सपा जिलाध्यक्ष अशरफ हुसैन ने कहा कि बीजेपी विधायक के भाई ने सत्ता की हनक में निर्दोष लोगों को फंसाया है। बदले की भावना से इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गयी है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस ने पीड़ित लोगों की सुनवाई नहीं की तो सपा कार्यकर्ता चुप नहीं बैठेंगे। पीड़ित लोगों ने बीजेपी विधायक के भाई रविंद्र लोधी समेत सात नामजद व 10-12 अज्ञात समर्थकों के खिलाफ एसएसपी को तहरीर दी है।

एसएसपी ने कहा ये
उधर, इस मामले में एसएसपी अखिलेश कुमार चौरसिया कुछ और ही कहानी बता रहे हैं। एसएसपी के मुताबिक वाहन में टक्कर लगने पर कुछ लोगों में विवाद हो गया था। तभी बीजेपी विधायक के भाई अपने परिवार के साथ वहां से गुजर रहे थे। उनके द्वारा दी गई तहरीर के मुताबिक बीचबचाव में कुछ लोगों ने उन पर हमला कर दिया। फिलहाल पुलिस सभी तथ्यों की जांच कर रही है। जो भी दोषी होगी उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Show More
मुकेश कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned