scriptMaker of Film Mugle Azam Bollywood's K Asif remembered on Birthday | इटावा में मुगले आजम के रचियता के.आसिफ को किया गया याद, एक फिल्म बनाने में लगा दिए थे 15 साल, लोग कहते थे 'सनकी' | Patrika News

इटावा में मुगले आजम के रचियता के.आसिफ को किया गया याद, एक फिल्म बनाने में लगा दिए थे 15 साल, लोग कहते थे 'सनकी'

देश की सबसे ऐतिहासिक फिल्म मुगल-ए-आजम के निर्देशक के.आसिफ का जन्म इटावा शहर के मोहल्ला कटरा पुर्दल खां में हुआ था। उन्होने 22 वर्ष की उम्र में मुगले आज़म बनाना शुरू किया था। जब फिल्म बनी तब उनकी उम्र 38 वर्ष थी।

इटावा

Published: June 14, 2022 07:00:52 pm

बॉलीवुड के इतिहास की सबसे बड़ी फिल्मों मे से एक मुगले आज़म के निर्माता निर्देशक के.आसिफ का जन्मशताब्दी वर्ष पूरे होने पर के.आसिफ को शिद्दत से याद किया गया। देश की सबसे ऐतिहासिक फिल्म मुगल-ए-आजम के निर्देशक के.आसिफ का जन्म इटावा शहर के मोहल्ला कटरा पुर्दल खां में हुआ था। उन्होने 22 वर्ष की उम्र में मुगले आज़म बनाना शुरू किया था। जब फिल्म बनी तब उनकी उम्र 38 वर्ष थी। मुफ़लिसी से घिरे हुए के.आसिफ ने इस्लामियां इंटर कालेज में सिर्फ आठवीं तक ही पढ़ाई कर पाए। इसके बाद वे मायानगरी मुंबई चले गए और वहां दर्जी का काम करने लगे लेकिन, सिनेमा के प्रति उनकी दिवानगी ने उन्हें अव्वल दर्जे का निर्देशक बना दिया।
K Asif
K Asif File Photo
फिल्म निर्माता के साथ-साथ बेहतरीन लेखक भी

हिंदी सिनेमा की आईकॉनिक ‘मुगल-ए-आज़म’ फिल्म को बनाने के लिए के. आसिफ ने प्रसिद्ध सिने स्टूडियो ‘अमौस सिने लेब्रोटेरिज’ के मालिक शिराज अली हकीम के साथ मिलकर काम करना शुरू किया, इससे पहले हाकिम ने के. आसिफ के डायरेक्शन में बनने वाली पहली फिल्म 'फूल' 1945 में भी उनके साथ काम किया था। फिल्म फूल को हिंदी सिनेमा की सबसे पुरानी मल्टीस्टारर फिल्मों में से एक माना जाता है। के. आसिफ मशहूर फिल्म निर्माता ही नहीं बेहतरीन लेखक भी थे। उन्होंने भारतीय सिनेमा की सबसे भव्य और ऐतिहासिक माइलस्टोन फिल्म मुग़ल-ए-आजम बनाकर अमरता हासिल कर ली। वर्ष 1949 में के. आसिफ ने शहीद-ए-आजम ‘भगत सिंह’ पर ख्वाजा अहमद अब्बास के साथ फिल्म निर्माण का काम शुरू किया था और 1951 में उनकी निर्मित ‘हलचल’ फिल्म रिलीज होते ही सिने प्रेमियों के जेहन पर छा गई।
बता दें कि मुगल-ए-आजाम निर्माण का शरूआती दौर भारी उथल-पुथल का रहा। आजादी और विभाजन की त्रासदी में शिराज अली हाकीम ने अपना स्टूडियो बेच दिया और एक्टर हिमाल्यवाला पाकिस्तान चले गए लेकिन इन सब परिस्थियों को झेलते हुए के. आसिफ ने मुंबई में अपने जिन्दा ख्वाबों की ताबीर में दिन-रात शिद्दत से जुटे रहे। फेमस सिने स्टूडियो के मालिक शापूरजी ने के. आसिफ के ‘मुगले आजम’ के सपने को पर्दे पर उतारने में भरपूर मदद की। आखिरकार 14 वर्ष के लंबे इंतजार के बाद 5 अगस्त, 1960 को 150 सिनेमा घरों में रिलीज किया गया था, जिसने अपने पहले ही हफ्ते में 40 लाख रुपये की रिकार्ड कमाई कर तहलका मचा दिया और पूरी दुनिया के शिलालेख में दर्ज हो गया। यह पूरी फिल्म ब्लैक एंड हवाइट है और सिर्फ एक गाना इसमें रंगीन है।
इसी मलाल में के. आसिफ ने वर्ष 1963 से ‘लव एंड गाड’ कलर फिल्म बनाने के लिए जी जान से जुटे थे और रिलीज होने से पहले ही के. आसिफ महज 48 वर्ष की उम्र में दुनियां से रूखसत हो गए। हमने 2016 में साइकिल से पूरे चंबल की 2800 किमी से अधिक यात्रा कर चंबल घाटी का दस्तावेजीकरण किया था और के. आसिफ के नाम पर 'चंबल इंटनेशनल फिल्म फेस्टिवल' की शुरूआत की। जिसके छठवें संस्करण का आयोजन 3-4 सितंबर, 2022 को इटावा में आयोजित होगा।
यह भी पढ़ें - 15 साल से नौकरी करने वालों की जाएगी नौकरी, भर्ती करने वाले अफसर भी निशाने पर

के. आसिफ चंबल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल के संस्थापक लेखक और दस्तावेजी फिल्मकार शाह आलम राना और चंबल फाउंडेशन के बोर्ड मेंबर डॉ. कमल कुमार कुशवाहा ने कहा कि देश की धरोहर महान फिल्मकार के. आसिफ के जन्म शताब्दी वर्ष पूरे होने पर डाक टिकट जारी करने,जन्मस्थान पर स्मारक बनाने व उनके नाम पर फिल्म इंस्टीट्यूट खोलने से उन्हें सच्ची खिराज-ए-अकीदत होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

SSC Scam case: पार्थ चटर्जी, अर्पिता मुखर्जी 14 दिन की न्यायिक हिरासत पर भेजे गए, 31 अगस्त को अगली पेशीMaharashtra News: महाराष्ट्र के रायगढ़ में संदिग्ध नाव मिलने से हडकंप, AK 47 सहित कई हथियार हुए बरामदRohingya Row: अनुराग ठाकुर का AAP पर आरोप, राष्ट्र सुरक्षा से समझौता कर रही दिल्ली सरकारपश्चिम बंगाल में STF को मिली बड़ी सफलता, अल-कायदा से जुड़े दो आतंकवादियों को किया गिरफ्तारBJP में शामिल होंगे JDU के पूर्व अध्यक्ष RCP सिंह, नीतीश के बारे में कहा- 7 जन्म में नहीं बन सकेंगे प्रधानमंत्रीराजू श्रीवास्तव की हालत नाजुक, ब्रेन हुआ डेड, दिल नहीं कर रहा काम, शुरू कराया गया महामृत्युंजय जापJharkhand News: कोर्ट का फरमान- एक साथ 15 दोषियों को सुनाई फांसी की सजा, जानिए क्या किया था इन्होंने अपराधबिहार में अपराधियों को पकड़ने आई UP पुलिस को बदमाशों ने कुत्तों से कटवाया, कमरे में बंद कर छोड़ दिए जर्मन शेफर्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.