इटावा सफारी पार्क में वन्य जीवों की जांच, बरेली से आए डाक्टरों ने परखी सेहत

गर्मी के इस मौसम में वन्य जीवों को स्वस्थ रखना बड़ी चुनौती है...

इटावा. चंबल के बीहड़ों में पर्यटकों को नया मिजाज देने के इरादे से स्थापित कराये जा रहे इटावा सफारी पार्क के वन्यजीवों की सेहत जांची गई तथा उनके रखरखाव के लिए सफारी के डाक्टरों और प्रशासन को दिशा निर्देश भी दिए गए। गर्मी के इस मौसम में वन्य जीवों को स्वस्थ रखना बड़ी चुनौती है। इसलिए समय-समय पर इनकी सेहत का परीक्षण भी किया जाता है।

 

आरबीआरआई से आयी है टीम

इसी क्रम में बुधवार को आईवीआरआई बरेली की टीम ने सफारी पहुंचकर वन्यजीवों को देखा। इस दौरान सफारी के अधिकारी व डाक्टर भी उनके साथ रहे। आईवीआरआई बरेली के विशेषज्ञ डा. टीएस बनर्जी के नेतृत्व में तीन सदस्यीय टीम बुधवार को सुबह सफारी पार्क पहुंची तथा यहां के वन्य जीवों की सेहत की जांच की। सफारी में शेर शेरनी के साथ ही शावकों की सेहत की जांच भी की गई।

 

गर्मी का है बड़ा असर

इसके साथ ही भालुओं व पिछले माह लाए गए तीनों लैपर्ड को भी इस टीम देखा तथा उनके रखरखाव के बारे में निर्देश भी दिए। फिलहाल इन सभी वन्यजीवों को गर्मी से बचाने के लिए इनके बाड़ों में जरूरत के हिसाब से एसी व कूलर लगाए गए हैं। एक मादा भालू कूनी टीबी से पीड़ित है और उसका उपचार चल रहा है। उसे दवाएं दी जा रहीं हैं ताकि वह टीबी से मुक्त हो सके। वन्यजीवों के परीक्षण के दौरान सफारी के डाक्टर गौरव श्रीवास्तव, उप निदेशक अखिलेश जायसवाल ,रेंज आफीसर अरविन्द मिश्रा व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

 

सिलीगुड़ी में भालुओं का रखरखाव देखेंगे डायरेक्टर

इटावा सफारी पार्क के डायरेक्टर वीके सिंह इन दिनों सिलीगुड़ी गए हुए हैं। वे वहां भालुओं के रखरखाव की जानकारी लेंगे ताकि सफारी में भी भालुओं को और बेहतर तरीके से रखा जाए। अभी सफारी पार्क में तीन भालू हैं लेकिन इनकी संख्या बढाए जाने की तैयारी चल रही है। डायरेक्टर के इस दौरे को सफारी में भालुओं की संख्या बढ़ाने की दृष्टि से भी काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned