13 दिनों के लिए रद्द की गई ये गाड़ियां, इस रेल मार्ग पर नहीं चलेगी ये ट्रेनें, बदल गया शेड्यूल

13 दिनों के लिए रद्द की गई ये गाड़ियां, इस रेल मार्ग पर नहीं चलेगी ये ट्रेनें, बदल गया शेड्यूल

Akansha Singh | Publish: Sep, 12 2018 07:59:42 AM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

देश के सबसे अहम दिल्ली हावड़ा रेलमार्ग पर 13 दिनों तक रेल यात्रियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

इटावा. देश के सबसे अहम दिल्ली हावड़ा रेलमार्ग पर 13 दिनों तक रेल यात्रियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। क्योंकि पनकी रेलवे स्टेशन पर नॉन इंटरलॉकिंग कार्य होने से आगामी 13 दिनों तक हावड़ा-दिल्ली रेल मार्ग पर ट्रेनों में सफर करना सहज नहीं होगा। इटावा जंक्शन पर ठहराव करने वाली सात एक्सप्रेस तथा एक पैसेंजर ट्रेनों का इन दिनों परिचालन नहीं होगा। इससे यात्रियों को दिल्ली-आगरा के मध्य आवागमन करने में मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा। कानपुर के समीप पनकी रेलवे स्टेशन पर आधुनिक प्रणाली से ट्रेनों का परिचालन कराने के लिए नॉन इंटरलाकिंग कार्य तीव्र गति से कराया जाएगा।

 

etawah

इटावा जंक्शन के स्टेशन अधीक्षक पूरन मल मीना ने बताया कि इटावा जंक्शन पर ठहराव करने वाली मरुधर एक्सप्रेस, तूफान मेल, ऊंचाहार एक्सप्रेस, महानंदा एक्सप्रेस तथा फरक्का एक्सप्रेस 12 से 24 सितंबर तक निरस्त रहेंगी जबकि गोमती एक्सप्रेस, इंटरसिटी एक्सप्रेस तथा टूंडला-कानपुर पैसेंजर 13 से 25 सितंबर तक निरस्त रहेंगी।
मरुधर बनारस से जोधपुर तथा इंटरसिटी एक्सप्रेस लखनऊ से आगरा के मध्य रोजाना आवागमन करती हैं। गोमती एक्सप्रेस लखनऊ से नई दिल्ली के मध्य रोजाना आवागमन करती है। गोमती तथा इंटरसिटी एक्सप्रेस के माध्यम से कारोबारी तथा नौकरीपेशा लोग काफी संख्या में दैनिक यात्री के रूप में आवागमन करते हैं। इससे दैनिक यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। दूसरी ओर वर्किंग के दौरान पनकी रेलवे स्टेशन के पूर्वी से पश्चिमी आउटर सिग्नल के मध्य अन्य ट्रेनों का परिचालन काफी धीमी गति से होगा। इससे इस मार्ग पर आगामी 13 दिनों तक सफर करना सहज नहीं होगा।



 

etawah

बताते चलें कि दिल्ली हावडा रेलमार्ग देश का सबसे अहम रेलमार्ग माना जाता है जिस पर प्रतिदिन लाखो की तादात में रेलयात्रियों के आना जाना रेलगाड़ियों से लगा रहता है लेकिन जिस तरह की से महत्वपूर्ण रेलगाड़ियों को रोका गया है उससे रेल यात्रियों को परेशानी होना लाजिमी है।

यह भी पढ़ें - कांग्रेस के भारत बंद को लेकर जिले में हुआ प्रदर्शन, कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ लगाए नारे

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned