भाजपा के इस उम्मीदवार की पत्नी ने इटावा संसदीय सीट से किया नामांकन, राजनीतिक हलचल तेज

भाजपा के इस उम्मीदवार की पत्नी ने इटावा संसदीय सीट से किया नामांकन, राजनीतिक हलचल तेज

Neeraj Patel | Publish: Apr, 09 2019 05:29:55 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

इटावा संसदीय सीट पर नामांकन के आखिरी दिन आज उस समय रोचकता आ गई जब भारतीय जनता पार्टी के घोषित उम्मीदवार डा. राम शंकर कठेरिया की पत्नी श्रीमती मृदुला कठेरिया अपना नामांकन कराने पहुंची।

इटावा. उत्तरप्रदेश में इटावा संसदीय सीट पर नामांकन के आखिरी दिन आज उस समय रोचकता आ गई जब भारतीय जनता पार्टी के घोषित उम्मीदवार डा. राम शंकर कठेरिया की पत्नी श्रीमती मृदुला कठेरिया अपना नामांकन कराने पहुंची। इटावा के जिलानिर्वाचन अधिकारी जे.बी.सिंह ने बताया कि आज दोपहर 12 बजे के आसपास मदुला कठेरिया पत्नी डा.रामशंकर कठेरिया ने अपने प्रस्तावको के साथ आकर उनके समक्ष अपना नामांकन किया।

मृदुला कठेरिया ने जिला निर्वाचन अधिकारी जे.बी.सिंह के समक्ष पहुंचकर अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। उनके साथ भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिला अध्यक्ष राजेंद्र गुप्ता, मोदी सेना के अध्यक्ष गजेंद्र मिश्रा,वरिष्ठ भाजपा नेता रमेश राजपूत, अनिल मिश्रा और सैनिक कल्याण प्रकोष्ठ के अध्यक्ष जितेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे।

इटावा संसदीय सीट से चुनाव मैदान में उतारने का था निजी फैसला

नामांकन के बाद श्रीमती कठेरिया ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इटावा संसदीय सीट से चुनाव मैदान में उतारने उनका निजी फैसला है इससे भरतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार ओर उनके डा. रामशंकर कठेरिया का कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि इटावा की जनता यह मान कर चल रही थी कि उनको इटावा संसदीय सीट से चुनाव मैदान में उतरने का मौका मिलेगा लेकिन ऐसा नहीं हो सका इसलिए उन्होंने चुनाव मैदान में उतरने का फ़ैसला लिया है।

इन सबके बावजूद डा.रामशंकर कठेरिया की मुखालफात से जुड़े हुए सवालों से उनकी पत्नी मृदुला बचती हुई भी नजर आई है। इटावा संसदीय सीट के चुनाव में यह पहला मौका है जहं पर पति पत्नी चुनाव मैदान मे आमने सामने आ गए हो। इससे निश्चित है कि कार्यकर्ताओं के बीच मे अजीबों गरीब स्थिति रहने की संभावनाए है।

पति की जीत की कामना करने से नहीं चूकी मृदुला

5 अप्रैल को इटावा ससंदीय सीट से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार डा.रामशंकर कठेरिया ने अपना नामांकन किया था तब उनकी पत्नी मृदुला कठेरिया उनके साथ नहीं आई थी आज जब इस संबध मे मृदुला से पत्रकारो ने वार्ता की तो उन्होने इस बाबत अपनी नाराजगी भी जताई लेकिन अपनी बातचीत में वो भले ही चुनाव लड़ने की बात कह रही हों लेकिन वो अपने पति की जीत की कामना करने से नहीं चूकीं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned