युवक के लापता होने के मामले में भाजपा के पूर्व कोषाध्यक्ष समेत पांच के खिलाफ मुकदमा दर्ज

इटावा जिले के लबेदी थाना क्षेत्र के ग्राम पीपरीपुरा से एक युवक के अपहरण के मामले में भाजपा के पूर्व जिला कोषाध्यक्ष समेत पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

इटावा. इटावा जिले के लबेदी थाना क्षेत्र के ग्राम पीपरीपुरा से एक युवक के अपहरण के मामले में भाजपा के पूर्व जिला कोषाध्यक्ष समेत पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। इटावा के एसएसपी आकाश तोमर ने शुक्रवार को यहाॅं बताया कि लबेदी थाना क्षेत्र के गांव पीपरीपुरा निवासी नीलम तिवारी के पति वेद प्रकाश व दो बेटे हरियाणा प्रांत के गुड़गांव के बसई रोड रविनगर में रहते हैं। नीलम अपने गांव वाले घर में रह रही हैं।

उन्होंने बताया कि उनका बड़ा बेटा गजेंद्र पिछले साल 29 दिसंबर को अपनी स्कार्पियो कार से गुड़गांव से चला था। इसके बाद वह 6 जनवरी तक वह जैतपुरा स्थित दोस्त मोटी के यहां रुका। उसी रात करीब 8 बजे वह लवेदी थाना क्षेत्र के नवादा गांव में अपने दोस्त अंशू चैहान के पास आया। उसके बाद से बेटे का कोई पता नहीं चल रहा। उसके फोन पर भी संपर्क नहीं हो पाने पर पिछली 11 जनवरी को लवेदी थाना में गुमशुदगी दर्ज करवाई थी । तब से अब तक पुलिस उसके बेटे को खोज नहीं पाई है।

इसके बाद मां ने इस मामले में लबेदी थाने मे 13 फरवरी को पुत्तन तिवारी निवासी लबेदी व रामवीर तिवारी, श्यामवीर तिवारी, रघुवीर तिवारी पूर्व जिला कोषाध्यक्ष भाजपा इटावा निवासी लुहन्ना इटाबा व अंशू चैहान निवासी नबादा लवेदी के विरुद्ध अपहरण व जान से मारने की धमकी की धारा के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया।

उन्होंने बताया कि युवक के मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लगाया गया है और उसकी लोकेशन पता करने की कोशिश की जा रही थी । उन्होंने बताया कि नवादा गांव आने के बाद युवक कहीं और चला गया है । पुलिस उसकी खोजबीन में जुटी थी लेकिन मां द्वारा भाजपा जिला कोषाध्यक्ष सहित उनके दो भाईयों व एक लवेदी व एक नवादा दोस्त के विरुद्ध अपहरण व जान से मारने की धमकी का मुकदमा दर्ज कराया गया। आरोपियों की तलाश में छापेमारी के लिए पुलिस टीमों के माध्यम से छापेमारी की जा रही है। आरोपी शीघ्र गिरफ्तार कर जेल भेजे जाएंगे।

BJP
Abhishek Gupta Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned