शिवपाल सिंह बोले इंतजार करते करते थक गए, अभी तक कोई जवाब नहीं आया, और बोले.....

भतीजे अखिलेश यादव का जवाब न मिलने पर शिवपाल सिंह का संयम टूट रहा है। उन्होंने एक कार्यक्रम में इशारों में जाहिर किया।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 06 Oct 2021, 04:06 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
इटावा. यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) से पहले सपा (Samajwadi Party) से गठबंधन को लेकर शिवपाल सिंह (Shivpal singh Yadav) के प्रस्ताव पर भतीजे अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) का जवाब न मिलने पर शिवपाल सिंह का संयम टूट रहा है। प्रसपा (PSP Party) राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने इटावा के पचराहा में एक कार्यक्रम के दौरान यह मंशा जाहिर की। शिवपाल ने सपा का नाम लिए बिना कहा कि इंतजार करते-करते थक गए, विधानसभा चुनाव की तरफ इशारा कर बोले अब तो युद्ध ही होना है, अब हम निकल पड़े हैं। उन्होंने 12 अक्टूबर को श्रीकृष्ण की कर्मभूमि मथुरा से रथ यात्रा लेकर निकलने की बात कही।

शिवपाल बोले मुझे सम्मान दो न दो, बहुत कुछ पा लिया

प्रसपा प्रमुख शिवपाल सिंह ने कहा, जिस तरह महाभारत में पांडव ने केवल पांच गांव मांगे थे और पूरा राज्य कौरव के लिए छोड़ दिया था। उसी तरह हमने भी केवल अपने साथियों का सम्मान मांगा था। बोले मुझे सम्मान दो या न दो, हमने तो बहुत कुछ पा लिया है। मंत्री भी रह चुका, अध्यक्ष भी रहा और अब राष्ट्रीय अध्यक्ष भी बन गया हूं। उन्होंने कहा पिछले साल 22 नवंबर को कहा था कि अगर कहोगे तो हम चुनाव नहीं लड़ेंगे। मगर, अभी तक जवाब नहीं आया। आज भी मैैंने फोन और मैसेज करने को कहा कि बात कर लो। भाजपा को हराने के लिए बात जरूरी है, लेकिन अखिलेश यादव की तरफ से जवाब नहीं मिला।

बीजेपी को बेदखल करने के लिए अखिलेश को दिया प्रस्ताव

उन्होंने कहा कि हमने तो उन्हें मुख्यमंत्री बनने के लिए भी बोला था। और कहा कि नेताजी आज भी नहीं चाहते हैं कि मैं अलग रहूं। वहीं लखीमपुर खीरी प्रकरण पर बोले कि जिस राज्य में ऐसे मंत्री होंगे, जिन पर हत्या के मुकदमे दर्ज हों तो बताइए वहां क्या हाल होगा। दरअसल सपा को छोड़ प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की स्थापना करने के बाद शिवपाल यादव कई दफा मंच के द्वारा बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने के लिए भतीजे अखिलेश को गठबंधन का प्रस्ताव दे चुके हैं।

परिवर्तन रथ यात्रा के लिए किया आमंत्रित

वहीं शिवपाल सिंह ने सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के पदचिन्हों को अपनाकर परिवर्तन रथ यात्रा निकालने की तैयारी की है। इसके लिए भाई मुलायम सिंह यादव और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को भी आमंत्रित कर चुके हैं, लेकिन अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। इसके चलते ही अब उन्होंने अकेले ही युद्ध पर निकलने की बात कहते हुए 12 अक्टूबर से यात्रा की शुरुआत करने की बात कही है।

Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned