चंबल का पानी बना आफत, बीहड़ इलाके में मचा हडकंप, रुक गयी यमुना की जलधारा

चंबल का पानी बना आफत, बीहड़ इलाके में मचा हडकंप, रुक गयी यमुना की जलधारा

Ruchi Sharma | Publish: Sep, 10 2018 05:08:47 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

चंबल का पानी बना आफत, बीहड़ इलाके में मचा हडकंप, रुक गयी यमुना की जलधारा

इटावा. बांध से छोड़े गये पानी के चलते चंबल नदी ने रौद्र रूप धारण कर लिया है । चंबल में पानी के बहाव ने यमुना की जलधारा को रोक दिया है । जिससे क्षेत्र के कुछ गांवों के रास्तों में पानी भरने से आवागमन ठप हो गया है और किसानों की जमीन भी जलमग्न होने से फसल नष्ट हो रही है। वहीं उक्त पानी से क्षेत्र के लोग भयभीत दिखाई दे रहे है ।

यह भी पढ़ें- IPS सुरेंद्र दास अौर उनकी पत्नी के बारे में सामने आ गई ये बातें, सुनकर उड़ जाएंगे आपके होश

 

बीहड़ क्षेत्र चकरनगर में बह रही चंबल नदी में बांध का पानी छोड़े जाने से नदी ने विशाल रूप धारण कर लिया है। नदी के घारे से लेकर बीहड़ के खार खरैंयों में चारों ओर पानी ही पानी दिखायी दे रहा है। उक्त पानी से क्षेत्र के किसानों की कछार में बोयी गयी बाजरे की फसल जलमग्न होने से नष्ट हो रही है। इधर चंबल नदी की तेज जलधारा ने यमुना नदी की जलधारा को रोक दिया है। जिससे यमुना किनारे बसे गांवों के रास्तों में पानी भर गया है और कछार बाली भूमि में बाजरे की फसल पानी से नष्ट हो रही है। क्षेत्र के गांव कांयछी, निवी, गढाकास्दा, नदा आदि के रास्तों में पानी भरने से ग्रामीणों का आवागमन ठप हो गया है।


चंबल नदी का पानी बाबा सिद्धनाथ मंदिर के रास्ते में भरने से बाबा का भी संपर्क खत्म हो गया है। उक्त क्षेत्र में पांच नदियां होने से चारों तरफ फैला पानी आम जनता के लिये आफत बन गया है। पहले बरसात के पानी ने लोगों के घर गिराये और फसल बर्बाद की और शेष बची फसल को नदियों का पानी नष्ट कर दे रहा है। ऐसी हालत में क्षेत्र का किसान भुखमरी की कगार पर खडा हो जाएगा ।

Ad Block is Banned