इटावा मे आग लगने से 30 घर जलकर हुए खाक, दमकल देर से पहुंचने पर गांव वालों ने किया पथराव

इटावा मे आग लगने से 30 घर जलकर हुए खाक, दमकल देर से पहुंचने पर गांव वालों ने किया पथराव

Neeraj Patel | Publish: May, 20 2019 07:47:35 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

जिले के बकेवर थाना क्षेत्र के मड़ैया दिलीप नगर में सोमवार की दोपहर अचानक भीषण आग लगने से 30 घर तबाह हो गए।

इटावा. जिले के बकेवर थाना क्षेत्र के मड़ैया दिलीप नगर में सोमवार की दोपहर अचानक भीषण आग लगने से 30 घर तबाह हो गए। भरथना सर्किल के पुलिस उपाधीक्षक बैजनाथ ने आज यहॉ बताया कि आग लगने की घटना के बारे मे किसी भी गांव वाले को स्पष्ट तौर पर कुछ भी पता नहीं है लेकिन आग लगने के बाद गांव वाले बदहवाश है। यहां आग लगने से दो कीमती भैंसों की मौत हो गई। बढ़ती आग को रोकने के लिए ग्रामीणों ने खुद ही अपने घरों के छप्पर तोड़ डालें। इसकी वजह से ज्यादा आग गांव में फैल नहीं सकी।

सूचना पर फायर ब्रिगेड की गाडियां दो घंटे देरी से पहुंची, कड़ी मशक्कत के बाद ग्रामीणों ने आग पर काबू नहीं पाया जा सका और देर शाम तक घरों से धुंआ उठता रहा। वहीं दो घंटे देरी से फायर बिग्रेड पहुंचने पर ग्रामीणों ने अपना गुस्सा पुलिस की गाड़ी पर उतारा और पत्थर मारकर प्रभारी निरीक्षक बकेवर की गाड़ी के शीशे तोड डाले।

जानें क्या है पूरा मामला

बीहडांचल स्थित ग्राम मडैया दिलीपनगर मे सोमवार दोपहर साढे 12 बजे अचानक अज्ञात कारणों से आग लगने से दो दर्जन से अधिक घर जल गये। आग सबसे पहले जयप्रकाश पुत्र रामस्वरूप के पशुबाडे में लगी देखी गई। गांव के लोग जब तक समझ पाते और पशु बाडे में लगी आग को बुझाते कि देखते ही देखते आग की लपटों ने बिशाल स्वरूप ले लिया। आग की ऊंची लपटों को देखते ही ग्रामीणों में हड़कंप मच गया। बचाओ-बचाओ की आवाज से गांव गूंज उठा। बूढ़े, बच्चे, जवान सभी आग से घर का सामान बचाने का प्रयास कर रहे थे। छप्पर के नीचे व आसपास बांधे गए मवेशियों को ग्रामीणों ने जैसे-तैसे आग की लपटों के बीच खोलकर छोड़ दिया। मवेशी भी अपनी जान बचाने के लिए खेतों की तरफ भाग खड़े हुए।

दो घंटे बिलम्ब से पहुंची फायर ब्रिगेड

आग की जानकारी 100 नम्बर सहित स्थानीय पुलिस व उच्च अधिकारियों को दी बाबजूद फायर ब्रिगेड की गाडियां दो घंटे बिलम्ब से पहुंची। इधर जहां आग की लपटें घरों में रखे घर गृहस्थी का सामान जलाकर नष्ट कर रही थी तो वहीं फायर ब्रिगेड की गाड़ी बिलम्ब से पहुंचने के कारण ग्रामीणों का गुस्सा मौके पर पहुंचे बकेवर थाना प्रभारी निरीक्षक की गाड़ी पर फूट पड़ा। उत्तेजित ग्रामीणों ने उनकी गाड़ी के पिछले हिस्से का शीशा तोड़ डाला। वहीं दूसरी ओर मौके पर फायर बिग्रेड की एक गाडी आग पर जब काबू नहीं पा सकी। तब कहीं प्रशासन अलर्ट हुआ तब कहीं फायर ब्रिगेड की तीन गाडियां और बुलाई गई। फायर बिग्रेड की इन गाडियों ने घरों में लगी आग की लपटों पर काबू पाने के साथ साथ आग को और फैलने से और रोक लिया बाबजूद देर शाम तक आग से पीडित घरों से धुंआ के गुबार निकलते रहे।

इन लोगों के जले घर

आग की बिभीषिका में सर्वाधिक नुकसान जयप्रकाश पुत्र रामकिशोर, चन्द्रपाल, रामजीत पुत्रगण हरचरन, आदिराम, रोशन पुत्रगण मनीराम, संतोष पुत्र हरीराम, रामश्री पत्नी स्व दशरथ, खूबचन्द, राजनरायण पुत्रगण जोराबर, राजबीर पुत्र बिधाराम, शम्भू पुत्र रामेश्वर दयाल, शिवचरन पुत्र पृथ्बीराम, रामसिया पुत्र लालमन, लख्मीचन्द्र पुत्र सुन्दरलाल, बदनसिंह, धीरज सिंह, नरेन्द्र, शिवसिंह पुत्रगण सदाराम, कलाबती पत्नी सदाराम, पप्पू पुत्र रामकिशोर, तीरथ पुत्र मिजाजी लाल, भोली पुत्र सरमन, महेन्द्र पुत्र रसी, सूरज पुत्र रघुनाथ, मन्नालाल पुत्र लालाराम, सत्यभान पुत्र आनन्द किशोर, करन, सोनू पुत्रगण जिताबर सिंह, राम औतार पुत्र शिवराम, सूरजपाल पुत्र रघुनाथ, ओमप्रकाश पुत्र रामनाथ का हुआ। और उनका घर गृहस्थी का समूचा सामान जलकर नष्ट हो गया। वहीं जयप्रकाश पुत्र रामस्वरूप की पशुबाडे में बंधी तकरीबन डेढ लाख रुपये की दो भैंसे भी जलकर मर गई।

पीडितों को मुआवजा दिलाया जाएगा

सीओ भर्थना बैजनाथ, थानाध्यक्ष चकरनगर, लबेदी, फ्रेन्डस कालौनी, सी एफ ओ के बर्मा, सहित भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा। तहसीलदार चकरनगर नरेन्द्र सिंह ने बताया कि इस भीषण अग्निकांड के लिए मुआयना करने के लिए राजस्व कर्मियों को लगाया गया है। और इस आग लगने के कारण का पता नहीं चल सका। इन पीडितों को मुआवजा दिलाया जाएगा।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned